राजग सरकार में शिक्षा के क्षेत्र में सुधार होना तय : उपेन्द्र कुशवाहा

education-will-emprove-upendra-kushwaha
पटना 23 सितम्बर, केन्द्रीय मानव संसाधन विकास राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने आज कहा कि लंबे समय के बाद दिल्ली एवं बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) की सरकार बनी है और अब शिक्षा के क्षेत्र में सुधार होने से कोई नहीं रोक सकेगा। राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केन्द्रीय मंत्री श्री कुशवाहा ने यहां पार्टी के प्रदेश कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में आज देश में सुधार और विकास के लिए कई कदम उठाये जा रहे हैं। देश बड़े परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है खासकर शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिए गंभीर प्रयास किये जा रहे हैं। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि करीब 27 वर्ष के बाद केंद्र और बिहार में एक ही गठबंधन की सरकार बनी है। दोनों ही सरकार मिलकर काम कर रही है और अब सुधार होना तय है। उन्होंने कहा कि बिहार में भी शिक्षा के क्षेत्र में सुधार के लिए अब कदम उठाये जा रहे हैं। 


श्री कुशवाहा ने कहा कि केन्द्र सरकार गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए बचनवद्ध है । इसके लिए कई राज्यों में शैक्षणिक कार्य में लगे शिक्षकों को कोई दूसरी जिम्मेवारी नहीं दी जाती है और इसक परिणाम है कि मिड डे मील में शिक्षकों को नहीं लगाया जाता है। उन्होंने कहा कि मिड डे मील में शिक्षकों के लगाये जाने से छात्रों की पढ़ायी पर असर पड़ रहा था। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि इसी को देखते हुए मिड डे मील योजना से शिक्षकों को अलग कर दिया गया है। बिहार सरकार भी इस दिशा में कदम उठा रही है। इसके अध्ययन के लिए एक टीम भी गठित की गयी है जो शीघ्र ही अन्य राज्यों का दौरा करेगी। उन्होंने कहा कि बिहार में पहले डिग्री लाओ और नौकरी पाओ की व्यवस्था थी लेकिन अब इसमें बदलाव की बात हो रही है, जो शिक्षा के क्षेत्र में एक शुभ संकेत है। श्री कुशवाहा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को लेकर अधिकारियों के साथ कई बार बैठक की है और उनका यह मानना है कि शिक्षा के बिना विकास की बात बेमानी है। राज्य में शिक्षा की बेहतरी के लिए समाज के लोगों को भी आगे आना होगा। 

केन्द्रीय मंत्री कहा कि उनकी पार्टी की ओर से 15 अक्टूर को पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में “शिक्षा सुधार संकल्प महासम्मेलन” आयोजित किया गया है। इस महासम्मेलन के माध्यम से शिक्षा की बेहतरी का संकल्प लिया जायेगा। श्री कुशवाहा ने एक सवाल के जवाब में कहा कि निजी विद्यालयों की मनमानी रोकने के लिए केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के माध्यम से एक दिशा-निर्देश जारी किया गया है। जो विद्यालय प्रबंधन इस दिशा- निर्देश का पालन नहीं करेंगे उस विद्यालय की मान्यता रद्द कर दी जायेगी। उन्होंने कहा कि निजी विद्यालय मनमानी नहीं करे इसके लिए राज्य सरकार को भी कदम उठाना होगा। केन्द्रीय मंत्री ने एक अन्य सवाल के जवाब में कहा कि हरियाणा के गुरुग्राम स्थित एक निजी विद्यालय में छात्र प्रद्युम्न की हत्या की जांच की जा रही है और रिपोर्ट आने के बाद स्कूल प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी । दोषी पाये जाने पर विद्यालय की मान्यता भी रद्द की जायेगी । 
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
loading...