बिहार के आत्मनिर्भर होने से देश बनेगा आत्मनिर्भर : प्रधान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 14 सितंबर 2020

बिहार के आत्मनिर्भर होने से देश बनेगा आत्मनिर्भर : प्रधान

self-dependent-bihar-and-india-dharmendra-pradhan
पटना 13 सितंबर, केंद्रीय पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस एवं इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने केंद्र सरकार के मिशन पूर्वोदय की प्रतिबद्धता दुहराते हुए आज कहा कि बिहार के आत्मनिर्भर होने से ही देश भी आत्मनिर्भर बन पाएगा। श्री प्रधान ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बिहार के राज्यपाल फागू चौहान, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे और उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की ऑनलाइन उपस्थिति में पारादीप-मुजफ्फरपुर एलपीजी पाइप लाइन के दुर्गापुर-बांका खंड तथा बांका और चंपारण एलपीजी बॉटलिंग संयंत्रों के लोकार्पण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री बनने से पूर्व श्री नरेंद्र मोदी ने पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में ‘मिशन पूर्वोदय’ की परिकल्पना की थी। वह देश के पहले प्रधानमंत्री हैं, जिन्होंने पूर्वी भारत की चिंता की। 



केंद्रीय मंत्री ने कहा कि श्री मोदी पिछले एक दशक से सार्वजनिक रूप से कहते रहे हैं कि भारत में अपार संभावनाओं वाले पूर्वी हिस्से का जबतक देश के पश्चिमी और दक्षिणी क्षेत्र की तरह विकास नहीं होगा तबतक विकसित भारत की कल्पना नहीं की जा सकती है। उन्होंने कहा कि इसी तरह जबतक बिहार अत्मनिर्भर नहीं बनेगा तबतक देश आत्मनिर्भर नहीं हो सकता। श्री प्रधान ने कहा कि यदि बिहार की मेहनत से महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, पंजाब, गुजरात की आर्थिक संपन्नता बढ़ती है तो बिहार को भी उसी तरह से विकसित करना पड़ेगा। इसलिए, केंद्र सरकार की पिछले छह साल से जारी एक-एक योजना का लक्ष्य मिशन पूर्वोदय को पूरा करने की ओर है। आज का कार्यक्रम इसी मिशन पूर्वोदय की एक छोटी से पहल है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस के न केवल ज्यादा कनेक्शन दिये गये बल्कि ज्यादा से ज्यादा एलपीजी पहुंचे इसकी भी चिंता की गई।

कोई टिप्पणी नहीं: