बिहार : बाढ़ पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि ऐसे हालात किसी के हाथ में नहीं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 29 सितंबर 2019

बिहार : बाढ़ पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि ऐसे हालात किसी के हाथ में नहीं

दीघा में गंगा विहार है जलभराव से लोगों की हालत खराब है
nitish-on-rain-disaster-bihar
पटना,29 सितम्बर. बिहार में लगातार बारिश के चलते सड़कों पर बुरी तरह भरे पानी जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. इसके अलावा बाढ़ जैसी स्थिति ने अब तक 27 लोगों की जान ले ली है. वहीं जरूरी सेवाएं भी बुरी तरह प्रभावित हुई हैं.वहीं इसपर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का कहना है कि 2 दिन से बारिश न थमने के चलते गंगा नदी का स्तर लगातार बढ़ रहा है.लेकिन मौके पर लोगों की मदद के लिए पूरे इंतजाम किए गए हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह की स्थिति किसी के हाथ में नहीं होती ये प्राकृतिक चीज है. पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए इंतजाम कर दिए गए हैं. इसके अलावा पीड़ितों के लिए सामुदायिक रसोई का इंतजाम भी किया गया.  हर तरफ पानी ही पानी है. निचले इलाके डूब चुके हैं. पटना के बहादुरपुर पुल के पास एनडीआरएफ़ टीम रेस्क्यू चला रही है. लोग अपना सामान ठेले पर लादकर सुरक्षित वापस लौट रहे हैं. राजेंद्र नगर और एस के पुरी जैसे इलाके सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं. मौसम विभाग ने 30 सितंबर तक शहर में भारी बारिश होने का अनुमान जाहिर किया है. सूबे में तबाही की बारिश हो रही है. बारिश की वजह से जान-माल का काफी नुकसान पहुंचा है. भारी बारिश ने क्षेत्र में भारी तबाही मचा दी है. भारी बारिश से राज्य में 27 लोगों की मौत हो गई. इसको लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शर्मनाक बयान दिया है. उन्होंने कहा कि बाढ़ और बारिश किसी के हाथ में नहीं है. यह प्राकृतिक आपदा है. उन्होंने कहा कि प्रभावित क्षेत्र में मौके पर प्रशासन मौजूद हैं. सभी जरूरी अरेंजमेंट्स करवाए जा रहे हैं. लोगों को मदद करने के लिए सभी तरह के प्रयास किए जा रहे हैं. लोगों को किसी भी तरह की कोई दिक्कत नहीं होगी. प्रशासन मौके पर डटे हुए हैं. कई क्षेत्रों में भारी बारिश की वजह से स्थिति गंभीर हो गई है. दो दिन से लगातार बारिश हो रही है. गंगा का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है. जल स्तर बढ़ने से लोग सकते में हैं. लोगों को तबाही का डर सता रहा है. सीएम मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह की स्थिति किसी एक के हाथ में नहीं है. यह प्राकृतिक चीज है. लोगों को पीने योग्य पानी मुहैया कराया जा रहा है. प्रभावित क्षेत्र में लोगों के लिए सामुदायिक किचन की व्यवस्था की जा रही है. लोगों के लिए हर जरूरी चीजें उपलब्ध कराया जाएगा. बिहार (Bihar) के कई जिलों में भारी बारिश (Heavy Rain) हो रही है. इससे शनिवार को बिहार की राजधानी पटना पूरी तरह से डूब गई है. लोगों का घरों से निकलना मुश्किल हो गया है. कुछ क्षेत्रों में गंगा के उफान के कारण ट्रेनों की रफ्तार भी थम गई है. पटना शहर (Patna city) के कई इलाकों में पानी भर गया है. इसके अलावा ही एक शो रूम में पानी भरने से पूरे कपड़े भीग गए हैं. राजधानी पटना समेत मुजफ्फरपुर, दरभंगा, भागलपुर, पूर्णिया, बेतिया, गया, जमुई, औरंगाबाद, जहानाबाद समेत कई अन्य जिलों में लगातार बारसात हो रही है. मौसम विभाग ने 15 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया है. इससे राज्य सरकार (State Government) ने प्रदेश के कई जिलों में एहतियातन अगले दो दिनों तक स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी है.


आपदा प्रबंधन को निर्देश, कई ट्रेनें रद्द 
इससे पहले सीएम नीतीश कुमार ने आपदा प्रबंधन विभाग को तैयार रहने के निर्देश दिए. मौसम विभाग के मुताबिक, तीन अक्टूबर तक ही स्थिति सामान्य हो पाएगी.उधर, भारी बारिश के कारण बिहार में जहां कई ट्रेनें निरस्त हैं. वहीं, कुछ रेलमार्गों पर रूट डायवर्जन करना पड़ा है. कई ट्रेनों को पटना के बजाए गया रूट से चलाया जा रहा है. पटना रेलवे स्टेशन पर भारी बारिश के चलते रेलवे ट्रैक डूब गया है जिससे दिल्ली से बिहार और बंगाल जाने वाली पटना रूट की ट्रेनों को गया रूट से चलाया जा रहा है.

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...