बहुगुणा ने किये विभागों का बंटवारा.


मुख्यमंत्री के पास रहेंगे महत्वपूर्ण विभाग


राज्य मंत्रिमण्डल के गठन के लगभग 17 दिन बाद बहुगुणा मंत्रिमण्डल में विभागों का बंटवारा काफी कशमकश के बाद हो पाया। विभागों के बंटवारें में मुख्यमंत्री ने जहां अपने पास महत्वपूर्ण विभाग रखे हैं। वहीं मंत्रियों को विभागों के बंटवारें में उनकी इच्छा का ध्यान रखा गया है। 

मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा के पास सुराज भ्रष्टाचार उन्मूलन एवं जनसेवा, गोपन, कार्मिक, ग्रह, सतर्कता, न्याय, सामान्य प्रशासन, आवास आबकारी, ऊर्जा, लोक निर्माण, राज्य संपत्ति, सूचना, वन एवं पर्यावरण, उच्च शिक्षा, चिकित्सा शिक्षा, तकनीकि शिक्षा, कृषि शिक्षा, औद्योगिक विकास एवं पुनर्गठन के साथ ही बाह्य सहायतित परियोजनाएं अपने पास रखा है, वहीं इसके साथ ही भारत-नेपाल के बीच बहने वाली नदियों पर परियोजनाओं का विभाग भी मुख्यमंत्री के पास ही रहेगा। वहीं बहुगुणा कैबिनेट में दूसरे नंबर पर रही डा. इंदिरा हृदयेश पाठक को वित्त, वाणिज्य कर, स्टाम्प एवं निबंधन, मनोरंजनकर, संसदीय कार्य, विधायी, निर्वाचन, जनगणना, भाषा और प्रोटोकॉल विभाग दिया गया है। वहीं तीसरे स्थान पर यशपाल आर्य को राजस्व एवं भूप्रबंधन, आपदा प्रबंधन एवं पुर्नवास, सिंचाई, ग्रामीण अभियंत्रण सेवाएं, बाढ़ नियंत्रण, जलागम् प्रबंधन एवं सहकारिता विभाग का कार्यभार दिया गया है। पूर्व मुख्यमंत्री बी.सी. खण्डूडी को हराकर विधानसभा मंे पहुंचे मंत्री सुरेन्द्र सिंह नेगी को चिकित्सा, स्वास्थ्य, परिवार कल्याण, आयुष, आयुष शिक्षा, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, जैव प्रौद्योगिकी, सैनिक कल्याण, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग दिया गया है। पांचवें मंत्री के रूप में प्रीतम सिंह को खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, लद्यु सिंचाई, ग्राम्य विकास और पंचायती राज विभाग दिया गया है। श्रीमती अमृता रावत को पर्यटन, उद्यान, संस्कृति, महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास तथा वैकल्पिक उर्जा विभाग दिए गए हैं। राजधानी के धर्मपुर क्षेत्र से विधायक के बाद मंत्री बने दिनेश अग्रवाल को नियोजन, सूचना प्रौद्योगिकी, खेल तथा युवा कल्याण विभाग दिया गया है। 

निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में विधानसभा में आए मंत्री प्रसाद नैथानी को कृषि, कृषि विपणन, विद्यालयी शिक्षा, प्रौढ़ शिक्षा, संस्कृत शिक्षा तथा पेयजल विभाग दिया गया है। उत्तराखण्ड क्रांति दल के एकमात्र विधायक प्रीतम सिंह पंवार को शहरी विकास, शहरी रोजगार एवं गरीबी उन्मूलन, पशुपालन, मत्सय पालन, फलोउद्योग, नागरिक सुरक्षा एवं होमगार्ड के साथ ही जेल विभाग भी दिया गया है। लालकुआं से निर्दलीय विधायक के रूप में चुनाव लड़ने वाले हरीश चंद्र दुर्गापाल को श्रम, सेवायोजन, लद्यु उद्योग, खादी एवं ग्रामोद्योग, दुग्ध विकास विभाग दिया गया है। जबकि बसपा से चुनाव जीते सुरेन्द्र राकेश को समाज कल्याण एवं परिवहन विभाग दिया गया है।

(राजेन्द्र जोशी)
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...