बिहार : केंद्रीय कैबिनेट का निर्णय खाद्य असुरक्षा को बढ़ाने वाला: राजाराम सिंह - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

बिहार : केंद्रीय कैबिनेट का निर्णय खाद्य असुरक्षा को बढ़ाने वाला: राजाराम सिंह

new-bill-for-farmer-insecurity-rajaram-singh
पटना 31 दिसंबर, अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय महासचिव व अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (एआईकेएससीसी) के वर्किंग ग्रुप के सदस्य व बिहार-झारखंड के प्रभारी राजाराम सिंह ने ने अपनी दिल्ली रवानगी से पूर्व मोदी सरकार के केंद्रीय कैबिनेट के उस निर्णय को खाद्य असुरक्षा, भुखमरी को बढ़ाने वाला दुर्भाग्यपूर्ण निर्णय बताया है जिसमें गन्ना के अलावा चावल, गेहूं, मक्का, जौ और ज्वार से इथेनाॅल बनाने को प्रोत्साहित करने का फैसला लिया गया है।  उन्होंने कहा कि इसीलिए खेती में कानून बनाकर कारपोरेट को लाने की बात की जा रही है. सरकार का निर्णय कि खाद्य पदार्थों से अखाद्य पदार्थों का निर्माण होगा, बिलकुल गलत है. वह भी ऐसे देश में जो ग्लोबल ‘हंगर इंडेक्स’ में बांग्लादेश, पाकिस्तान व नेपाल से भी नीचे है. भूख के भूगोल को और विस्तृत करने वाला और विनाशकारी है. सरकार को मजदूर-किसानों गरीबों की कोई चिंता नहीं है और वह लगातार कंपनियों को लाभ पहुंचाने के लिए नित नए निर्णय ले रही है. यह देश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है.


कोई टिप्पणी नहीं: