झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 12 जनवरी - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 12 जनवरी 2022

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 12 जनवरी

मैदान में रहने वाले खानाबदोश के पुलिस ने उखाड़े तम्बू , भीषण ठंड में बच्चों सहित खुले आसमान के निचे दो दिन रहने के बाद भागने को हुवे मजबूर


jhabua news
पारा । गत दिवस पारा पुलिस ने दलवल सहित नगर बालक हायर सेकंडरी स्कूल के समीप मैदान में रहने वाले खानाबदोश परिवारो के तम्बु उखाड़ दिए व उनको भीषण ठंड में खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर कर दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार पारा पुलिस चौकी प्रभारी सुनीता चोहान  ने दलबल सहित बालक हायर सेकंडरी स्कूल के समीप मैदान में अपना अपना तम्बु बांध रह रहे करीब 20 खानाबदोश परिवार के तम्बु उखाड़ कर उनको अपने घर जाने को कहा। बताया जाता कि उक्त करीब 20 खानाबदोश परिवार के करीब 150 से अधिक सदस्य अपने छोटे छोटे बच्चों को लेकर तीन चार वर्षों से ढेरे डाल कर पारा नगर में रहकर आसपास के ग्रामीण अंचल में प्लास्टिक की बाल्टी तगारी छोटे ड्रम आदि बेच कर अपना गुजारा कर रहे थे।  गत दिनों झाबुआ के सरकारी कार्यालय में ताला टूटने के बाद पारदी समुदाय के चार लड़के डकैती की योजना बनाते पकड़े गए। जिसके चलते झाबुआ पुलिस अधीक्षक आशुतोष गुप्ता ने जिले में झुग्गी झोपड़ी ने रह रहे सभी खानाबदोश लोगो को अपने अपने घर जाने के निर्देश दिए हैं ।  उसी निर्देश के पालनार्थ पारा पुलिस ने भी नगर में रह रहे करीब 20 खानाबदोश परिवारों को अपने घर जाने का दो तीन बार बोल दिया था। किंतु उक्त परिवार वही के वही डटे रहे । उनका कहना था कि काम की तलाश में हम लोग यहाँ पर आकर अपने परिवार का पालन पोषण कर रहे हैं घर जाने के बाद फिर से भुखे मरने की नोबत आजाए गी।  साथ ही उनका यह भी कहना है कि आज तक हम लोगो का किसी प्रकार की कोई भी घटना में पुलिस में नाम नही है हम लोग चोरी चकारी अपराध नही करते हैं तो हमको फिर यहाँ से क्यो हटाया जा रहा है । बावजूद उसके पारा पुलिस ने उनकी बात नही सुनी और सभी लोगो के डेरे तम्बु पुलिस ने उखाड़ दिए। वही डेरे में रह रहे लोगो का कहना है कि डेरे के सभी लोग ग्रामीण क्षेत्रों में धंधा करने गए थे । पुलिस ने आकर डेरे उखाड़ दिए और तम्बूओं को चाकू से काट कर फाड़ दिया जिससे उनका बहुत नुकसान हुआ है। भीषण ठंड में खुले आसमान के नीचे लकड़ियों का अलाव जलाने के बाद भी पुरी रात बच्चों सहित ठंडी में ठिठुरते रहने को मजबूर  डेरे की महिलाओं ने बताया कि पुलिस द्वारा तम्बूओं उखाड़ ने ओर फाड़ देने से हम अपने छोटे छोटे बच्चों को लेकर खुले आसमान के नीचे पड़े हुवे है जिससे हमारे छोटे छोटे बच्चे भी बीमार हो रहे है।  ऐसे में हम लोग कहा जाए। विडंबना कीबात है कि एक तरफ जिले के कलेक्टर ओर समाजसेवी लोग भीषण ठंड में खुले में रह रहे लोगो को कम्बल ओर ऊनी वस्त्र बांट रहे है वही पारा की पुलिस ऊनि कपड़े देने की बजाय गरीब मजलूमों पर जुल्म कर उनके तम्बु उखाड़ रही है तम्बु फाड कर उनको खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर किया। वही दो दिन तक ठंडी में खुले आसमान के निचे दिन रात बिताने के बाद आखिर कर सभी खानाबदोश परिवार अपना अपना सामान लेकर आज दोपहर को समाचार लिखे जाने तक चले गए। 


यह कहना है इनका -- क्षेत्र में अपराध की वर्दि्ध हो रही है कोन अपराधी किसके यहां रुक कर अपराध करके जा रहा है इसका पता नही है और इन डेरे तम्बूओं में रहने वालों की भी पुलिस को कोई जानकारी नही है इसलिए सुरक्षा की दृष्टि से इन लोगो वापस अपने घर जाने को कहा गया है । इन के तम्बु किसने फाडे हमे इसकी जानकारी नही है  : सुरेन्द्र सिह गाडरिया टीआई थाना कोतवाली झाबुआ


झाबुआ जिले में सभी के सहयोग से कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए कारगर कदम उठाए जाएंगे, मास्क सोशल डिस्टेनसिंग को लेकर सख्ती बरती जाएगी, लेकिन लॉकडाउन जैसे नौबत नहीं आने दी जाएगी -ः प्रभारी मंत्री इंदरसिंह परमार

  • मप्र शासन के उच्च षिक्षा राज्यमंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री आईएस परमार 11 एवं 12 जनवरी को झाबुआ जिले के दौरे पर रहे
  • पुलिस लाईन में बैंड मिंटन ग्राउंड का लांच करने के साथ जिला चिकित्सालय में एसआईसीयू एवं पीआईसीयू के नवीन कक्ष का किया लोकार्पण 
  • अनास नदी पर करीब 55 करोड़ की लागत के अनास नदी के ब्रिज का किया लोकार्पण

jhabua news
झाबुआ। मप्र शासन के उच्च शिक्षा राज्यमंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री इंदरसिंह परमार 11 जनवरी, मंगलवार एवं 12 जनवरी, बुधवार को झाबुआ जिले के दौरे पर रहे।  11 जनवरी मंगलवार रात्रि में उन्होंने स्थानीय डीआरपी लाईन में सर्व-सुविधायुक्त बैंड मिंटन लॉन (ग्राउंड) का फीता काटकर लोकार्पण किया। बाद खिलाड़ी एवं बच्चों को टॉफी का वितरण किया। इसके बाद वह रात्रि मंे जिला चिकित्सालय पहुंचे। जहां संपूर्ण चिकित्सालय का अवलोकन बाद चिकित्सालय में नव-निर्मित एसआईसीयू एवं पीआईसीयू के सुविधायुक्त नवीन कक्ष का भी फीता काटकर लोकार्पण कर अंदर प्रवेश कर सारी व्यवस्थाएं भी देखी। प्रभारी मंत्री श्री परमार ने रात्रि विश्राम सर्किट हाऊस में ही किया। अगले दिन उन्हें 12 जनवरी, बुधवार को सुबह 9 बजे स्वामी विवेकानंदजी की जयंती पर जिला मुख्यालय झाबुआ पर उत्कृष्ट विद्यालय मैदान पर आयोजित होने वाले सूर्य नमस्कार समारोह में सहभागिता करनी थी, लेकिन प्रदेश में बढ़ते कोरोना केस को लेकर मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान द्वारा संपूर्ण प्रदेश में सामूहिक सूर्य नमस्कार कार्यक्रम पर रोक लगाए जाने से यह सामूहिक कार्यक्रम जिला प्रशासन ने ताबड़तोब निरस्त किया। दोपहर 11 बजे वह कलेक्ट्रोरेट सभा कक्ष में जिला आपदा प्रंबधन की बैठक के मुख्य अतिथि बतौर सम्मिलित हुए।


कोविड के नियमों का सख्ती से करवाया जाए पालन

जिसमें उपस्थित जनप्रतिनिधियों, भाजपा एवं कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारियों, विभिन्न सामाजिक, धार्मिक एवं व्यापारिक संस्थाओं के पदाधिकारियों तथा समाज प्रमुखों द्वारा दिए गए सुझाव बाद यह स्पष्ट किया कि जिले में कोरोना की तीसरी लहर से निटपने का कार्य आपसी समन्वय और संयुक्त प्रयासों से किया जाएगा। उन्हें ज्ञात हुआ है कि जिले में कोविड के नियमों, जिसमें मास्क की अनिवार्यता, सोशल डिस्टेनिंसग और दुकानों तथा शासकीय कार्यालयों पर सेनेटाईजर आदि का उपयोग नहीं होने से जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि जिले में कोविड के नियमों का सख्ती से प्रत्येक व्यक्ति से पालन करवाया जाए, जो लापरवाही बरतता है, उस पर जुर्माना भी लगाया जाए।


