बिहार : खाद्य पदार्थों से इथेनाॅल निर्माण का फैसला गलत : कुणाल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

बिहार : खाद्य पदार्थों से इथेनाॅल निर्माण का फैसला गलत : कुणाल

  • बिहार के किसानों को होगा भारी नुकसान.

ethenol-production-wrong-dissision-kunal
पटना 31 दिसंबर , भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने केंद्रीय कैबिनेट द्वारा गन्ना के अलावा चावल, गेहूं, मक्का, जौ और ज्वार से इथेनाॅल के निर्माण ॅैॅॅपफैसले का विरोध किया है और कहा है कि मोदी सरकार द्वारा लिए जा रहे काॅरपोरेटपरस्त फैसलों की कड़ी में एक और फैसला है. कहा कि प्रचारित किया जा रहा है कि इससे बिहार में गन्ना उद्योग को लाभ मिलेगा, जो पूरी तरह से झूठ है. आखिर खाद्य पदार्थों से सरकार इथेनाॅल का निर्माण क्यों करना चाहती है? इस फैसले से खाद्यान्न का भारी संकट होगा, जो बिहार और पूरे देश की गरीब जनता के लिए एक आपदा से कम नहीं होगा. बिहार की नीतीश सरकार उद्योगों के नाम पर कुछ कर तो नहीं सकी, लेकिन खाद्य पदार्थों से इथेनाॅल का निर्माण कर बिहार में औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन की बात कह रही है. यह केवल काॅरपोरेट कंपनियों के हित में लिया गया फैसला है, जिसे अविलंब वापस लिया जाए. बिहार सरकार राज्य में शराब बंदी का दावा करती है, लेकिन दूसरी ओर इथेनाॅल के निर्माण के लिए रास्ते तलाश रही है. हमारी मांग है कि इस फैसले को कैबिनेट वापस ले. बिहार में कृषि आधारित उद्योगों की आवश्यकता है. आवश्यकता है कि खाद्य पदार्थों का उत्पादन और कैसे बढ़े ताकि भुखमरी के बढ़ते भूगोल पर रोक लगाई जा सके.

कोई टिप्पणी नहीं: