निजी दूर संचार कंपनियों को लाभ दे रही है सरकार : कांग्रेस - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 दिसंबर 2019

निजी दूर संचार कंपनियों को लाभ दे रही है सरकार : कांग्रेस

government-is-giving-benefits-to-private-telecom-companies-congress
नयी दिल्ली, 01 दिसम्बर, कांग्रेस ने सरकार पर निजी क्षेत्र की दूर संचार कंपनियों के फायदे के लिए काम करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि वह जानबूझकर सार्वजनिक क्षेत्र की भारत संचार निगम लिमटेड (बीएसएनएल) तथा महानगर टेलीफोन नगर लिमिटेड (एमटीएमएल) को कमजोर कर रही है।कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने रविवार को यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सरकार का लक्ष्य सिर्फ निजी क्षेत्र को फायदा पहुंचाना रह गया है और इसके लिए सरकारी क्षेत्र की कंपनियों को जानबूझकर कमजोर करने का उपक्रम कर रही है।उन्होंने कहा कि बीएसएनएल पूरे देश में उपभोक्ताओं की सेवा कर रही हैं। एमटीएमएल महानगरों में दूर संचार देने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की एक मात्र प्रमुख कंपनी रही है लेकिन आज यह दोनों कंपनियां घाटे में चल रही हैं। इस सरकार ने इन दोनों कपंनियों को जानबूझकर कमजोर किया है। संप्रग के समय ये दोनों कंपनियां आठ हजार करोड रुपए के मुनाफे में थीं लेकिन आज 11228 करोड रुपए के घाटे में चल रही हैं।प्रवक्ता ने कहा कि टेलीफोन क्षेत्र महत्वपूर्ण है और हर आदमी की जिंदगी से जुडा है। संप्रग के समय देश में 13 ऐसी कंपनियां थी जो दूर संचार क्षेत्र में अपनी संवाएं दे रही थीं। उस समय प्रतिस्पर्धा थी जिसका लाभ देश के लोगों को मिल रहा था। निजी क्षेत्र और सार्वजनिक क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा थी। डेटा भारतीय उपभोक्त दुनिया में सबसे सस्ती थी लेकिन अब स्थिति बदल गयी है। देश में दूर संचार क्षेत्र की सिर्फ तीन निजी कंपनियां रह गयी है। एमटीएमएनएल तथा बीएसएन पहले ही खत्म कर दी गयी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...