लॉकडाउन नहीं लगाने के साथ रोजगार को बढ़ावा देने की मुहीम चलाई जाएगी

साथ ही प्रभारी मंत्री श्री परमार ने यह स्पष्ट किया कि वर्तमान में लॉकडाउन लगाने जैसी परिस्थिति नहंी है। नाईट कफर्यू रात्रि 11 बजे से अलसुबह 5 बजे तक जारी रहने के साथ शादी-विवाह समारोह में 200 लोगों की उपस्थिति रहने एवं अंतिम संस्कार में 50 लोगांे के शामिल होने के जो निर्देश मप्र सरकार से पूर्व में जारी हुए है, उसका कड़ाई से पालन करना सुनिश्चित किया। प्रभारी मंत्री श्री परमार ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार पूरी तरह कोशिश कर रहीं है, ना तो प्रदेश में और ना हीं झाबुआ जिले में लॉकडाउन की स्थिति निर्मित होे। प्रदेश सरकार की व्यापारियों के हित में मंशा है कि रोजगार को अधिक से अधिक बढ़ावा दिया जाए। गरीब एवं मध्यम वर्ग का व्यवसाय बंद ना हो, वह अपना काम-धंधा और नौकरी निर्बाध रूप से कर सके, सरकार इस प्रयास की ओर आगे बढ़ रहीं है।


प्रदेश के मुख्यमंत्री का देखा लाईव प्रसारण

इसके बाद प्रभारी मंत्री श्री परमार यहां से सीधे स्थानीय शगुन गार्डन पहुंचे। जहां मुख्यमंत्री स्वरोगार योजना के तहत आयोजित कार्यक्रम एवं रोजगार मेले का शुभारंभ प्रभारी मंत्री श्री परमार ने विद्या और ज्ञान की देवी महा सरस्वतीजी की तस्वीर पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन कर किया। यहां अपने उद्बोधन में प्रभारी मंत्री श्री परमार ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए मप्र सरकार की इस योजना को पूरे प्रदेश के बेरोजगार युवाओं के लिए कारगर बताया एवं कहा कि इससे युवाओं को रोजगार के अवसर पर प्राप्त होेंगे। साथ ही रोजगार मेले में सभी युवाओं को नौकरी मिलने से कोई भी हाथ खाली नही रहेगा।


संपूर्ण प्रदेश में 5 लाख पद भरे जाएंगे

प्रभारी मंत्री श्री परमार ने बताया कि पूरे प्रदेश में 5 लाख पद भरे जाना है। जिन पर भर्ती प्रक्रिया आरंभ हो चुकी है। बाद यहां सभी ने भोपाल में आयोजित होने वाले प्रदेश के मुख्यमंत्री के उद्बोधन का लाईव प्रसारण भी देखा। तत्पश्चात् स्व-रोजगार योजना के तहत पात्र हितग्राहियों को राशि के चैक भी प्रदान किए गए। यहां कार्यक्रम का संचालन उत्कृष्ट उमा विद्यालय झाबुआ के उच्च श्रेणी शिक्षक हरिश कुंडल ने किया। रोजगार मेले का भी प्रभारी मंत्री ने अवलोकन कर समस्त व्यवस्थाएं देखी।


करीब 55 करोड़ लागत की ब्रीज का किया शिलान्यास

यहां से प्रभारी मंत्री श्री परमार ने कुछ देर के लिए सर्किट हाऊस पहुंचकर लंच लेने के बाद स्थानीय रतनपुरा में शासकीय आदर्श महावि़द्यालय में संकल्प कोचिंग का शुभारंभ किया। तत्पश्चात् यहां से सीधे इंदौर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित अनास नदी पर पीडब्ल्यू विभाग द्वारा नव-निर्मित सेतु ब्रिज का लोकार्पण किया। जिसकी कुल लागत 553.59 लाख है। इंदौर-अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग को जोड़ने वाला यह ब्रिज करीब 150 मीटर लंबा एवं 12 मीटर चौड़ा है। इस ब्रीज का भी प्रभारी मंत्री ने शिलान्यस करने के साथ फीता काटकर लोकार्पण किया। बाद नारियल बदारकर पूजन की। इस दौरान यहां प्रभारी मंत्री श्री परमार का स्वागत पीडब्ल्यूडी के मुख्य अभियंता गिरजेश शर्मा, कांट्रेक्टर अजय मोदी एवं एसडीओ डीडी रतमेले ने पुष्प गुच्छ भेंटकर किया। बाद यहां से प्रभारी मंत्री द्वारा कल्याणपुरा पहुंचकर यहां नवीन कन्या छात्रावास भवन का लोकार्पण के बाद अंत में रायपुरिया में भी नवीन पुलिस थाने भवन को लोकार्पण करने के उपरांत उन्होंने यहां से भोपाल के लिए प्रस्थान किया।


