मोदी का सीएए पर जन समर्थन के लिए सोशल मीडिया अभियान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 31 दिसंबर 2019

मोदी का सीएए पर जन समर्थन के लिए सोशल मीडिया अभियान

modi-on-social-media-for-caa
नयी दिल्ली, 30 दिसम्बर, नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर छिड़े विवाद के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आधिकारिक नमो एप पर इस कानून के लिए जनसमर्थन जुटाने के उद्देश्य से एक अभियान शुरू किया है। नमो एप पर ‘इंडिया स्पोर्ट्स सीएए ’ हैशटैग से एक अभियान शुरू किया गया है जिसमें लोगों से इस कानून का समर्थन करने की अपील की गयी है। इसके लिए श्री मोदी की निजी वेबसाइट के टि्वटर हैंडल पर टि्वट भी किया गया है। इसमें इंडिया स्पोर्ट्स सीएए हैशटैग के साथ इसका समर्थन करने की अपील और कारण भी बताया गया है। टि्वट में लिखा है, “ सीएए प्रताड़ित शरणार्थियों को नागरिकता देने के बारे में है और यह किसी की नागरिकता लेने के लिए नहीं है। नमो एप के वालंटियर माड्यूल के वायस सेक्शन में इस हैशटैग को जानकारी, ग्राफिक्स, वीडियो और अन्य चीजों के लिए देखें । इसे शेयर करें और सीएए के लिए अपना समर्थन प्रकट करें। ” यह अभियान देश के विभिन्न हिस्सों में सीएए को लेकर बढते विरोध प्रदर्शनों के बीच शुरू किया गया है। इससे पहले भी सरकार ने सीएए को लेकर विभिन्न मंचों पर स्थिति स्पष्ट की है और इससे संबंधित प्रशन और उनके जवाब भी दिये हैं। खुद प्रधानमंत्री तथा गृह मंत्री ने भी बार बार कहा है कि यह कानून किसी की नागरिकता लेने के लिए नहीं बल्कि प्रताड़ित शरणार्थियों को नागरिकता देने के बारे में है। विपक्ष का आरोप है कि सरकार का इस कानून के पीछे छिपा एजेंडा है और वह इसकी आड में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर को देश भर में लागू करना चाहती है। बिहार और पश्चिम बंगाल सहित पांच-छह राज्यों ने सीएए का विरोध करते हुए इसे लागू नहीं करने की बात कही है। सीएए को लेकर हुए विरोध प्रदर्शनों के कुछ जगहों पर हिंसक रूप लेने के कारण हुई घटनाओं में अब तक 20 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है।  

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...