मोदी मौजूदा चुनौती पर कुछ नहीं बोले : सोनिया गांधी

modi-does-not-say-anything-on-the-current-challenge-sonia
नयी दिल्ली, 07 फरवरी, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर हुई चर्चा के के लोकसभा में आज दिये जवाब को राजनीतिक भाषण करार दिया और कहा कि जनता के समक्ष मौजूद चुनौतियां के समाधान के बारे में कोई बात नहीं की गयी है। श्रीमती गांधी ने संसद भवन परिसर में पत्रकारों के सवालों पर कहा “प्रधानमंत्री ने कुछ भी नया नहीं कहा। उन्होंने पुरानी बातें दोहरायी। लोग जानना चाहते हैं कि उनके रोजगार का क्या हुआ है। लोग अपने उज्ज्वल भविष्य के बारे में जानना चाहते हैं।” कांग्रेस अध्यक्ष ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा “हम प्रधानमंत्री का भाषण सुनना चाहते थे। हमने तीन सवाल पूछे हैं। प्रधानमंत्री एक घंटे से ज्यादा बोले लेकिन राफेल डील के बारे में एक शब्द नहीं कहा। राजनैतिक भाषण किया, कैंपेन स्पीच थी। मगर देश के सामने जो मुद्दे हैं उसके बारे में कुछ नहीं कहा।”  उन्होंने कहा कि श्री मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था लेकिन अब 24 घंटे में सिर्फ 450 युवाओं को रोजगार मिलता है। इस पर उन्होंने एक शब्द नहीं कहा। किसानों को सही दाम देने की बात है लेकिन इस पर कुछ नहीं बोले। उनका कर्ज माफ करने की बात करने की बजाय श्री मोदी मधुमक्खी और बांस की बात कर रहे हैं। सवाल किसानों के भविष्य और उनकी रक्षा का है लेकिन प्रधानमंत्री ने इस बारे में कुछ नहीं बोला। उनका हर भाषण कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस नेताओं के बारे में होता है।  श्री गांधी ने कहा कि राफेल सौदे पर रक्षा मंत्री कहती हैं कि यह गोपनीय सौदा है और इस बारे में देश को कुछ नहीं बातएंगे। यह सबसे बड़ा सौदा है और वायुसेना की रीढ़ है। उन्होंने कहा “हम सिर्फ सवाल पूछ रहे हैं। बस ये बता दीजिए कि आपने ये डील स्वयं बदली, हाँ य़ा ना? पैसा कम दिया या ज्यादा दिया और जो परमिशन आपने लेनी थी, आपने ली, हाँ या ना? सवाल बहुत आसान है, मगर जवाब नहीं मिल रहा है।”  उन्होंने कहा कि श्री मोदी ने 70 सालों की बात की है लेकिन आज भारतीय जनता पार्टी की सरकार है और श्री मोदी शायद भूल गए हैं कि वह देश के प्रधानमंत्री हैं, विपक्ष के नेता नहीं। उन्होंने कहा कि “उनसे राफेल सौदे, किसानों के भविष्य और रोजगार का सवाल पूछा जा रहा है लेकिन वह जवाब नहीं दे रहे हैं। वह कांग्रेस पार्टी की बात कर रहे हैं, वो ठीक है, उसकी जगह है, मगर ये उसकी जगह नहीं। आप जनसभा में ये बात करना चाहते हैं कीजिए, मगर यहाँ पर आपको देश को जवाब देना है। यहाँ आपको आरोप नहीं लगाने हैं, यहाँ आपको देश से सवाल नहीं पूछने, यहाँ आपको देश को जवाब देना है और देश आपसे सवाल पूछ रहा है आपको जवाब देना है। किसानों का भविष्य कैसा होगा, युवाओं को आप 2 करोड़ रोजगार कैसे देंगे और राफेल डील में घपला हुआ हाँ या नहीं?”
Share on Google Plus

About आर्यावर्त डेस्क

एक टिप्पणी भेजें
Loading...