भाजपा से यह रहे मौजूद

मप्र शासन के राज्यमंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री परमार के संपूर्ण कार्यक्रम में उनके साथ भाजपा से अजजा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कलसिंह भाबर, प्रदेश मंत्री संगीता सोनी, भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य ओमप्रकाश शर्मा, क्षेत्रीय सांसद गुमानसिंह डामोर, पूर्व विधायक झाबुआ शांतिलाल बिलवाल, पूर्व प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य दौलत भावसार, भाजपा जिलाध्यक्ष लक्ष्मणसिंह नायक, भाजपा जिला महामंत्री सोमसिंह सोलंकी एवं कृष्णपालासिंह गंगाखेड़ी, जिला उपाध्यक्ष सत्येन्द्र यादव, राजेन्द्र उपाध्याय एवं भानू भूरिया, जिला मंत्री विश्वनाथ सोनी, पूर्व भाजपा जिला उपाध्यक्ष अजय पोरवाल, जिला मीडिया प्रभारी योगेन्द्र नाहर, भाजपा पिछड़ा वर्ग मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य विजय चौहान, पिछड़ा वर्ग मोर्चा जिलाध्यक्ष सोनू विश्वकर्मा, मोर्चा जिला मंत्री हेमेन्द्र नाना राठौर, भाजयुमो जिलाध्यक्ष कुलदीपसिंह चौहान, भाजपा मंडल झाबुआ अध्यक्ष अंकुर पाठक, मंडल महामंत्री जुवानसिंह गुंडिया, मंडल के अन्य पदाधिकारियों में किशोर भाबोर, राजेश थापा, युवा नेता भूपेश सिंगोड़, कल्याणसिंह डामोर, रवि थापा आदि सहित बड़ी संख्या में अन्य पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता मौजूद रहे।


जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन से इनकी रहीं उपस्थिति

जिला प्रशासन से कलेक्टर सोमेश मिश्रा, अपर कलेक्टर जुवानसिंह बघेल, जिला पंचायत सीईओ सिद्धार्थ जैन, एसडीएम झाबुआ एलएल गर्ग, तहसीलदार झाबुआ आशीष राठौर, नगरपालिका सीएमओ एलएस डोडिया सहित विभिन्न विभागों के प्रमुख-प्रतिनिधि तथा पुलिस प्रशासन से पुलिस अधीक्षक आशुतोष गुप्ता, एएसपी आनंदसिंह वास्कले, एसडीओपी इडल मोर्य, थाना प्रभारी सुरेन्द्रसिंह गाडरिया आदि उपस्थित रहे।


