बिहार : मृतक स्वास्थकर्मी के परिजन देर से आवेदन करते हैं. - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 16 सितंबर 2020

बिहार : मृतक स्वास्थकर्मी के परिजन देर से आवेदन करते हैं.

भारत के सार्वजनिक स्वास्थ्य फाउंडेशन में महामारी विज्ञानी गिरिधर बाबू ने कहा, 'स्वास्थ्यकर्मियों के साथ एकजुटता को प्रोत्साहन केवल शब्दों से नहीं बल्कि स्वास्थ्य कार्यबल को मजबूत करने के ठोस प्रयासों से पूरा किया जा सकता है।उनके परिवारों को दो करोड़ रुपये से अधिक का टर्म इंश्योरेंस कवर दिया जाना चाहिए, जिसमें सरकार की गारंटी भी शामिल है।...'
health-worker-death-apply
पटना।  एमनेस्टी इंटरनेशनल का कहना है कि दुनिया भर में कोरोना से अबतक सात हज़ार स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हो चुकी है।सबसे ज़्यादा मौत मेक्सिको में हुई है। एमनेस्टी के अनुसार मेक्सिको में 1320 स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हुई है, उसके बाद अमरीका में 1077, ब्रिटेन में 649 और ब्राज़ील में 634 । एमनेस्टी की रिपोर्ट के अनुसार स्वास्थ्यकर्मियों की मौत के मामले में भारत और दक्षिण अफ़्रीक़ा से भी चिंताजनक ख़बरें आ रही हैं. भारत में अबतक 573 और दक्षिण अफ़्रीक़ा में अबतक 240 स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हो चुकी है. एमनेस्टी में आर्थिक और सामाजिक न्याय के प्रमुख स्वीव कॉकबर्न के अनुसार दूसरों को बचाते हुए इतनी बड़ी संख्या में स्वास्थ्यकर्मियों का मारा जाना बताता है कि ये समस्या कितनी गंभीर है। उनके अनुसार हर स्वास्थ्यकर्मी को काम के दौरान पूरी सुरक्षा दिया जाना उसका अधिकार है और ये स्कैंडल है कि वो इतनी बड़ी क़ीमत चुका रहे हैं। कोरोना वायरस के खिलाफ अग्रिम मोर्चे पर लड़ाई लड़ रहे देश के हजारों स्वास्थ्यकर्मी इसकी चपेट में आ चुके हैं।हाल ही में सामने आए आंकड़ों से पता चला है कि देशभर में अब तक 87,000 से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मी कोरोना संक्रमित हो चुके हैं और इनमें से 573 को अपनी जान गंवानी पड़ी है।संक्रमित स्वास्थ्यकर्मियों में से लगभग तीन चौथाई सिर्फ छह राज्यों- महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, दिल्ली, पश्चिम बंगाल और गुजरात छह राज्यों में तैनात थे।



अकेले महाराष्ट्र में, 7.3 लाख से अधिक की संख्या के साथ, कोविड -19 मामलों की पुष्टि की गई है। आंकड़ों के अनुसार संक्रमित स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के लगभग 28% और कुल मौतों का 50% से अधिक कोरोना मामला आ चुका है।जबकि महाराष्ट्र, कर्नाटक और तमिलनाडु ने 28 अगस्त तक 1 लाख से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों का परीक्षण किया था, वहीं कर्नाटक ने केवल 12,260 संक्रमित स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सूचना दी है। इसी तरह महाराष्ट्र में कोरोना के मामलों में आधी कमी देखने को मिली है।  तमिलनाडु में 11,169 मामले सामने आए जिनमें डॉक्टर, नर्स और आशा कार्यकर्ता शामिल थे। तीनों राज्यों में कुल मिलाकर स्वास्थ्य कर्मियों के बीच कोरोना के मामलों में  55% बढ़ोतरी देखने को मिली है। बता दें कि तीनों राज्यों ने स्वास्थ्य सेवा पेशेवरों की सबसे अधिक मौतों की सूचनाएं दी, हालांकि महाराष्ट्र और अन्य दो के बीच काफी अंतर है। जबकि महाराष्ट्र में स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के बीच 292 मौतें हुईं, कर्नाटक और तमिलनाडु में 46 और 49 मौतें हुईं है। बड़ी संख्या में कोविड -19 संक्रमण और यहां तक कि विशेष रूप से राज्यों में स्वास्थ्यकर्मियों की मौतों को अधिकारियों और सार्वजनिक स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा चिंता के साथ देखा जा रहा है।इस मुद्दे पर कैबिनेट सचिव की अध्यक्षता में हुई एक समीक्षा बैठक में केंद्र ने राज्यों को एक महत्वपूर्ण संसाधन की रक्षा करने की आवश्यकता के बारे में चेतावनी दी। मामलों की अधिक संख्या के बावजूद, सरकार को स्वास्थ्य कर्मियों के लिए 50 लाख कोविड -19 बीमा योजना के तहत अप्रैल से अब तक केवल 143 दावे प्राप्त हुए हैं।आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि मौतों और दावों की संख्या के बीच अंतर हो सकता है। इसके अलावा, दावे आने में थोड़ा धीमी गति से काम किया जा रहा हैं क्योंकि मृतकों के परिवारों को आवेदन करने और आवश्यक कागजी कार्रवाई करने में समय लगता है। मणिपाल हॉस्पिटल्स के चेयरमैन डॉ एच सुदर्शन बल्लाल ने कहा, "हेल्थकेयर वर्कर्स की सुरक्षा करना हमारे लिए बेहद जरूरी है। हमारे पास ऐसे मरीजों की देखभाल करने के लिए पर्याप्त बल है, जिन्हें अपनी सेवाओं की जरूरत है।"पीपीई किट के उचित उपयोग की कमी भी है।

कोई टिप्पणी नहीं: