बिहार : राजकीय बुनियादी विघालय में 4 गुरूजी से चलता है 1 से 8 कक्षा

  • 1 गुरूजी के जिम्मे 2 कक्षा,  नाम के अनुरूप मॉडल स्कूल में कार्य नहीं

basic-education-and-bihar
नालंदा (हरनौत).सीएम नीतीश कुमार का गृह क्षेत्र है हरनौत.हरनौत प्रखंड में है चौरिया ग्राम पंचायत. इसमें है राजकीय बुनियादी विघालय, गोकुलपुर.इसमें 11 सृजित पद है. 3 गुरूजी पदोन्नति पाकर चले गये. यहां ट्रेनिंग लेने गये हैं 4 गुरूजी. ट्रेनिंग के बाद 1 गुरू जी 2018  में 3 गुरूजी 2019 में लौटेंगे. 4 गुरूजी से विघालय चल रहा है. यहां 291विघार्थी पंजीकृत हैं. 11 विघालयों का संयोजन करने वाले संकुल समन्वयक राकेश कुमार ने कहा कि राजकीय बुनियादी विघालय में 11 पद सृजित है. यहां से 3 गुरूजन पदोन्नत पाकर चले गये हैं. 4 गुरूजन  ट्रेनिंग लेने गये हैं. ट्रेनिंग के बाद 2018 में 1 और 2019 में 3 गुरूजी लौटेंगे. तबतक 4 गुरूजनों ही शिक्षण कार्य करते रहेंगे. यहां पर 1 से 8 कक्षा तक की पढ़ाई होती है. कुल 291 बच्चे पंजीकृत हैं.आगे कहते हैं कि शिक्षकों की कमी है. 1 गुरू 1 समय में 2 कक्षा संभालते हैं. सरसरी निगाह और पड़ताल करने से जानकारी मिली है कि 4 गुरूजनों में 1 हेड मास्टर और 1 संकुल समन्वयक है. हेड मास्टर सरकारी कार्य में व्यस्त रहते हैं और संकुल समन्वयक 11स्कूलों के शिक्षकों का समन्वयक करते करते परेशान रहते हैं.वहीं शेष 2 प्रखंड शिक्षक हैं.

 शिक्षकों और छात्र व छात्राओं से मिली जानकारी के अनुसार शिक्षा विभाग की घोर अकर्मणयता है. प्राइवेट स्कूलों से टक्कर लेने वाली सरकारी विघालयों में पाठ्य पुस्तकों का अभाव है. विघालयों में पाठ्य पुस्तके उपलब्ध नहीं रहने के कारण विघार्थियों  की जिंदगी चौपट हो रही है.मजे की बात है कि गुरूजनों  द्वारा बच्चों को तोता की तरह रटाकर छमाही परीक्षा दिला दिये हैं. 1 से 5 कक्षा के बच्चे जमीन पर और6 से 8 कक्षा के बच्चे बेंच पर बैठकर पढ़ते और परीक्षा देते हैं. इस बीच जानकारी मिली है कि नवम्बर 2017 के अंतिम सप्ताह से पाठ्य  पुस्तके मिलनी शुरू हो गयी .जो दिसम्बर माह में जारी है. वह भी जरूरत से कम ही दी जा रही है.मजे की बात है कि तीन के बदले दो ही पुस्तक दी जा रही है.इसी के बल पर बच्चे फाइनल परीक्षा देंगे.

राजकीय बुनियादी विघालय से सटे ही मॉडल उच्च  विघालय भवन निर्माण किया गया है. निर्माण कार्य पूर्ण करके चाभी बीईओ को सौंप दी गयी है. 2 साल के बाद बीईओ ने मॉडल उच्च विघालय को चालू करने की कवायद जनवरी 2017 में की गयी.जो 12 माह के बाद शुरू नहीं हो सका. गोकुलपुर मुसहरी के रूपन कुमार का कहना है मॉडल उच्च विघालय में 9,10 के साथ 10 जमा 2 की पढ़ाई होनी है जिसे चालू नहीं किया जा सका है.इसके कारण दर्जनों बच्चे 10 जमा 2 की पढ़ाई बिहार शरीफ में 17 किलोमीटर दूरी तय करके करते हैं. यहीं हाल आठवीं कक्षा उर्त्तीण करने के बाद 7 किलोमीटर सोनसा और गोनमा जाकर  9वीं और 10 वीं करते हैं.  अपने घर के सीएम अंकल नीतीश कुमार से ज्योति,अंजलि, पूजा,सुनैना,काजल आदि ने कहा कि अंकल हमलोगों की समस्या को देखते हुए मॉडल उच्च विघालय ऑपन करके न्यू ईयर गिफ्ट दें.
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...