बिहार : नीतीश ने मंत्री से पूछा बताएं कौन नहीं सुन रहा बात ! - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 अगस्त 2021

बिहार : नीतीश ने मंत्री से पूछा बताएं कौन नहीं सुन रहा बात !

nitish-ask-samrat-who-not-hearing-you
पटना : बिहार सरकार के पंचायती राज मंत्री और भाजपा नेता सम्राट चौधरी नीतीश कुमार और गठबंधन सरकार को लेकर लगातार हमला बोल रहे हैं। उन्होंने एक बार फिर से कहा है कि गठबंधन में सरकार चलाने में दिक्कत हो रही है। इसके बाद अब बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद उनकी बातों का जोरदार जवाब दिया है। दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज जनता दरबार कार्यक्रम में फरियादियों से मुलाकात करने के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि मंत्री सम्राट चौधरी के बयान को लेकर उन्हें कोई भी जानकारी नहीं है। लेकिन जब पत्रकारों ने उन्हें बताया कि सम्राट चौधरी ने कहा है कि गठबंधन की सरकार चलना बेहद मुश्किल काम है। कोई हमारी बात नहीं सुनता है। तब इस बयान के जवाब में नीतीश ने कहा कि “कौन नहीं बात सुनता है। पता नहीं किस्से वो बात करते हैं। कौन नहीं सुन रहा है। ये तो हमको नहीं पता है। गौरतलब है कि इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लेकर भाजपा नेता बिहार सरकार के मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा था कि उनके साथ काम करने में दिक्कत आ रही है। दरअसल, भाजपा नेता और मंत्री चौधरी ने भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि बिहार में हम कार्यकर्ताओं को भी नहीं बचा पाते, क्योंकि यहां विचार टकराते हैं। यहां काम करना मुश्किल है, चैलेजिंग है। नेतृत्व ने 2015 अवसर दिया था, लेकिन हम जीत नहीं पाए। अवसर गवा दिए। फिर 2017 गठबंधन किए। 74 सीट जीते, पर सीएम नीतीश को बनाए। सम्राट चौधरी ने कहा कि बिहार की सरकार में चार पार्टियां शामिल हैं। उन चारों की विचारधारा अलग है। सबकी अलग अलग मांग है। ऐसे में सरकार चलाना और लोगों की भावनाओं का ख्याल रख पाना बेहद मुश्किल है। पार्टी के कार्यकर्ताओं को इस बात को समझना चाहिये।

कोई टिप्पणी नहीं: