गाेवा में मुख्यमंत्री के साथ 11 मंत्रियों ने ली शपथ - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 19 मार्च 2019

गाेवा में मुख्यमंत्री के साथ 11 मंत्रियों ने ली शपथ

11-ministers-sworn-in-with-chief-minister-in-goa
पणजी 19 मार्च, गाेवा में सोमवार देर रात विधानसभा अध्यक्ष प्रमोद सावंत के शपथ ग्रहण के साथ ही 11 नये कैबिनेट मंत्रियों ने भी शपथ ली। राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने शहर के पास डोना पॉला स्थित राजभवन में डॉ. सावंत को पद और गोपनीयता की शपथ दिलायी। इस अवसर पर 11 नये मंत्रियों को भी शपथ दिलायी गयी जिनमें विधायक सुदीन धवलीकर, विजय सरदेसाई, बाबू अजगांवकर, रोहण खोंटे, गोविंद गौड़े, विनोद पालयेकर, जयेश सलगांवकर, मौवीन गोडिन्हो, विश्वजीत राणे, मिलिंद नाईक और नीलेश काबरेल शामिल हैं। मंत्रियों के बीच अब तक मंत्रालयों का वितरण नहीं किया गया है लेकिन श्री धवलीकर और श्री सरदेसाई को उप मुख्यमंत्री बनाये जाने की संभावना है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय स्तर के नेताओं और गठबंधन सहयोगी महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी तथा गोवा फॉरवर्ड पार्टी के बीच सोमवार पूरे दिन चली चर्चा और बैठकों के बाद मध्यरात्रि के बाद डाॅ. सावंत और 11 मंत्रियों ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। सूचना एवं प्रचार विभाग की आेर से जारी सूचना के मुताबिक शपथ ग्रहण समारोह कल रात 11 बजे होना था लेकिन इसमें लगभग तीन घंटे की देरी हो गयी और यह देर रात दो बजे हुआ। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह कल मुंबई में रहें। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और पार्टी महासचिव बी एल संतोष 17 मार्च को ही यहां पहुंच गये तथा कई बैठकें की। उन्होंने एमजीपी और जीएफपी का समर्थन भी हासिल कर लिया। दोनों दलों के तीन-तीन विधायक हैं और उनके समर्थन के बिना सरकार बनाये रखना संभव नहीं है क्योंकि भाजपा के पास 36 सदस्यीय विधानसभा में केवल 12 विधायक हैं। गौरतलब है कि राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे, केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाईक, विद्युत मंत्री नीलेश काबरेल और भाजपा की प्रदेश इकाई के प्रमुख एवं राज्यसभा सांसद विनय तेंदुलकर भी मुख्यमंत्री पद के लिए होड़ में थे लेकिन डॉ. सावंत ने सबको पीछे छोड़ दिया। 

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...