भारतीय शौर्य की स्मृतियों को अक्षुण रखेगा वीर बाल दिवस - सांसद गुमानसिंह डामोर

  • प्रधानमंत्री की घोषणा का किया स्वागत

झाबुआ । भारत की स्वतंत्रता को अक्षुण बनाए रखने के लिए हमारे पूर्वजों ने कभी मुगलों से लोहा लिया, तो कभी अंग्रेजों से जूझते रहे। फल स्वरूप देश का अस्तित्व आतताईयों के आतंकों से प्रभावित तो रहा, लेकिन कभी भी उसने पूरी तरह हार नहीं मानी। रतलाम झाबुआ आलीराजपुर के सांसद गुमानसिंह डामोर ने उक्त बात कहते हुए कहा है कि हमारे ऐसे ही पराक्रमी पूर्वजों में से एक हैं गुरु गोविंद सिंह जी महाराज और उनके चारों वीर सपूत। सिखों के दसवें गुरु श्री गोविंद सिंह जी केवल धार्मिक और आध्यात्मिक दृष्टि से ही पूज्यनीय नहीं है। इससे भी अधिक उन्हें उस बलिदान के लिए याद किया जाता है, जो उन्होंनेे देश और धर्म बचाने के लिए सपरिवार दिया। कौन नहीं जानता कि गुरु गोविंद सिंह शरीर रहने तक आतताई मुगल शासकों से लोहा लेते रहे। उनसे भी दो कदम आगे बढ़कर मुगल शासकों के अभिमान को चूर किया उनके साहिबजादों ने। यह बात याद रखने योग्य है कि गुरु गोविंद सिंह के दो बहादुर पुत्र मुगलों के खिलाफ युद्ध लड़ते लड़ते बलिदान को प्राप्त हुए। जबकि दो छोटे पुत्रों को मुगल शासकों ने अपनी गिरफ्त में ले लिया। अबोध से दिखाई देने वाले इन दोनों वीर सपूतों के सामने दो विकल्प थे। पहला विकल्प धर्म परिवर्तन का था। इसे मान लेने पर उन्हें मुगल सैनिकों से आजादी और समस्त राजसी ऐश्वर्यों की प्राप्ति हो सकती थी। जबकि दूसरा विकल्प था केवल मौत, और वह भी भयावह मौत। धर्म परिवर्तन की बात नहीं मानने पर गुरु गोविंद सिंह के दोनों साहिब जादों को दीवार में जिंदा चुने जाने का प्रस्ताव था। सिंह के इन दोनों शावकों ने मृत्यु का रास्ता चुना। लेकिन अपने धर्म पर अडिग ही बने रहे। वीर बालकों के दो टूक जवाब से खिसियाए और बौखलाए मुगल शासकों ने नृशंसता की सभी सीमाएं पार कर दीं और यह दोनों सिंह के बच्चे दीवारों में जिंदा चुनवा दिए गए। श्री डामोर ने बताया कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की शौर्य गाथाओं के प्रेरक इन्हीं बलिदानी बालकों की स्मृति में प्रत्येक वर्ष 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस मनाए जाने की घोषणा की है। यह भी ध्यान देने योग्य बात है कि उक्त घोषणा गुरु गोविंद सिंह जी के प्रकाश पर्व पर की गई। ये वही गुरु गोविंद सिंह जी हैं, जिन्होंने सिखों को व्यक्ति के स्थान पर श्री गुरु ग्रंथ साहिब को आदर्श मांनने की नई और तार्किक प्रणाली स्थापित की थी। इसके पीछे उनकी स्पष्ट धारणा थी कि समय के दुष्चक्रों में फंसकर व्यक्ति पथभ्रष्ट अथवा दिग्भ्रमित हो सकता है। किंतु हमारे शास्त्र और धार्मिक प्रतीक हमें सदैव सत्य मार्ग पर चलने हेतु प्रेरित करते रहते हैं। गुरु गोविंद सिंह जी की जयंती पर की गई प्रधानमंत्री की इस घोषणा का जितना स्वागत किया जाए, कम है। इस दिवस के माध्यम से हमें भारतीय शौर्य के उस गौरवशाली इतिहास के पन्ने देखने को मिलेंगे, जो तथाकथित धर्मनिरपेक्ष शासकों के दबाव में आकर इतिहासकारों ने ठकुरसुहाती स्वभाव के चलते नीचे दबा कर रखे हुए थे। यह घोषणा अब तक की उन केंद्र सरकारों की तुष्टीकरण युक्त कार्यप्रणाली को करारा जवाब है, जो विदेशों से आए लुटेरों और आक्रांताओं को ही अपना आदर्श मानती रहीं। यही नहीं, उन सरकारों ने शासकीय स्तर पर अधिकांश जयंतियां, बड़े-बड़े राजमार्गों व राजपथों के नाम देश के ऐसे ही अनेक शत्रुओं के नाम पर अंकित कर दिए। जहां वीर महाराणा प्रताप की कहानियां सुनाई जानी थीं, उन विद्यालयों में अकबर महान के पाठ रटाए गए। इस गलत शिक्षा नीति के चलते हमें पता ही नहीं चला कि कब हम देश के लिए मर मिटने वाले वीर सपूतों की जगह देश के दुश्मनों को अपना आदर्श मान बैठे। देर से ही सही, अब भारत का नागरिक गलत अवधारणाओं के मोहपाश से बाहर निकल रहा है। शिक्षा संस्कृति और विज्ञान के क्षेत्र में नित नए आयाम गढ़ने वाला देश का समझदार युवा अब इतिहास के उन गौरव शाली पन्नों को तलाशने में जुट गया है, जो कतिपय इतिहासकारों द्वारा तत्कालीन तथाकथित धर्मनिरपेक्ष शासकों के भय से दबा दिए गए थे। ऐसे में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने गुरु गोविंद सिंह के साहिब जादों की स्मृति में वीर बाल दिवस मनाए जाने की घोषणा करके भारतीय शौर्य के विलुप्त होते जा रहे इतिहास के पन्नों को नई हवा देकर उन्हें खुलने के लिए मजबूर कर दिया है।


देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लंबी आयु के लिए नवदुर्गा महिला मंडल समिति ने नवदुर्गा धाम पर किया अभिषेक एवं महामृत्युंजय महामंत्र का जाप, देश के प्राईम मिनिस्टर की सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण


jhabua news
झाबुआ। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा मंे पंजाब में हुई चूक की घटना ने पूरे देश को झकझौर कर रख दिया है। इस घटना के बाद जहां राजनीति स्तर पर भाजपा की ओर से उनकी लंबी उम्र की कामना के लिए हवन, अनुष्ठान, अभिषेक एवं शिव-महामृंज्य महामंत्र का जाप किया जा रहा है। वहीं प्रधामंत्री श्री मोदी दीर्घायु एवं शतायु हो, इसके लिए विभिन्न संगठनों और संस्थाओं द्वारा भी धार्मिक कार्यक्रमों के माध्यम से ईश्वर से प्रार्थना की जा रहीं है। इसी क्रम में शहर के हाऊसिंग बोर्ड कॉलोनी स्थित जगदम्बे माता मंदिर (नवदुर्गा धाम) पर श्री नवदुर्गा महिला मंडल समिति की ओर से भी 10 जनवरी, सोमवार शाम को कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें देश के प्राईम मिनिस्टर श्री मोदी की लंबी आयु के लिए सभी ने यहां ऋणमुक्तेश्वर महादेवजी का जलाभिषेक कर 108 बार श्री शिव मृत्युंजय महामंत्र के सामूहिक जाप किए। समापन पर आरती कर प्रसादी वितरण किया गया।


यह रहे उपस्थित

अभिषेक एवं जाप मंदिर के सेवक पं. प्रदीप भट्ट ने संपन्न करवाए। इस अवसर पर श्री नवदुर्गा धाम महिला मंडल समिति की अध्यक्ष अनिता जाखड़, सचिव हरिप्रिया निगम, सीमा राठौर, अरूणा तिवारी, शाताबेन जायसवाल, मनीषा सोनी, मोनिका चंद्रावत, इंदुबाला अरोड़ा, मोनिका बैरागी सहित अन्य महिलाएं उपस्थित थी।


विवेकानंद जयंती पर डॉ रामशंकर चंचल ने किया अपनी 101 वी कृति लोक संस्कृति का विमोचन

 

jhabua news
झाबूआ। गोपाल कालोनी मां सरस्वती सदन में आज प्रातः ११ बजे  विवेकानंद जयंती पर आयोजित हुआ एक सादे आयोजन में डॉ रामशंकर चंचल ने अपनी ताजा कृति १०१ वी कृति ‘लोक संस्कृति‘ का विमोचन अपनी स्व पत्नियों को भेंट कर किया । उषा राज साहित्य अकादमी के बैनर तले हुआ । इस आयोजन में सर्व प्रथम डॉ चंचल ने मां शारदा की पूजा अर्चना की फिर अपनी ताजा कृति को कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए डॉ चंचल ने यह नवीन कदम उठाया और अपनी ताजा कृति ‘लोक संस्कृति ‘ को अपनी स्व पत्नियों को भेट कर विमोचन किया । डॉ रामशंकर चंचल का कहना है कि मुझे बहुत गर्व है कि अपनी ताजा कृति ‘लोक संस्कृति‘ जो मेरी, १०१ नवीन कृति है जिसका विमोचन में अपनी स्व पत्नियों उषा और राज जी को भेंट कर कर रहा हूं , जिन्होंने मुझे सदा सहयोग दे आज इस मुकाम तक पहुंचाया है कि देश-विदेश में अपनी पहचान के साथ मेरे जिले की पहचान बना कर मुझे सुकून मिला है। मेरी स्व. पत्नियों उषा और राज ने सदा ही मेरी रचनाओं को मुझे सुना सराहा और मुझे प्रेरित कर सक्रिय बनाए रखा था, आज वो मेरे साथ न होकर भी मुझे सदा ही स्नेह आशीर्वाद दे सक्रिय बनाए रखने में बेहद सहायक है मैं अपने माता-पिता और उनके स्नेह आशीर्वाद से आज अपनी १०१ कृति का विमोचन कर रहा हूं। मेरी ताजा कृति में अभी तक प्रकाशित मेरे आदिवासी अंचल की लोक संस्कृति पर केंद्रित सभी आलेख सचित्र है जो सदियों तक जीवंत रहेंगे । वहीं आनेवाली पीढ़ी को शोध विद्यार्थियों को बेहद सहायक होंगे, सभी आलेख सचित्र होने के साथ सजीव चित्रण और जीवंतता लिए है। एक ग्रामीण शाला में वर्षों तक शिक्षक रहने से में सदा इन सहज सरल ग्रामीण क्षेत्रों में रहा हूं ।यही  है कि मेरी रचनाओं में सरलता और सहजता देखने को पाठकों को मिलती है।अंत में उषा राज साहित्य अकादमी के अभी सदस्यों में मां सरस्वती की पूजा अर्चना की और अपनी उषा राज को प्रणाम करते आभार व्यक्त किया समिति के प्रमुख सदस्य श्री भावेश त्रिवेदी ने।


