मधुबनी : जिले में कोविड-19 स्थिति एवं हो रहे टेस्ट की प्रखंडवार समीक्षा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 18 सितंबर 2020

मधुबनी : जिले में कोविड-19 स्थिति एवं हो रहे टेस्ट की प्रखंडवार समीक्षा

covid-inspaction-meeting-madhubani
मधुबनी 18, सितम्बर,  आज दिनांक 18 सितम्बर को जिला पदाधिकारी डाॅ0 निलेश रामचन्द्र देवरे द्वारा जिले के सभी प्रखण्ड के प्रखण्ड विकास पदाधिकारी एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के साथ काविड-19 की स्थिति एवं कराये जा रहे टेस्ट की बिंदूवार समीक्षा विडियो काॅन्फ्रेसिंग के माध्यम से किया। इस दौरान अपर समाहर्ता, उप विकास आयुक्त, सिविल सर्जन, कोविड कन्ट्रोल रूम के प्रभारी पदाधिकरी भी उपस्थित थे। सर्वप्रथम जिला पदाधिकारी ने प्रखण्डवार प्रति  एक लाख जनसंख्या पर हो रहे टेस्ट की समीक्षा की गई। जिसमें  जिला के प्रति लाख  टेस्ट रेट 3440 है।जबकि बाबुबरही, बेनीपट्टी, बासोपट्टी, विस्फी, लौकही, मधेपुर, पण्डौल, रहिका एवं राजनगर में औसत से कम होने पर जिला पदाधिकारी द्वारा असंतोष व्यक्त किया  तथा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को फटकार लगाई गई। जिला पदाधिकारी ने  इन प्रखंडों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को सुझाव दिया कि वे प्रखण्ड विकास पदाधिकारी व स्थानीय जन प्रतिनिधि के सहयोग से टेस्ट की संख्या बढ़ावे। तदोपरान्त प्रखण्डवार कोविड मरीज की संख्या एवं कोविड पाॅजिटिवीटी रेट की समीक्षा की गई।   जिला का पॉजिटिविटी रेट मात्र 1%है ।जबकि जिला के कतिपय प्रखंड यथा झंझारपुर, हरलाखि,राजनगर, बेनीपट्टी,खजौली में यह दर  लगभग 4%  है ।जिला पदाधिकारी द्वारा  इन प्रखंडों में ज्यादा से ज्यादा टेस्ट कराने का सुझाव दिया गया। साथ ही उनके क्षेत्रों के कन्टेनमेंट जोन को 14 दिनों तक सील कर स्वास्थ्य विभाग के गाइडलाइन का संख्ती से अनुपालन सुनिश्चिित कराने का आदेश दिया गया। जिला पदाधिकारी द्वारा होम आइसोलेट  मरीजों की प्रखंडवार समीक्षा  की गई। उल्लेखनीय है कि जिला में कूल होम आइसोलेट मरीजों की संख्या 334 एवम् 60वर्ष से अधिक उम्र के 38मरीज है।जिला पदाधिकारी ने प्रखण्डो के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी एवं प्रखण्ड विकास पदाधिकारी को यह निदेश दिया कि उनके प्रखण्ड के 60 वर्ष से अधिक उम्र के सभी होम आइसोलेटेड लोगों की विशेष देखभाल आवश्यकता है। अंतः उन्हे होम आइसोलेटेड नही रहने दे  उनके बेहतर देखभाल हेतु शीघ्र उन्हे स्थानीय कोविड केयर सेन्टर में भेजे। अंतत जिला पदाधिकारी ने राज्य सरकार एवं स्वास्थ्य विभाग के आदेश के आलोक में  जिला में प्रतिदिन 6000 से अधिक टेस्ट  के लक्ष्य को स्थानीय जनप्रतिनिधि एवम् आमलोगों की सहभागिता से हासिल का निर्देश सभी पदाधिकारियों को दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: