छत्तीसगढ़ : जनता की मांगों को लेकर शिवसेना करेगी विधानसभा का घेराव

shivsena-protest-in-chhatigarh
कांकेर।  प्रदेश कि जन विरोधी वादा खिलाफ भाजपा सरकार के विरोध में एवं जनता की विभिन्न समस्याओं को लेकर शिवसेना प्रदेश उपप्रमुख चंद्रमौली मिश्र के नेतृत्व में शीतकालीन सत्र के दौरान 20 दिसम्बर 2017 को  विधानसभा का घेराव करेगी। शिवसेना के उपप्रमुख ने बताया कि  प्रदेश कि भाजपा सरकार को उसका वादा याद दिलाने एवं विभिन्न जनसमस्याओं, मांगों को लेकर ब्लाक स्तर से लेकर जिला एवं राज्य स्तर पर कई बार धरना प्रदर्शन किया जा चुका है।  लेकिन प्रदेश कि जनविरोधी भाजपा सरकार को प्रदेश एवं प्रदेश कि जनता से कोई वास्ता नही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश कि भाजपा सरकार मात्र मंत्रियों, प्रशासनिक अधिकारियों एवं भाजपाईयों के हित पोषण में लगी हुई है।  शिवसेना द्वारा 20 दिसम्बर के विधानसभा में सरकार के समक्ष निम्न मांगों को पूरा करने हेतु रखा गया है जिसमें प्रमुख रूप से यह है कि प्रदेश कि भाजपा सरकार अपने वादा अनुसार प्रदेश के प्रत्येक किसानों के धान का प्रति क्विंटल सर्मथन मूल्य 2100 रू. दे सरकार अपने घोषणा दिनांक से धान का बोनस प्रति क्विंटल 300 रू. प्रत्येक किसान को दे, प्रदेश में विद्युत दर वृद्धि वापस लिया जाये, प्रदेश में किसानों को रबी फसल लेने कि अनुमति प्रदान किया जाये। प्रदेश के बांध, नदी, तालाबों का पानी कृषि कार्य हेतु आरक्षित किया जाये।  उद्योगों के नाम पर किसानी जमीन जबरदस्ती अधिग्रहण बंद किया जाये। प्रदेश के सुखाग्रस्त क्षेत्र में युद्ध राहत कार्य प्रारंभ किया जाए। साथ ही प्रदेश में पूर्ण नशाबंदी घोषित किया जाए। आदि माँगों के साथ विधानसभा का घेराव करेगी।  चंद्रमौली मिश्र ने कहा कि अगर इस बार भाजपा सरकार द्वारा कोई ध्यान नही दिया जाता है तो शिवसेना द्वारा पुनः पूरे प्रदेश में प्रदेश कि जनता को साथ लेकर पंचायत स्तर से आंदोलन प्रारंभ  करेगी।
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...