केवीके, झाबुआ द्वारा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिषन फसल कपास अंतर्गत कृषक संगोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन


झाबुआ। दिनांक 11 जनवरी 2022 को कृषि विज्ञान केन्द्र, झाबुआ द्वारा ग्राम बन, तह. राणापुर, झाबुआ में किसान कल्याण एवं कृषि विकास विभाग झाबुआ द्वारा प्रायोजित राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिषन अंतर्गत फसल कपास पर कृषक संगोष्ठि, व किसान वैज्ञानिक परिचर्चा का आयोजन डॉ. आई.एस. तोमर, वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख, केवीके, झाबुआ के मार्गदर्षन में किया गया कार्यक्रम की अध्यक्षता उपसंचालक श्री नगीन सिंह रावत कि.क.एवं कृ.वि.वि., झाबुआ द्वारा की गई। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री सोमसिंह सोलंकी, भाजपा जिला महामंत्री व जिला विपणन अध्यक्ष झाबुआ, सहा. संचालक, श्री संतोष मौर्य, कृ.वि.अधि. श्रीमती रेखा पाल, श्री हरिसिंह चौहान, श्री डी.एस. सिसोदिया, कि.क.एवं कृ.वि.वि., झाबुआ, एसएचडीओ उद्या. श्री एल. भगोरा, राणापुर, श्री केषु भाई पूर्व सरपंच बन, केवीके वैज्ञानिक डॉ. जगदीष मौर्य, डॉ. वी.के. सिंह, डॉ, चन्दन कुमार एवं ग्राम बन से 150 महिला एवं पुरूष कृषक उपस्थित थे। कार्यक्रम के आरंभ में कपास उत्पादन की उन्नत तकनीक के मार्गदर्षिका का विमोचन, वर्मी कम्पोस्ट उत्पादन के लिए वर्मी कम्पोस्ट पीट व विभिन्न प्रकार के सब्जी बीजों के 120 पैकेट का वितरण किया गया। डॉ. तोमर द्वारा किसानों के अधिक उत्पादन के लिए कपास की बुवाई, खाद प्रबंधन, जल प्रबंधन, एवं कपास की चुनाई एवं उसके भंडारण के विषय में जानकारी प्रदान की साथ ही कृषकों को कृषि में उन्नत तकनीक का प्रयोग कर कृषिगत लागत कम कर अधिक आय प्राप्त करने के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की । श्री रावत द्वारा कृषि विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं एवं उनके क्रियान्वयन के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की साथ ही कपास उत्पादन में किसानों को आने वाली समस्याओं के निराकरण एवं विक्रय हेतु उपलब्ध बाजारों के विषय में विस्तार से जानकारी प्रदान की। श्री सोलंकी द्वारा म.प्र. सरकार द्वारा किसानों के लिए चलायी जाने वाले योजनाओं के बारे में बताया साथ ही आपने किसानों को जैविक खाद का उत्पादन कर जैविक खेती को अपनाने के लिए प्रेरित किया। डॉ. वि.के. सिंह द्वारा किसानों को कपास उत्पादन में मृदा स्वास्थ्य कार्ड के आधार पर खाद व उर्वरकों का उपयोग करने की सलाह दी साथ ही आपने जैविक कपास उत्पादन के बारे में किसानों को विस्तार से बताया। डॉ. मौर्य द्वारा किसानों को कपास उत्पादन में कीट प्रबंधन व रोगों के नियंत्रण के बारे में किसानों को विस्तार से बताया। डॉ. चन्दन ने किसानों को पशुपालन द्वारा कृषि में होने वाले लाभों के बारे में एवं पशुओं में आने वाली मौसमी रोगों व उनके उपचार के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की। कार्यक्रम को सफल बनाने में समस्त ग्रामवासियों, केवीके के समस्त अधिकारियों/कर्मचारियों व कृषि विभाग के अधि./कर्म. का विषेष सहयोग रहा। कार्यक्रम का संचालन डॉ. सिंह द्वारा किया गया, एवं आभार प्रदर्षन डॉ. मौर्य द्वारा किया गया।

