विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 07 जनवरी

ग्रामीणों से रू-ब-रू हुए राज्यमंत्री श्री मीणा, एक दर्जन निर्माण कार्यो का लोकार्पण
  • सैकड़ो हितग्राही लाभाविंत हुए 

jhabua news
उद्यानिकी तथा खाद्य प्रसंस्करण (स्वतंत्र प्रभार) वन राज्यमंत्री श्री सूर्यप्रकाश मीणा ने रविवार को विदिशा तहसील के ग्राम बालाबरखेडा मेें आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए। यहां उन्होंने लाखो की लागत से पूर्ण कराए गए निर्माण कार्यो का लोकार्पण किया। विभिन्न योजनाओं के तहत लाभांवित होेने वाले हितग्राहियों को उनके द्वारा सामग्री एवं सहायता राशि और स्वीकृति आश्य के प्रमाण पत्र प्रदाय किए। इस दौरान राज्यमंत्री श्री मीणा ने ग्रामवासियों के अलावा दूर-दराज से आए आमजनोें की समस्याओं को सुना और निराकरण की कारगर पहल उनके द्वारा कराई गई है। राज्यमंत्री श्री मीणा ने ग्राम पचमढ़ी में विद्युतीकरण कार्यो को शीघ्र कराने हेतु विधायक स्वेच्छानिधि से पांच लाख रूपए देने की घोषणा की। इसके अलावा तीन स्थलों पर सार्वजनिक चबूतरा निर्माण हेतु क्रमशः पचास-पचास हजार रूपए एवं ग्राम में एक पुलिया निर्माण कार्य हेतु डेढ लाख रूपए की राशि स्वीकृत करने की भी घोषण की है। राज्यमंत्री श्री मीणा ने आमजनों की समस्याओं को सुना और खण्ड स्तरीय समस्या निवारण उक्त शिविर में विभिन्न योजनाओं से लाभांवित होने वाले हितग्राहियों को मौके पर लाभांवित किया है। उन्होंने हितग्राहियों को सामग्री प्रदाय की उनमें चारा कुट्टी मशीन, श्रवण यंत्र, ट्रायसाइकिल, साइकिल, ऋण पुस्तिकाएं, लाड़ली लक्ष्मी के स्वीकृति पत्र के अलावा 77 मरीजों को दीनदयाल अन्त्योदय उपचार कार्ड प्रदाय किए है। राज्यमंत्री श्री मीणा ने ग्रामीणजनों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राज्य सरकार के द्वारा हर वर्ग का ध्यान रखा गया है। बच्चे गांव में ही शिक्षा प्राप्त करें इसके लिए शिक्षा के बेहतर प्रबंध सुनिश्चित किए गए है। बारहवीं में 75 नही अब 70 प्रतिशत अंक लाने पर उच्च शिक्षा प्राप्ति हेतु समस्त फीस राज्य सरकार के द्वारा वहन की जाएगी। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि वे शिक्षा और स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें। बच्चे नियमित स्कूल आएं उन्हें शासन की प्रदाय की जा रही योजनाओं का लाभ मिल रहा है कि नही पर भी नजर रखें। राज्यमंत्री श्री मीणा ने किसानों से कहा कि वे अपनी फसलों का बीमा प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत अनिवार्यतः कराएं। किसानों पर कोई संकट ना हो इसके लिए राज्य सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किए जा रहे है। प्रदेश मंे लागू की गई मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना की आशातीत सफलता को देखते हुए अन्य राज्यों के द्वारा लागू की जा रही है। उन्होंने हाल ही में एक नवम्बर से तीस नवम्बर तक पंजीकृत किसानों को भावांतर योजना के तहत प्रदाय की गई राशि का भी उल्लेख किया। उन्होंने रबी फसलों का भी पंजीयन योजना के तहत कराने की अपील किसानों से की। राज्यमंत्री श्री मीणा ने कहा कि ग्रामवासियों की समस्याओं के निदान हेतु जिले में विभिन्न स्तर पर नवाचार किए जा रहे है। उन्होंने समाधान एक दिन को भी रेखांकित करते हुए रात्रि चैपालों के आयोजन पर प्रकाश डाला। एसडीएम श्री रविशंकर राय ने कहा कि ग्रामीणजनों को शासकीय योजनाओं की जानकारी सुगमता से मिल सकें इन्ही उद्वेश्यों को लेकर इस प्रकार के आयोजन समुचित तहसील के ग्रामों में किए जा रहे है। उन्होंने ग्रामवासियों से कहा कि गंाव में योजनाओं के क्रियान्वयन के संबंध में जो भी लापरवाही ग्रामवासियों को दिखती है तो वे अविलम्ब वरिष्ठ कार्यालय अथवा एसडीएम कार्यालय को शीघ्र अवगत कराएं ताकि उसका समाधान शीघ्र किया जा सकें। उन्होंने गांव के सुपात्रों को योजना का लाभ दिलाने की पात्रता को बखूबी गांव वाले जानते है इसलिए स्वेच्छा से आगे आकर पात्रताधारियों को लाभ दिलाने में सहयोगी बनें की अपील की। जनपद सीईओ श्रीमती वंदना शर्मा ने कहा कि ग्रामीण विकास विभाग के माध्यम से अनेक योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है जिसमें आमजनों की सहभागिता शामिल होने से कार्यो को तीव्र गति से समय सीमा के पूर्व सम्पन्न किया जा सकता है। उन्होंने ग्रामसभाओं में अधिक से अधिक सहभागिता निभाने पर बल देते हुए कहा कि गांव के विकास हेतु जो भी आवश्यकताएं है उन्हें सूचीबद्व कर ग्रामसभा के प्रस्तावों में शामिल कराएं तदानुसार ग्राम को प्राप्त होने वाली राशि से वरीयताक्रम के कार्यो को पूर्ण कराएं। उन्होंने जल संवर्धन के कार्यो में बढ चढ़कर भाग लेने का भी आग्रह किया। कार्यक्रम स्थल पर कृषि उपज मंडी शमशाबाद के अध्यक्ष श्री कल्याण सिंह धाकड़, श्री दिनेश बघेल, श्री तेजेन्दर सिंह, श्री प्रहलाद सिंह यादव, श्री भगवान सिंह धाकड, श्री शैलेन्द्र सिंह ठाकुर के अलावा विदिशा मार्केटिंग अध्यक्ष श्री कल्याण सिंह रघुवंशी तथा जनपद उपाध्यक्ष श्री मनोज मीणा के अलावा अन्य जनप्रतिनिधि तथा खण्ड स्तरीय अधिकारी, कर्मचारी और ग्रामीणजन मौजूद थे।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...