आइसा-इनौस सहित वाम छात्र-युवा संगठनों के 8 जून के बिहार बंद को माले का समर्थन.

  • आर्ट्स टाॅपर गणेश सुशील मोदी के नजदीकी भाजपा नेता जवाहर प्रसाद सिंह द्वारा संचालित विद्यालय से रखता है संबंध, पूरे मामले की उच्चस्तरीय न्यायिक जांच करवाये सरकार.

cpi-ml-8-june-bihar-band
पटना 5 जून, भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने आइसा-इनौस सहित अन्य वाम छात्र-युवा संगठनों द्वारा इंटर परीक्षा में हुई व्यापक धांधली के खिलाफ आगामी 8 जून के बिहार बंद को भाकपा-माले द्वारा सक्रिय समर्थन देने का फैसला किया है. कहा कि शिक्षा के साथ जो लगातार खिलवाड़ हो रहा है, उसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. पिछली बार टाॅपर घोटाला के बाद भी सरकार सुधरी नहीं और इस बार फिर हम देख रहे हैं कि इंटर परीक्षाफल में भारी अनियमितता है व आर्ट्स में गलत तरीके से टाॅपर बनाये गये. यह साबित करता है कि बिहार सरकार शिक्षा में सुधार के प्रति तनिक भी गंभीर नहीं है. उन्होंने कहा कि एक बार फिर से नीतीश सरकार छोटी मछलियों को निशाना बना कर राजनीतिक संरक्षण में पल रहे शिक्षा माफिया व फर्जीवाड़ेे के पूरे तंत्र को बचाने की ही कोशिश कर रही है. पिछली बार भी उसने जनता के जबरदस्त आंदोलनों के बावजूद आज तक टाॅपर घोटाले की सीबीआई जांच की अनुशंसा नहीं की है. उन्होंने जिला कमिटियों का आह्वान किया है कि शिक्षा के सवाल पर सरकार के रूख का पर्दाफाश करें और 8 जून के बिहार बंद को सफल बनाने में पूरी तरह छात्र-नौजवानों का सहयोग करें. सरकार 1. स्क्रूटनी का ढोंग बंद कर निःशुल्क पुनर्मूल्यांकन कर पुनः परीक्षाफल प्रकाशित करे, 2.पूरे मामले की उच्चस्तरीय न्यायिक जांच कर दोषियों पर करवाई की जाए, 3. शिक्षा मंत्री और बिहार बोर्ड के अध्यक्ष को बर्खास्त कर स्थायी शिक्षाविद अध्यक्ष की नियुक्ति की जाए, 4. बिहार में समान स्कूल प्रणाली लागू की जाए तथा 5. कक्षा 1 से पास फेल प्रणाली लागू की जाए.

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...