मोदी ने खादी, योग, सैनिक, सरदार पटेल, गुरू नानक देव पर की मन की बात

modis-man-ki-baat
नयी दिल्ली 29 अक्टूबर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि बढ़ती लोकप्रियता की बदौलत अब खादी गरीबों और बुनकरों के जीवन में आमूल-चूल बदलाव लाकर उन्हें सशक्त बनाने का जरिया बन गया है। श्री मोदी ने आकाशवाणी से प्रसारित मासिक कार्यक्रम ‘मन की बात ’ में कहा कि पहले ‘खादी फाॅर नेशन’ था फिर यह ‘खादी फाॅर फैशन’ बना और अब ‘खादी फाॅर ट्रांसफार्मेशन’ बन गया है और गरीबों एवं बुनकरों के जीवन में बदलाव लाकर उन्हें सशक्त बनाने का माध्यम बनकर उभरा है। यह ग्रामोदय में बड़ी भूमिका अदा कर रहा है। खादी की बढ़ती लोकप्रियता का जिक्र करते उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष के मुकबाले इस वर्ष खादी और हस्तशिल्प की कुल बिक्री में करीब 90 प्रतिशत वृद्धि हुई है। दिवाली के दौरान खादी गिफ्ट कूपन की बिक्री में लगभग 680 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गयी है। गत 17 अक्तूबर को ‘धनतेरस’ के दिन अकेले दिल्ली के खादी ग्रामोद्योग भवन स्टोर में लगभग एक करोड़ बीस लाख रुपये की रिकार्ड बिक्री हुई है। उन्होंने कहा कि इसका फायदा बड़ी संख्या में बुनकर एवं ग़रीब तथा हथकरघा पर काम करने वाले परिवारों को मिला होगा । प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने मन की बात कार्यक्रम में खादी और योग पर जोर देते हुए इसे गरीबों के सशक्तीकरण का कारगर औज़ार बताया तथा सैनिकों के गौरवगान के साथ सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर ‘रन फॉर यूनिटी’ में भाग लेने का आह्वान किया। प्रधानमंत्री ने गुरू नानक देव की जयंती की शुभकामनायें दी। श्री मोदी ने आकाशवाणी पर 11 बजे प्रसारित मन की बात कार्यक्रम में स्वामी विवेकानंद और भगिनी निवेदिता के स्वच्छता में योगदान काे भी याद किया। उन्होंने कहा कि खादी अपनी बढ़ती लोकप्रियता की बदौलत अब गरीबों और बुनकरों के जीवन में आमूल-चूल बदलाव लाकर उन्हें सशक्त बनाने का जरिया बन गया है। पहले ‘खादी फाॅर नेशन’ था फिर यह ‘खादी फाॅर फैशन’ बना और अब ‘खादी फाॅर ट्रांसफार्मेशन’ बन गया है और गरीबों एवं बुनकरों के जीवन में बदलाव लाकर उन्हें सशक्त बनाने का माध्यम बनकर उभरा है। यह ग्रामोदय में बड़ी भूमिका अदा कर रहा है। उन्होंने कठिन और विषम परिस्थितियों में देश की सीमाओं की रखवाली करने और शांति का दूत बनकर दुनिया भर में भारत का नाम रोशन वाले सुरक्षा बलों के जवानों के प्रति सम्मान व्यक्त किया और जम्मू कश्मीर के गुरेज सेक्टर में जवानों के साथ इस बार मनायी गयी दीवाली को याद करते हुए उन्होंने कहा कि यह अनुभव उनके लिए अविस्मरणीय है। श्री मोदी ने देशवासियों से जवानों के अनुभव जानने तथा उनकी गौरवगाथा सुनने को कहा । प्रधानमंत्री ने गत 24 अक्तूबर को विश्वभर में संयुक्त-राष्ट्र दिवस के आयोजनों का जिक्र करते हुए उन्होंने संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन में भारतीय सैनिकों की गौरवपूर्ण हिस्सेदारी का उल्लेख किया और कहा कि वे दुनिया में भारत का नाम रोशन कर रहे हैं। इस समय लगभग सात हज़ार भारतीय सैनिक संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों से जुड़े हैं और संख्या के हिसाब से ये पूरे विश्व में तीसरे स्थान पर हैं। यही नहीं भारत ने लगभग 85 देशों के 85 हजार शांति सैनिकों को प्रशिक्षित भी किया है।
उन्होंने कहा कि महात्मा गाँधी और गौतम बुद्ध की इस भूमि से हमारे बहादुर शांति-रक्षकों ने विश्वभर में शांति और सद्भाव का संदेश पहुँचाया है। श्री मोदी ने कांगो में अपना सर्वस्य न्यौछावर करने वाले परमवीर चक्र से सम्मानित कैप्टन गुरूवचन सिंह सलारिया और 72 वर्ष की आयु में नामीबिया में अभियान के लिए फोर्स कमांडर बनाये गये लेफ्टिनेंट जनरल प्रेमचंद और साइप्रस में शांति अभियान का नेतृत्व करने वाले जनरल थिमैय्या को याद करते कहा कि भारत शांतिदूत के रूप में हमेशा से विश्व में शांति, एकता और सद्भावना का संदेश देता रहा है। श्री मोदी ने बच्चों को नये भारत के निर्माण का असल नायक बताते हुए उन्हें योग और आयुर्वेद के माध्यम से स्वस्थ जीवनशैली अपनाने का पाठ पढ़ाया। उन्होंने 14 नवंबर को प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिवस पर मनाये जाने वाले बालदिवस पर बच्चों को शुभकानाएं भी दीं। उन्होंने बच्चों को नए भारत के निर्माण का नायक बताया तथा इस बात पर चिंता जतायी कि पहले जो बीमारियाँ खासकर मधुमेह बड़ी उम्र के लोगों को शिकार बनाती थीं वे आजकल बच्चों में भी दिखने लगी हैं। उन्होंने बच्चों को खुले मैदान में खेलने, लिफ्ट के बजाय सीढ़ियों का इस्तेमाल करने आैर रोज आधा घंटा योग करने की सलाह दी।प्रधानमंत्री सिक्खों के प्रथम गुरु नानक देव की जयंती पर देशवासियों काे बधाई देते हुए उनका आह्वान किया कि वे जगद्गुरू के जातीय समानता और महिला सशक्तीकरण के संदेश को अपना कर समाज एवं मानवता के कल्याण के मार्ग पर चलें। उन्होंने कहा कि गुरु नानक देव सिक्खों के पहले गुरु ही नहीं बल्कि वह जगद्गुरु हैं। आने वाले वर्ष 2019 में, हम गुरु नानक देव जी का 550वाँ प्रकाश वर्ष मनाने जा रहे हैं। इस मौके पर हम उनके सन्देश और शिक्षा के मार्ग पर आगे बढ़ने की कोशिश करें। श्री मोदी ने 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के मौेेके पर आपसी सद्भावना के लिये देश भर में ‘रन फॉर यूनिटी’ का आयोजन किये जाने की आज घोषणा की और देशवासियों का इसमें भाग लेने का आह्वान किया। प्रधानमंत्री ने 31 अक्टूबर को पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें भी याद किया।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...