गरीब, किसान कल्याण योजनाओं की लोकप्रियता जीत की कुंजी होगी : प्रधानमंत्री - Live Aaryaavart

Breaking

शनिवार, 10 फ़रवरी 2018

गरीब, किसान कल्याण योजनाओं की लोकप्रियता जीत की कुंजी होगी : प्रधानमंत्री

farmer-welfare-change-result-modi
नयी दिल्ली, नौ फरवरी, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज भाजपा सांसदों से केंद्रीय बजट में घोषित कल्याण योजनाओं की जानकारी आम लोगों के बीच पहुंचाने को कहा, साथ ही इस बात पर जोर दिया कि इन योजनाओं को लोकप्रिय बनाना एवं प्रचार प्रसार करना आगामी चुनाव में उनकी जीत की कुंजी साबित होगी । प्रधानमंत्री ने यह बात आज भाजपा संसदीय दल की बैठक में कही । बैठक में मौजूद रहे नेताओं के अनुसार प्रधानमंत्री ने कहा कि सांसदों की सफलता पार्टी के प्रदर्शन पर निर्भर करती है, ऐसे में उन्हें सरकार की गरीबोन्मुखी, किसान कल्याण योजनाओं को जनता के बीच लोकप्रिय बनाना चाहिए और वे इसके बारे में अपने निर्वाचन क्षेत्रों में लोगों को अगले एक माह में जानकारी दें । प्रधानमंत्री की टिप्पणी साल 2018 में कुछ राज्यों में आसन्न विधानसभा चुनाव और 2019 के लोकसभा चुनाव के संदर्भ में महत्वपूर्ण है। बैठक के बाद संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने संवादाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री ने बजट के बारे में विस्तार से चर्चा की और विशेष तौर पर किसानों और गरीबों पर इसके सकारात्मक प्रभावों तथा स्वास्थ्य बीमा योजना से 10 करोड़ परिवारों को होने वाले लाभ का जिक्र किया । भाजपा संसदीय दल की बैठक ऐसे समय में हुई है जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फलस्तीन, यूएई और ओमान की यात्रा पर जा रहे हैं । पार्टी संसदीय दल की बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राफेल सौदे की जानकारी सार्वजनिक करने की मांग और इसको लेकर आरोप लगाने के लिये कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा । शाह ने आज राहुल की राजनीति के तौर तरीकों को अलोकतांत्रिक करार दिया और कहा कि यह बात प्रधानमंत्री के भाषण में कांग्रेस पार्टी के बाधा डालने से स्पष्ट होती है।  साथ ही उन्होंने राफेल लड़ाकू विमान सौदे से जुड़ी बातों को राष्ट्रीय हित से जुड़ा बताते हुए इस पर राजनीति करने के लिए भी कांग्रेस अध्यक्ष की आलोचना की।

संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने बताया कि बैठक में अमित शाह ने कहा, ‘‘राहुल जी की राजनीति का तरीका अलोकतांत्रिक है । इसलिये प्रधनमंत्री के भाषण के दौरान इस प्रकार से व्यवधान डाला गया ।’’ उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री मोदी ने जब लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देना शुरू किया तब कांग्रेस और वामदलों के सदस्य आसन के समीप आकर नारेबाजी करने लगे और पूरे भाषण के दौरान शोर शराबा करते रहे । भाजपा संसदीय दल की बैठक ऐसे समय में हुई है जब दो दिन पहले ही संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर जवाब देते हुए प्रधानमंत्री ने कांग्रेस पर तीखा प्रहार किया । आज की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी, पार्टी अध्यक्ष शाह के अलावा केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अरूण जेटली, पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत अनेक नेता शामिल हुए । राफेल विमान सौदे पर कांग्रेस के आरोपों के संदर्भ में अनंत कुमार ने कहा कि सरकार राफेल सौदे के मुख्य बिन्दुओं को बता चुकी है तथा और बातें बतायेंगे । लेकिन हर एक तत्व को लेकर चर्चा करना देशहित में कितना उचित है, यही बात राष्ट्रीय अध्यक्ष ने बैठक में कही। संसद में प्रधानमंत्री के भाषण के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को कई सवाल पूछे थे । उन्होंने कहा था कि प्रधानमंत्री एक घंटे से अधिक बोले लेकिन राफेल सौदे के बारे में कुछ नहीं कहा । कांग्रेस राफेल सौदे को वर्तमान सरकार में सबसे बड़ा घोटाला होने का आरोप लगा रही है।

केंद्रीय बजट पर चर्चा का जवाब देते हुए कल वित्त मंत्री अरूण जेटली ने लोकसभा में राफेल विमान सौदे को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष पर तीखा प्रहार किया था। उन्होंने राहुल के वार पर पलटवार करते हुए कहा था कि इस सौदे की जानकारी सार्वजनिक करने की मांग करके राहुल गांधी भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ गंभीर समझौता कर रहे हैं और इस बारे में उन्हें वरिष्ठ नेता प्रणब मुखर्जी से सीखना चाहिए । जेटली ने कहा था, ‘‘ मेरा आरोप है कि वह :कांग्रेस अध्यक्ष: भारत की सुरक्षा से गंभीर समझौता कर रहे हैं।’’ वर्ष 2018..19 के केंद्रीय बजट पर चर्चा का उत्तर देते हुए जेटली ने कहा था कि कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप रहे है, ऐसे में अब वह राजग सरकार में भ्रष्टाचार तलाशने का प्रयास कर रही है। उसे कुछ नहीं मिला तो राफेल का मुद्दा उठा रहे हैं । इस बारे में कांग्रेस सदस्य शशि थरूर द्वारा सवाल उठाने पर जेटली ने कहा था, ‘‘ आपकी पार्टी के अध्यक्ष ने ऐसे आरोप राष्ट्रीय सुरक्षा की कीमत पर गढ़े हैं ।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...