जमशेदपुर : घास खाती महिला के वीडियो की हकीकत, आर्यावर्त टीम की पड़ताल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 अप्रैल 2020

जमशेदपुर : घास खाती महिला के वीडियो की हकीकत, आर्यावर्त टीम की पड़ताल

जमशेदपुर में घास खाती महिला का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. आर्यावर्त संवाददाता ने खुद जाकर इस मामले पर महिला से बात की.महिला ने कहा वो घास की सब्जी नहीं खा रही थी बल्कि साग खा रही थी.
aaryaavart-investigation
जमशेदपुर (आर्यावर्त संवाददाता) : सोशल मीडिया पर एक आदिवासी महिला द्वारा घास की सब्जी खाने का वीडियो वायरल हुआ था. जिसके बाद लोगों में ये वीडियो चर्चा का विषय बन गया.  आर्यावर्त संवाददाता की टीम ने वायरल वीडियो के पड़ताल के लिए महिला के घर पहुंची और जमीनी हकीकत क्या है. इसकी पड़ताल की. आदिवासी महिला अनिता मुंडरी ने कहा कि वो घास की सब्जी नहीं खा रही थी बल्कि साग खा रही थी. आदिवासी में उस साग को बर साग कहते हैं. अनिता मुंडरी ने बताया कि समझने वाले ने गलत समझ लिया है. महिला अनिता मुंडरी बागबेड़ा थाना क्षेत्र में सोमायझोपड़ी की रहने वाली है. उसका पति ठेकेदारी में काम करता है इन दिनों लॉकडाउन होने से वो घर पर है.  आर्यावर्त संवाददाता की टीम जब महिला से घास की सब्जी खाने की जानकारी ली तो आदिवासी महिला ने बताया है कि वो जिस साग की सब्जी खा रही थी और अपने बच्चे को खिला रही थी वो घास नहीं बर साग है. जो नदी तालाब के किनारे पाया जाता है. जिसे हम पहले से खाते आ रहे हैं. वहीं, महिला से जब पूछा गया कि वीडियो में घास की सब्जी खाने की बात बताई जा रही है. महिला ने बताया कि समझने वाले ने गलत समझा है पूर्वी सिंहभूम के जिला उपायुक्त रवि शंकर शुक्ला से इस मामले में जब फोन पर पूछा गया तो उन्होंने बताया कि ऐसी कोई जानकारी उन्हें नहीं है. उन्होंने इसकी जांच कराने की बात कही और महिला को अनाज मुहैया कराने की बात कही है. इस बीच पत्रकारों की पहल पर महिला और उसके आस-पास रहने वाले गरीब परिवार को समाज सेवी प्रोफेसर ने एक हफ्ते का अनाज लोगों के बीच बांटा. प्रोफेसर पारस नाथ  मिश्रा ने बताया है कि वर्तमान हालात में नैतिक मूल्यों का पालन करते हुए समाज के सभी लोगों को कदम बढ़ाने की जरूरत है.

कोई टिप्पणी नहीं: