बिहार : चुनौती स्वीकार करें : नीरज

swachchata-abhiyan-mokama
मोकामा(पटना). एक  दिवसीय स्वच्छता सशंक्तिकरण कार्यशाला में  मोकामा प्रखंड के बीडीओ नीरज कुमार ने शुक्रवार को सर्वशिक्षा अभियान के खचाखच भरे सभागार में कहा कि हमलोग कार्यरत हैं कि मोकामा प्रखंड में रहने वाले लोगों के एक भी घर शौचालय से अछूता नहीं रहे.  मोकामा के परिसर में स्थित सर्वशिक्षा अभियान के सभागार  में बीडीओ आगे कहा कि स्वामी  चिदानंद सरस्वती महाराज जी के नेतृत्व में निर्मित   ग्लोबल  इंटरफेथ वाॅश अलायंस जीवा  के साकेत कुमार व   रंजीत कुमार सिंह ने शानदार ढंग से एक दिवसीय स्वच्छता सशंक्तिकरण कार्यशाला आयोजित किया गया। वहीं बीडीओ नीरज कुमार ने कहा कि मोकामा में  रहने वाले एवं स्वच्छता अभियान से जुड़े लोगों के समक्षचुनौती आ गयी है हमलोग चाहते हैं कि पटना जिले में 323 पंचायत है। 16 फरवरी 2016 को मोकामा प्रखंड के रामपुर डुमरा ओडीएफ हो गया है। हमलोग चाहते हैं कि शेष 14 पंचायत भी ओडीएफ हो जाये ताकि मोकामा अव्वल हो सके। एक भी घर नहीं छूटे जहां पर शौचालय निर्माण न हुआ हो। एक घर में चार भाई हैं और एक भाई के घर में शौचालय है तो अन्य तीन भाइयों का  भी शौचालय बनेगा। इसमें किसीतरह से संदेह करने की जरूरत नहीं है। हम आपलोगों केसाथ हैं। किसी तरह की शिकायत हो तो बेधड़क मिलने आ जायें। वहीं प्रोत्साहन राशि12 हजार रू0 मिलने में दिक्कत हो तो उसका समाधान शीघ्र कर देंगे।

आप लोग इस तरह के संदेश को सकारात्मक ढंग से लोगों के बीच में प्रसार करें 2 अक्टूबर 2019 तक भारत को स्वच्छ भारत बनाना है। इसमें आपलोगों का योगदान अनिवार्य है। इसके पहले सर्वप्रथम कार्यशाला में आगत अतिथियों का परियोजना  पदाधिकारी रंजीत कुमार सिंह ने स्वागत किया गया।इसकेबाद रंजीत कुमार सिंह ने कार्यषाला में शामिल लोगों का परिचय कराया गया। सभी लोग  एक- दूसरे का परिचय बेहतरढंग से किया। इसके बाद ग्लोबल इंटरफेथ वाॅश अलायंस जीवा के बारे में शो दिखाया गया इसके बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी गयी। इसके बाद इन मुद्दों को उठाया गया , वर्तमान समय में स्वच्छता की आवश्कता क्यों?स्वच्छता का इतिहास के बारे में बताया गया। स्वच्छ भारत मिशन की मार्गदर्शिका, इच्छा नामक वृत चित्र, फिल्म एवं    प्रेजेंटेशन की रोल स्वच्छता में समुदाय की भागीदारी की आवश्यकता का संचालन साकेत कुमार ने किया। फोलो अप एक्शन में कार्यशाला में शामिल लोगों ने जीवा सेआग्रह किया है कि तीन दिवसीय कार्यशाला आयोजित करेंताकि विशेष जानकारी मिल सकें। इस तरह का आयोजन टोला स्तर पर भी आयोजित किया जाये। 

निशा देवी कहती हैं कि हम लोगों की अपेक्षा और चाहत हैंकि गांव में घर घर शौचालय बन जाये। जिससे गंदगी न हो।बच्चे स्वस्थ रहे। आसपास में गंदगी न हो। साफ पानी पीने के लिये मिले। कूड़ा इधर उधर न फेंका जाये। कूड़ा को कूड़ादानी में डाला जाये। नाला का ढक्कन बंद हो जिससे मच्छरों के आंतक से बच  सके। रविशंकर कश्यप ने कहा कि कार्यशाला के दौरान अपेक्षा है कि स्टार्ट शहर की तरह हमारा समाज स्मार्ट हो। बिना किसी भेद -विभेद के सबको शौचालय  निर्माण व  निर्गत हो।गो ग्रीन इंडिया की तर्ज पर हमारा समाज हरा-भरा हो सके।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...