मधुबनी : सुंदरवन में ताकते रहते तुझको शाम-सबेरे गाने पर झूम उठे दर्शक - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 30 अक्तूबर 2019

मधुबनी : सुंदरवन में ताकते रहते तुझको शाम-सबेरे गाने पर झूम उठे दर्शक

kali-puja-rajnagar
राजनगर/मधुबनी (आर्यावर्त संवाददाता) बिहार सरकार कला,संस्कृति व युवा विभाग,जिला प्रशासन मधुबनी एवं महाकाली पूजा समिति के संयुक्त तत्वाधान में सुंदरवन श्मशान भूमि परिसर में चल रहे काली पूजा महोत्सव सह सांस्कृतिक उत्सव में मशहूर सूफी गायक विनोद ग्वार ने मैं बालक तू माता शेरांवालीये है अटूट ये नाता शेरावालिये भक्ति गीत से शुरुआत की उसके बाद छाप तिलक सब छीनी,ताकते रहते तुझको शाम-सबेरे,तेरा सजदा-सजदा,दमादम मस्त कलंदर सहित कई गाने पर लगातार प्रस्तुति देकर उपस्थित दर्शकों को झूमने पर मजबूर कर दिया| कार्यक्रम से पूर्व अंचलाधिकारी शुभेन्द्र कुमार झा ने  विनोद ग्वार व जीतेन्द्र चौरसिया को पाग-दोपट्टा से स्वागत किया। इस अवसर पर जीतेन्द्र चौरसिया की पटना से आई टीम के कलाकारों द्वारा एक-से एक लोकनृत्य पर कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...