नर्मदा बचाओ आंदोलन के 36 साल पूरे होने पर जन संसद का आयोजन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 13 अगस्त 2021

नर्मदा बचाओ आंदोलन के 36 साल पूरे होने पर जन संसद का आयोजन

  • 17 अगस्त को बड़वानी में नर्मदा किसान मजदूर होंगे इकठ्ठा
  • राकेश टिकेत,  योगेंद्र यादव, हनन मौला ,तेजिंदर विर्क ,डॉ सुनीलम, पूनम पंडित सहित कई किसान नेता और जन नेता होंगे अतिथि
  • शहीद भगत सिंह की भांजी गुरजीत कौर भी आएगी पंजाब से

36-years-of-narmada-bachao-andolan
इंदौर।  नर्मदा बचाओ आंदोलन के अहिंसक सत्याग्रह को 16 अगस्त को 36 साल पूरे हो रहे हैं ।आंदोलन द्वारा ही मध्य प्रदेश गुजरात और महाराष्ट्र के हजारों किसान मजदूरों को पुनर्वास का हक  मिला। 36 साल पूरे होने पर 17 अगस्त को बड़वानी में एक विशाल नर्मदा किसान मजदूर जन संसद का आयोजन किया गया है । जिसमें मध्य प्रदेश ,गुजरात और महाराष्ट्र के हजारों किसान तो शिरकत करेंगे ही साथ ही नर्मदा घाटी के गांव गांव से हजारों लोग बड़वानी पहुंचेंगे । इस किसान मजदूर जन संसद से अतिथि के रूप में किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकेत,  योगेंद्र यादव, हन्नान मोल्ला, डॉ सुनीलम ,तेजिंदर सिंह विर्क मेधा पाटकर  तो आ ही रहे हैं, साथ ही शहीद भगत सिंह की भांजी गुरजीत कौर,  पूनम पंडीत सहित विभिन्न किसान और जनांदोलन के साथी भी इसमें सम्मिलित होंगे ।


नर्मदा बचाओ आंदोलन की ओर से जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि इनमें से अधिकांश नेता 16 अगस्त को ही बड़वानी पहुंच जाएंगे । गौरतलब है कि नर्मदा बचाओ आंदोलन के साथी पिछले 8 महीनों से चल रहे किसान आंदोलन में बढ़-चढ़कर भागीदारी कर रहे हैं । आज जब नर्मदा बचाओ आंदोलन के 36 साल पूरे हो रहे हैं तो यहां आयोजित किसान मजदूर संसद में विभिन्न नेता आकर किसानों की नर्मदा घाटी की और अन्य समस्याओं पर चर्चा करेंगे , साथ ही इस मजदूर किसान संसद में  नर्मदा ही नहीं भारत का जल विकास ,खेती ,जंगल और नदी का अधिकार तथा मध्य प्रदेश और केंद्र शासन के अत्याचार पर भी विचार कर रणनीति बनाएंगे । इस किसान मजदूर संसद में नर्मदा घाटी और मध्यप्रदेश के सैंचुरी और अन्य कारखानों के श्रमिक जंगल, पहाड़ वासी, मछुआरे ,आदिवासी भी भागीदारी कर उनके साथ हो रहे अन्याय की जानकारी देंगे ।जन संसद में सरकारी अत्याचार और गैरकानूनी तरीके से मजदूरों किसानों के हक छीने जाने के खिलाफ जनादेश भी पारित किया जाएगा ।  

कोई टिप्पणी नहीं: