बिहार : सचिवालय में 24 कर्मी पॉजिटिव, 17 से 25 अप्रैल तक बंद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 16 अप्रैल 2021

बिहार : सचिवालय में 24 कर्मी पॉजिटिव, 17 से 25 अप्रैल तक बंद

24-posetive-in-bihar-assembly-secreteriet
पटना : बिहार विधान सभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने विधानसभा में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए इसे रोकने तथा इसके चेन को ब्रेक करने के लिए 17 अप्रील से 25 अप्रील, 2021 तक विधानसभा सचिवालय को पूर्ण रूपेण बंद करने का आदेश दिया है। इस दौरान पूर्व से निर्धरित अति महत्वपूर्ण कार्यों का निष्पादन ही हो सकेगा । वहीँ कार्यालय बंदी की इस अवधि में सभी पदाधिकारी कर्मचारी को मुख्यालय में रहने तथा इस अवधि में अपना मोबाइल ऑन रखने का आदेश दिया गया है। साथ ही विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि कार्यालय बंद रहने के दौरान विधानसभा सचिवालय के सभी शाखाओं को सेनेटाइज किया जाएगा। विदित हो कि विधानसभा सचिवालय के कुछ पदाध्किारियों और कर्मचारियों के कोरोना पाॅजिटिव होने की सूचना मिलने के उपरांत विधानसभा अध्यक्ष सिन्हा के आदेश से विधानसभा में 3.04.21 से पदाध्किारियों तथा कर्मियों का कोरोना जाॅंच कराया जा रहा है । 13.04.21 से 15.04.21 तक कुल 24 पदाध्किारी एवं कर्मचारी कोरोना पाॅजिटिव पाये गये थे । वहीँ आज भी 4ः00 बजे अप.तक 20 पदाध्किारी एवं कर्मचारीगण कोरोना पाॅजिटिव पाये गये । विधानसभा अध्यक्ष सिन्हा ने विधानसभा के पदाध्किारियों और कर्मचारियों को हर हाल में कोरोना से संबंध्ति प्रोटोकाॅल का पालन करने, मास्क लगाने, समय-समय पर साबुन से हाथ धेने, सोशल डिस्टेंशिंग रखने और हाथ सेनेटाईज करने का भी निदेश दिया । बिहार विधान सभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि कोई भी सरकार चिकित्सक के माध्यम से मात्र बीमारी का ईलाज करा सकती है, महामारी का ईलाज सावधानी, सतर्कता और समाज की जागरूकता पर निर्भर करता है । उन्होंने सभी सामाजिक संगठन, कार्यकत्र्ता, बुद्धिजीवी और प्रेस मीडिया से इस कोरोना महामारी से लड़ने के लिए इससे संबंधित नाकारात्मक चर्चा के बजाय साकारात्मक और रचनात्मक वातावरण बनाने की अपील की, जिससे लोगों के बीच इस महामारी से बचाव के लिए अधिकाधिक जागरूकता फैल सके। उन्होेंने सभी से प्रकृति से निकटता बढ़ाने की अपील की तथा कहा कि स्वच्छ हवा और मिट्टी के संसर्ग में रहने से हमारे शरीर को मजबूती मिलती है और रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। हमें कोरोना से डरना नहीं बल्कि सतर्क होकर मजबूती से लड़ना है और हर हाल में इस पर विजय पा लेना है।

कोई टिप्पणी नहीं: