बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुड्डुचेरी में चुनाव प्रचार थमा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 4 अप्रैल 2021

बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुड्डुचेरी में चुनाव प्रचार थमा

caimpaign-stopped-in-bangal-assam-kerala
नयी दिल्ली 04 अप्रैल, पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, केरल और पुड्डुचेरी में होने वाले छह अप्रैल के विधानसभा मतदान के लिए चुनाव प्रचार रविवार शाम थम गया। बंगाल में तीसरे चरण के लिए 31 विधानसभा सीटों के लिए मतदान होगा। असम में तीसरे और अंतिम चरण के लिए 40 विधान सभा सीटों पर मतदान होगा। तमिलनाडु की 232, केरल की 140 और पुड्डुचेरी की 30 सीटों के लिए भी चुनाव छह अप्रैल को ही होगा। इन तीनों राज्यों में एक ही चरण में मतदान होगा जबकि बंगाल में आठ चरणों में तथा असम में तीसरे और अंतिम चरण का मतदान होगा। बंगाल विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण में तीन जिलों हावड़ा, हुगली और दक्षिण 24 परगना की 31 सीटों पर कुल 205 प्रत्याशी मैदान में हैं। मतदान छह अप्रैल को होगा। इस चरण के लिए गत 12 मार्च को अधिसूचना जारी हुई थी। तीसरे चरण में हावड़ा की सात, हुगली की आठ और दक्षिण 24 परगना जिले की 16 सीटें शामिल हैं। बंगाल में पिछले विधानसभा चुनाव में इन 31 सीटों में से 30 पर तृणमूल कांग्रेस जीती थी सिर्फ आमता सीट पर कांग्रेस की जीत हुई थी, हालांकि इस बार मुकाबला कड़ा है। भारतीय जनता पार्टी तृणमूल के लिए बड़ी प्रतिद्वंद्वी के तौर पर उभरी है। तीसरे चरण में कुल 78,52,425 मतदाता 10,871 बूथों पर अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। तीसरे चरण में केंद्रीय बलों की सबसे ज्यादा तैनाती दक्षिण 24 परगना जिले में की जाएगी जहां की कई विधानसभा सीटें बेहद संवेदनशील बताई जा रही हैं। केरल में 27 लाख मतदाता हैं। सत्तारूढ़ लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट, द यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट, जिसका कांग्रेस हिस्सा है और भाजपा मुख्य रूप से चुनावी मैदान में हैं। यहां 140 विधानसभा सीटों पर इन तीनों के बीच कड़ी टक्कर है। पुड्डुचेरी की 30 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए 324 उम्मीदवार मैदान में हैं। इस बीच चुनाव आयोग ने तीसरे चरण के मतदान से पहले बड़ा फेरबदल करते हुए बंगाल के अलीपुरद्वार, हुगली, उत्तर व दक्षिण 24 परगना जिलों के पुलिस अधिकारियों को हटा दिया है। अलीपुरद्वार के पुलिस अधीक्षक अमिताभ माइती के स्थान पर भारतीय पुलिस सेवा (आइपीएस) के अधिकारी अमित कुमार सिंह को लाया गया है। हुगली के चंदननगर पुलिस कमिश्नरेट के उपायुक्त तथागत बसु के बदले आइपीएस अभिषेक मोदी की नियुक्ति की गई है। तथागत बसु को कुछ समय पहले गौ तस्करी कांड में सीबीआइ ने तलब किया था। दक्षिण 24 परगना के डायमंड हार्बर पुलिस जिला के डिप्टी पुलिस सुपर मिथुन दे के बदले श्यामल कुमार मंडल को लाया गया है। मंडल पश्चिम मेदिनीपुर (डीईबी) में डिप्टी सुपर के पद पर तैनात हैं। इसी जिले के फलता थाने के आइसी अभिजीत हाइत की बदली कर उनकी जगह इंफोर्समेंट ब्रांच के इंस्पेक्टर अतनु घोषाल की नियुक्ति की गई है। उत्तर 24 परगना के बैरकपुर पुलिस कमिश्नरेट के डीसीपी जोन दो (दक्षिण डिवीजन) पद पर खड़गपुर रेलवे पुलिस के सुपर अवधेश पाठक को लाया गया है। चुनाव आयोग की पांचवें चरण से केंद्रीय बलों की 1,000 से अधिक कंपनियों की सुरक्षा में मतदान कराने की योजना है। पहले चरण में केंद्रीय बल की 730 और दूसरे चरण में 651 कंपनियों की तैनाती की गई थी, जबकि तीसरे चरण में 618 कंपनियों की तैनाती किए जाने की खबर है। बंगाल के मुख्य चुनाव अधिकारी के दफ्तर से मिली जानकारी के अनुसार सात अप्रैल तक केंद्रीय बलों की 200 और कंपनियां बंगाल पहुंच जाएंगी, जिससे राज्य में उनकी संख्या एक हजार को पार कर जाएगी। इसी तरह पांचवें चरण से पहले 70 और कंपनियों के राज्य में पहुंचने की बात है। चुनाव आयोग की उत्तर व दक्षिण 24 परगना, मालदा और मुर्शिदाबाद पर खास नजर है। उन जिलों में निर्बाध, निष्पक्ष तथा शांतिपूर्ण तरीके से मतदान कराना चुनाव आयोग के सामने कठिन चुनौती है। गौरतलब है कि चार राज्यों एवं एक केंद्र शासित प्रदेश में हो रहे विधानसभा चुनावों को लेकर वोटों की गिनती दो मई को होगी। 

कोई टिप्पणी नहीं: