तेजस्वी ने रैली को सफल बनाने के लिए जनता के नाम लिखा धन्यवाद पत्र - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 28 अगस्त 2017

तेजस्वी ने रैली को सफल बनाने के लिए जनता के नाम लिखा धन्यवाद पत्र

ejaswi-thanks-to-peole-write-letter.
पटना 28 अगस्त, बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष और राज्य के पूर्व उप मुख्मयंत्री तेजस्वी यादव ने राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की ओर से आयोजित ‘भाजपा भगाओ-देश बचाओ’ रैली को सफल बनाने के लिए राज्य की जनता को धन्यवाद देते हुए एक खुला पत्र लिखा है। श्री यादव ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर पत्र की प्रति साझा करते हुए ट्वीट किया, “ मैं देश और बिहार के तमाम प्रगतिशील युवाओं से आग्रह करता हूँ कि देश की एकता, अखंडता और प्रगति के लिए एक हो। युवा ही देश की तक़दीर बदलेंगे।” नेता प्रतिपक्ष ने पत्र में राज्य की जनता का धन्यवाद देते हुए कहा कि 27 अगस्त को पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में आयोजित विशाल महारैली ने पहले के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए। देश में व्याप्त हिंसा, नफ़रत और निराशा के माहौल के ख़िलाफ़ आयोजित आदरणीय लालू जी की ‘भाजपा भगाओ, देश बचाओ’ रैली ऐतिहासिक पहल सिद्ध हुई जिसमें देश के तक़रीबन सभी विपक्षी दलों के नेता मौजूद थे। इस रैली को ऐतिहासिक मंचासीन विशिष्ट नेताओं ने ही नहीं बल्कि ज़बरदस्त झंझटो से जूझते और सरकारी षड्यंत्रों को झेलते हुए लाखों-लाख की संख्या में उमड़े वंचितो और ग़रीबों के जनसैलाब ने रिकॉर्डतोड़ सफल बनाया है। विशेषकर जब बिहार के 18 जिले बाढ़ की विभीषिका से प्रभावित है। श्री यादव ने रविवार की रैली को सफल बनाने में पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को भी धन्यवाद और बधाई देते हुए कहा, “आपके निःस्वार्थ समर्पण, प्रेम, समर्थन और सहयोग ने एक बार फिर हमें पूरी कृतज्ञता से आप सब के सम्मुख नतमस्तक कर दिया है। काश यह सम्भव होता कि हम व्यक्तिगत रूप से आप सब को धन्यवाद कह पाते। आप सबों के स्नेह, आशीर्वाद और सामाजिक न्याय के संघर्ष में योगदान को मैं हाथ जोड़कर कोटि-कोटि प्रणाम करता हूँ। आपकी संख्या ने अगर हमें नव ऊर्जा से भरकर उत्साहित और स्फूर्तिमय किया है तो निर्धन वर्ग और उत्पीड़ित समाज के शत्रुओं को अति हतोत्साहित कर दिया है। हम सामाजिक एवं आर्थिक न्याय और ग़रीबों की बेहतरी के लिए कंधे से कंधा मिलाकर सदैव संघर्ष करते रहेंगे।

एक टिप्पणी भेजें
Loading...