सामाजिक कुरीतियों के खात्मे से होगा विकास : नीतीश


development-by-eradication-of-social-evils
लखीसराय 29 दिसंबर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ शुरू किये अभियान को आगे बढ़ाने के लिए अगले महीने बनने वाली मानव श्रृंखला में अधिक से अधिक लोगों को शामिल होने की अपील करते हुये आज कहा कि सामाजिक कुरीतियों को जड़ से उखाड़ फेंकने से विकास कार्य प्रभाव में आएगा। श्री कुमार ने विकास समीक्षा यात्रा के दूसरे चरण में हलसी प्रखंड के अगत गांव का भ्रमण किया और कृषि विज्ञान केंद्र मैदान में रिमोट के जरिये 94 करोड़ रुपये की 47 योजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया। उन्होंने जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि उनकी सरकार का सिद्धांत न्याय के साथ परिवार, समाज और हर तबके का विकास करना है। उन्होंने कहा कि दहेज प्रथा और बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीतियों को समाप्त करने से ही विकास कार्य प्रभाव में आएगा।मुख्यमंत्री ने कहा, “21 जनवरी 2017 को चार करोड़ लोगों ने शराबबंदी के खिलाफ मानव श्रृंखला बनाकर अपना समर्थन दिया था। मैं आपसे अपील करता हूं कि 21 जनवरी 2018 को बाल विवाह एवं दहेज प्रथा के खिलाफ मानव श्रृंखला में शामिल होकर अपना संकल्प व्यक्त कीजिए। इन सामाजिक कुरीतियों से छुटकारा पाने से जो परिवर्तन आएगा उसका असर चारों ओर दिखाई देगा।” श्री कुमार ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती 02 अक्टूबर से बाल विवाह एवं दहेज प्रथा के खिलाफ अभियान शुरू किया गया है। बाल विवाह के बाद गर्भधारण से जीवन खतरे में पड़ जाता है। महिलाएं मौत की शिकार होती हैं और जो बच्चे जन्म लेते हैं, वे बौनेपन एवं अन्य बीमारियों के शिकार होते हैं। बाल विवाह एवं दहेज प्रथा एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि यदि लोग मन बना लें कि दहेज वाली शादियों में शामिल नहीं होंगे तो इस कुरीति पर रोक लगाने में अवश्य मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि जिस गांव के हर घर तक बिजली, पानी, शौचालय, पक्की गली और नाली पहुंच जाये वहां बाल विवाह हो, यह कितना खतरनाक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि शराबबंदी के फैसले पर लोगों ने कहा कि इससे सरकार को पांच हजार करोड़ रुपये का नुकसान होगा। लेकिन, शराबबंदी से 10000 करोड़ रुपए की बचत हो रही है, जो पहले शराब पर बर्बाद होता था। आज हर जगह शांति है और लोग बचे हुए पैसे को कपड़े, भोजन, शिक्षा पर खर्च कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि दो नंबरी लोग अभी भी अवैध शराब के धंधे में संलिप्त हैं लेकिन इन दो नंबरी धंधेबाजों को पकड़ने के लिए सरकार की नजर है। श्री कुमार ने कहा कि हाल ही में वैशाली और रोहतास जिले में जहरीली शराब पीने से लोगों की मौत हुई है। यह समझने और समझाने की बात है कि दो नंबरी लोग जहरीली शराब पिलाकर लोगों को मार सकते हैं। यह भी ध्यान रखना है कि लोग कोई दूसरे मादक द्रव्य का सेवन न करने लगें। उन्होंने कहा कि पुलिस महानिरीक्षक, मद्य निषेध का गठन किया गया है, जो हर चीजों पर नजर रखेंगे। बिजली ट्रांसफार्मर के बोर्ड पर पुलिस और मद्य निषेध विभाग का नंबर रहेगा, जिस पर लोग सूचना दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि केवल सरकार की सख्ती से नहीं बल्कि लोगों की चेतना और अभियान से सफलता मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन योजनाओं का शिलान्यास हुआ है, उसे समय पर पूरा किया जाएगा। विकास यात्रा के दौरान बताए गए काम में हलसी में चिलिंग प्लांट का निर्माण, महादलित परिवार की समस्याओं का समाधान, सामुदायिक भवन के निर्माण जैसे काम किए गए हैं, जो काम शेष रह गये हैं, वह भी पूरा हो जाएगा। स्टेडियम निर्माण की मांग को पूरा करने के लिए कृषि विभाग के प्रधान सचिव जरूरी कार्रवाई कर कला एवं संस्कृति विभाग से समन्वय स्थापित करेंगे और प्रस्ताव कैबिनेट में लाया जाएगा क्योंकि यह जमीन कृषि फार्म का है, जो कि कृषि के अलावा दूसरे काम में प्रयोग नहीं हो सकता है। श्री कुमार ने कहा कि बिहार की 76 प्रतिशत आबादी की आजीविका का आधार कृषि है। हाल ही में तीसरे कृषि रोडमैप की शुरुआत की गई है। सरकार जैविक खेती को बढ़ावा देना चाहती है। फल एवं सब्जी की खेती को सहकारिता के माध्यम से जोड़ा जाएगा ताकि किसानों को इसका लाभ मिल सके। इसके ऊपर सहकारी यूनियन होगा और पूरे राज्य के लिए फेडरेशन बनेगा। सब्जी की खेती के लिए जैविक कॉरिडोर का निर्माण हो रहा है और सरकार इसके लिए इनपुट सब्सिडी भी देगी। इस मौके पर जल संसाधन तथा योजना एवं विकास मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह, ग्रामीण विकास एवं संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार, श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिन्हा, विधायक प्रहलाद यादव, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, पुलिस महानिदेशक पी. के. ठाकुर ने भी सभा को संबोधित किया। इस अवसर पर कृषि विभाग के प्रधान सचिव सुधीर कुमार, ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत, मुख्यमंत्री के सचिव अतीश चन्द्रा एवं मनीष कुमार वर्मा, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह, लखीसराय के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक सहित वरीय पदाधिकारी एवं बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...