राजद विधायकों के साथ तेजस्वी का राजभवन कूच

tejaswi-walks-with-his-mla-to-governors-house
पटना 26 जुलाई  बिहार में श्री नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री पद की शपथ के लिए निर्धारित समय में अचानक हुये बदलाव से नाराज राष्ट्रीय जनता दल (राजद) विधायक दल के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने पार्टी एवं समर्थक दलों के विधायकों के साथ आज आधी रात को पैदल राजभवन के लिए कूच किया। श्री यादव ने राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह, प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे, पूर्व वित्त मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीकी, पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव, पूर्व सहकारिता मंत्री आलोक मेहता, श्री जगदानंद सिंह, विधायक भाई वीरेंद्र, राजद के राष्ट्रीय प्रवक्ता मनोज झा के साथ ही पार्टी के सभी विधायकों, कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं एवं भारी संख्या में समर्थकों के साथ राजभवन के लिए कूच किया। राजद विधायक दल के नेता ने कहा, “राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी ने हमें सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए कल 11 बजे मिलने का समय दिया था लेकिन श्री कुमार के मुख्यमंत्री पद की शपथ के लिए निर्धारित कल शाम पांच के समय में अचानक बदलाव कर सुबह 10 बजे किया जाना उचित नहीं है। यदि ऐसा हुआ तो हम न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे।” उन्होंने कहा कि शपथ ग्रहण के समय में बदलाव करने का स्पष्ट कारण यह है कि जदयू के कई विधायक श्री कुमार के विरोध में हैं। श्री यादव ने कहा कि बिहार में सबसे अधिक (80) विधायकों वाली पार्टी राजद को सबसे पहले सरकार बनाने का दावा पेश करने और बहुमत सिद्ध करने का मौका दिया जाना चाहिए था लेकिन राज्यपाल की ओर से ऐसा नहीं करने का फैसला लोकतंत्र की हत्या है। उन्होंने आरोप लगाते हुये कहा कि श्री कुमार पहले से ही भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) से मिले हुये थे। 

राजद नेता ने श्री कुमार पर उनकी पार्टी जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के विधायकों को बंधक बनाने का आरोप लगाते हुये सवालिया लहजे में कहा कि श्री कुमार ने आधी रात को हड़बड़ी में सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए राजभवन क्यों गये। उन्होंने कहा कि ईमानदार व्यक्ति किसी से डरता नहीं है। उन्होंने सरकार बनाने के लिए समर्थक विधायकों की संख्या के बारे में पूछे जाने पर कहा कि कांग्रेस, माले, निर्दलीय सदस्यों के साथ ही जदयू के 50 प्रतिशत से अधिक विधायक राजद के समर्थन में हैं। उल्लेखनीय है कि बिहार के मुख्यमंत्री पद से श्री नीतीश कुमार के इस्तीफे के तीन घंटे के अंदर ही भाजपा ने उन्हें नई सरकार बनाने के लिए समर्थन देने की घोषणा कर दी और उसके एक घंटे के बाद ही मुख्यमंत्री आवास में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के विधायक दल की बैठक हुई जिसमें श्री कुमार को विधिवत नेता चुन लिया गया। इसके बाद श्री कुमार ने राजग विधायकों एवं समर्थकों के साथ राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया। 

Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...