2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटी झामुमो - Live Aaryaavart

Breaking

सोमवार, 24 जुलाई 2017

2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटी झामुमो

jmm-preparation-for-2019-election
धनबाद 24 जुलाई, झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के कार्यकारी अध्यक्ष एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज कहा कि उनकी पार्टी वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुट गई है। श्री सोरेन ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि जिस तरह पहले राज्य में लोकसभा की 14 सीटों में से 13 झामुमो और उसके सहयोगियों के पास थी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए अभी से तैयारी शुरू कर दी गई है ताकि सभी 14 सीटें झामुमो को मिले। पूर्व मुख्यमंत्री ने केंद्र और झारखंड की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर जमकर हमला बोला और कहा दोनों सरकारें मिलकर रेललाइन और देश की कोयला नगरी झरिया को उजाड़ना चाहती हैं। उन्होंनें कहा कि सरकार अडानी और अम्बानी को लाभ पहुंचाने के लिए धनबाद-चंद्रपुरा रेललाइन को एक साजिश के तहत बंद कराया है। सरकार दोनों उद्योगपतियो को कोयला खदान सौपना चाहती है लेकिन झामुमों सरकार को इस मकसद में सफल नहीं होने देगी। श्री सोरेन ने कहा कि रेललाइन के मुद्दे पर सरकार लोगों को दिग्भ्रमित कर रही है। इस मुद्दे पर कोल इंडिया और डीजीएमएस दोनों संस्थानों की रिपोर्ट अलग-अलग है। उन्होंने धनबाद में खुले आम कोयले की चोरी पर कहा कि सरकार की फुल सुरक्षा में कोयले की चोरी का काम चल रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री ने छोटानागपुर काश्तकारी (सीएनटी) और संथालपरगना काश्तकारी (एसपीटी) अधिनियम के प्रावधानों का उल्लंघन कर धनबाद सहित पूरे झारखंड में जमीन खरीदने के संबंध में पूछे जाने पर कहा कि इस मामले में सरकार चाहे तो जांच करा ले। उन्होंने कहा कि दरोगा बहाली में छात्रों को दौड़ा दौड़ा कर सिर्फ पीटा जा रहा है। सरकार की मंशा यहाँ के छात्रों को नौकरी देने की नहीं है। सरकार सिर्फ बहार से आये लोगो के नौकरी दे रही हैं। श्री सोरेन ने कहा कि किसानो की आत्महत्या पर सरकार को पहले ही अवगत कराया गया था लेकिन सरकार की लापरवाही से आज किसान आत्महत्या करने को मजबूर है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री आवास के महज दो तीन किलोमीटर की दूरी पर किसान आत्महत्या कर रहे है लेकिन मुख्यमंत्री रघुवर दास ने किसान के घर जाने की जरुरत नहीं समझी। उन्होंने कहा कि रघुवर सरकार ने मृतक किसान के परिजनों को दो लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की लेकिन मुआवजे की राशि आजतक उनके परिजनों को नहीं मिली। 

एक टिप्पणी भेजें
Loading...