राजनाथ का भारत-बंगलादेश सीमा पर सतर्कता बढ़ाने पर जोर

rajnath-emphasizes-on-intensifying-vigil-across-indo-bangla-border
कोलकाता 07 दिसंबर, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने घुसपैठ और विध्वंसकारी तत्वों को रोकने के लिए केंद्रीय और राज्य बलों के समन्वय से भारत-बंगलादेश सीमा के पास सतर्कता बढ़ाने पर जोर दिया है। असम और पश्चिम बंगाल समेत क्षेत्र के सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक की अध्यक्षता के बाद श्री सिंह ने संवाददाताओं को बताया कि देश की सीमा आैर यहां के लोगों की सुरक्षा के मामले में उनकी बैठक सार्थक और सकारात्मक रही। उन्होंने कहा, “हमने देश की सीमा अौर सीमावर्ती क्षेत्रों में रह रहे लोगों के विकास और सुरक्षा के बारे में बातचीत और चर्चा की।” श्री सिंह ने कहा कि उन्होंने भारत-पाकिस्तान, भारत-चीन, भारत-म्यांमार सीमा से सटे राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ भी ऐसी चर्चा की है। उन्होंने कहा, “बंगलादेश हमारा मित्र देश है, इसके बावजूद हमने सीमावर्ती क्षेत्रों में सतर्कता बढ़ाने पर जोर दिया है ताकि आतंकवादी, तस्कर, जाली मुद्रा और पशु तस्करी आदि पर रोक लगायी जा सके।” गृह मंत्री ने कहा, “भारत की बंगलादेश के साथ 4096 किलोमीटर लंबी सीमा है जिसमें से 3006 किलोमीटर में बाड़ लगी हुई है लेकिन 1090 किलोमीटर सीमा पर नदियों और अन्य भौगोलिक स्थितियों के कारण बाड़ नहीं लगायी जा सकती। इस क्षेत्र के लिए रोशनी की व्यवस्था बेहतर करने, कैमरे लगाने और अन्य तकनीकी समाधानों के जरिये सुरक्षा कड़ी की जाएगी।”  उन्होंने बताया कि बैठक में रोहिंग्या शरणार्थियों की समस्या और पूर्वोत्तर में उग्रवाद पर भी चर्चा की गयी।  श्री सिंह ने कहा कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने सीमावर्ती क्षेत्रों में अपराध पर नियंत्रण के लिए पूरा सहयोग करने का आश्वासन दिया है।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...