लीवर कैंसर से बचाव का मार्ग प्रशस्त हुआ. - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 23 अगस्त 2012

लीवर कैंसर से बचाव का मार्ग प्रशस्त हुआ.


वैज्ञानिकों ने एक ऐसी जीन की खोज की है जो लीवर कैंसर से जुड़े प्रोटीन का वाहक है। इस खोज से लीवर कैंसर से बचाव का मार्ग प्रशस्त हुआ है। जार्जिया हेल्थ साइंसेज यूनिवर्सिटी कैंसर सेंटर के मुख्य अध्ययनकर्ता डॉ. अंतोजलजी होएज्सको ने बताया कि उत्तेजना के लिए एक अहम अभिग्राही टीआरईएम है। विषाणु या जीवाणु संक्रमण से लड़ने जैसे मामले में इसकी भूमिका उपयोगी है।

अध्ययनकर्ताओं ने चुहिया पर अध्ययन कर लीवर कोशिकाओं पर टीआरईएम के प्रभाव के बारे में आंकड़े जुटाए और उपचार के लिए संभावित स्रोतों की पहचान की। 

कोई टिप्पणी नहीं: