बिहार : पेट्रोलिंग के दौरान सोसल मीडिया या चैटिंग करने पर होगी कड़ी कार्रवाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 1 सितंबर 2019

बिहार : पेट्रोलिंग के दौरान सोसल मीडिया या चैटिंग करने पर होगी कड़ी कार्रवाई

police-patrolling-may-punished-for-social-media
पटना (आर्यावर्त संवाददाता)  बिहार की राजधानी पटना में गश्ती दल में शामिल पुलिसकर्मी अगर ड्यूटी के दौरान फेसबुक और वॉट्सऐप का इस्तेमाल करते पकड़े गए तो अब उनकी खैर नहीं। उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। पटना के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) संजय कुमार ने इसके लिए एक निर्देश जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि अगर जांच के दौरान कोई भी पुलिसकर्मी चैटिंग करते पकड़ा गया तो उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। आईजी ने कहा कि गश्ती के दौरान पुलिसकर्मियों के फेसबुक, मोबाइल गेम खेलते और चैटिंंग करने की जांच का जिम्मा पुलिस उपाधीक्षक को दिया गया है। पुलिस उपाधीक्षक गश्त पर निकले पुलिसकर्मियों पर नजर रखेंगे कि वे मोबाइल का तो उपयोग नहीं कर रहे हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों का मानना है कि अक्सर गश्त पर निकले पुलिसकर्मी अपने मोबाइल पर चैटिंग करते या खेल खेलने में व्यस्त रहते हैं और अपराधी घटनाओं को अंजाम देकर निकल जाते हैं। ऐसे में पुलिस को वह सफलता नहीं मिल पाती, जो मिलनी चाहिए थी। आईजी ने स्पष्ट कहा है कि गश्ती दल को जांच के दौरान यदि किसी के पास प्रतिबंधित वस्तु मिले या फिर उसकी गतिविधियां संदिग्ध प्रतीत हों तो जांच कर आवश्यक कार्रवाई की जाए। इस दौरान हालांकि पुलिसकर्मियों किसी बेकसूर को परेशान नहीं करने की नसीहत दी गई है। बता दें कि बिहार में इन दिनों पुलिस द्वारा ‘रोको-टोको अभियान’ चलाया जा रहा है, जिसके तहत सड़कों पर वाहनों की जांच की जा रही है। यह अभियान पुलिस अधीक्षक और उपाधीक्षक के नेतृत्व में चलाया जा रहा है। ‘रोको-टोको अभियान’ के दौरान पुलिस किसी भी संदिग्ध वाहन को रोकती है और उस पर सवार लोगों से सम्मानपूर्वक बात कर जानकारी प्राप्त करती है। गलत पाए जाने पर कार्रवाई की जाती है। पुलिस प्रशासन को अपेक्षा है कि कोई भी व्यक्ति पुलिस का सहयोग करेगा और मदद करेगा। यह अभियान सभी की सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर शुरू किया गया है। रोको-टोको अभियान का मुख्य उद्देश्य निगरानी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...