दरभंगा : मधुबनी की पम्मी महिला वर्ग में विजेता, पुरूष वर्ग में किशन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 6 अगस्त 2018

दरभंगा : मधुबनी की पम्मी महिला वर्ग में विजेता, पुरूष वर्ग में किशन

अंतर महाविद्यालय पुरूष व महिला शतरंज प्रतियोगिता का समापन
pammi-in-girl-kishan-in-boys-chaimpion-chess-lnmu
दरभंगा (आर्यावर्त डेस्क)  दरभंगा नगर निगम के महापौर बैजंती खेड़िया ने आज यहां कहा कि मनोरंजन के लिए खेल बहुत ही जरूरी है. क्योंकि खेल हमारी आंतरिक क्षमता को निखारता है और इससे कामयाबी की राह अत्यन्त सुगम हो जाती है. महापौर अंतर महाविद्यालय शतरंज महिला एवं पुरुष टुर्नामेंट 2018 के समापन अवसर पर बतौर मुख्य अतिथि अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कही. उन्होंने कहा कि पहले के जमाने में लड़कियों के लिए सिर्फ इंदौर गेम हुआ करते थे, लेकिन आज के बदलते समय में काफी कुछ बदल गया है और लड़कियां आउटडोर गेम में भी बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रही है. यह अच्छी बात है. उन्होंने कहा कि बदलते जमाने के साथ खेल का दायरा काफी विस्तृत होता चला जा रहा है और खेल-खेल में भी अच्छे से कैरियर बन रहे हैं. कार्यक्रम में अपने विचार रखते हुए ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के कुलानुशासक सह खेल पदाधिकारी डॉ. अजय नाथ झा ने अपने संबोधन में खेल के क्षेत्र में विश्वविद्यालय की निरंतर हो रही प्रगति की चर्चा करते हुए कहा कि वर्तमान समय में विश्वविद्यालय स्वर्णिम दौर से गुजर रहा है. अपने संबोधन में उन्होंने खेल व संस्कृति के क्षेत्र में छात्र-छात्राओं के लगातार बढ़ रहे रुझान की तारीफ करते हुए इस बात को लेकर चिंता व्यक्त की कि इस टुर्नामेंट में महज एक दर्जन अंगीभूत महाविद्यालयों की टीम ने अपनी सहभागिता दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि वह अपने स्तर से इस बात की पड़ताल करेंगे कि आखिर प्रतिभागियों की संख्या इतनी कम क्यों हो रही है. स्वागत प्रधानाचार्य डॉ. प्रेम कुमार प्रसाद ने किया. समारोह का संचालन वनस्पति विज्ञान विभाग की अध्यक्ष डॉ. संध्या झा ने किया, जबकि धन्यवाद ज्ञापन महाविद्यालय की क्रीड़ा अध्यक्ष डॉ. सुनीला दास ने किया.
एक टिप्पणी भेजें