 

दिनांक 12 जनवरी 2022 को राष्ट्रीय युवा दिवस स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के अवसर पर शा.उत्कृष्ट उ.मा. वि. रामा जिला झाबुआ में विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन


jhabua news
झाबुआ,। दिनांक 12 जनवरी 2022 को राष्ट्रीय युवा दिवस स्वामी विवेकानंद जी की जयंती के अवसर पर शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामा जिला झाबुआ में स्थापित विधिक साक्षरता क्लब में नालसा (बच्चों को मैत्रीपूर्ण विधिक सेवाऐं और उनके संरक्षण के लिए विधिक सेवाऐं) योजना-2015 के अंतर्गत विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का आयोजन माननीय प्रधान जिला न्यायाधीश श्रीमान मोहम्मद सैय्यदुल अबरार जी के निर्देशानुसार एवं प्राधिकरण के सचिव/अपर जिला न्यायाधीश श्री लीलाधर सोलंकी जी के निर्देशन में किया गया। शिविर का शुभारंभ श्री लीलाधर सोलंकी, श्री एम.एल. फुलपगारे एवं प्राचार्य श्री के. एल. परमार तथा स्टॉफगण द्वारा मां सरस्वती जी एवं स्वामी विवेकानंद जी के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलित कर किया गया। विधिक साक्षरता कार्यक्रम में छात्रों को संबोधित करते हुये श्री सोलंकी जी ने कहा कि पढ़ने, लिखने के दौरान आने वाली समस्या से घबराने की जरूरत नहीं है। लक्ष्य के लिए प्रयास करने की जरूरत को आदत में शामिल करें। उन्होंने कहा कि नियम और कानून समाज को बेहतर ढंग से संचालित करने के लिए बनाए गए है। न्यायाधीश श्री सोलंकी ने कहा कि विधिक साक्षरता शिविर में सामान्य कानून की जानकारी देने का भी काम कानूनी प्रावधानों के अनुसार है। श्री सोलंकी जी ने स्वामी विवेकांनद जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके बताए रास्ते पर चलने हेतु प्रेरित किया उन्होंने कहा कि यदि आप अपने लक्ष्य को निश्चित करने के उपरांत अमल शुरू कर दें तो पाएंगे की आप खुद लक्ष्य प्राप्त कर चुके है। उन्होंने विद्यार्थियों को यातायात के नियमों का पालन करने की समझाईस दी। शिविर में विवेकानंद जी के विचारों से बच्चों को अवगत कराया गया एवं निःशुल्क विधिक सहायता, बालकों के अधिकार, संवैधानिक कर्तव्य आदि के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। श्री सोलंकी जी ने छात्रों को अपने उज्ज्वल भविष्य के लिए परिश्रम एवं लगन से अध्ययन करने और गुरूओं के सम्मान करने के लिए प्रेरित किया। शिविर में सामाजिक कार्यकर्ता श्री एम.एल. फुलपगारे जी ने भी छात्रों को संबोधन करते हुये कहा कि स्वामी जी के जीवन दर्शन से हमें सीख लेकर युवा शक्ति का सकारात्मक प्रयोग करना चाहिए। कार्यक्रम में स्कूल प्राचार्य श्री के.एल. परमार द्वारा भी बच्चों को बताया कि नैतिक शिक्षा और सामाजिक व्यवहार भी अध्ययन के साथ-साथ आवश्यक है एवं विधिक साक्षरता शिविर के माध्यम से व्यक्तित्व विकास में सहायता मिलती है एवं महापुरूषों के जीवन चरित्र को पढ़ने की समझाईस दी गई। शिविर में कोरोना संक्रमण रोकथाम एवं बचाव के उपाय भी बताये गये। बच्चों को सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने एवं भीड़-भाड़ से बचने की समझाईश दी गई। कार्यक्रम का संचालन सहायक शिक्षक श्री विनोद कुमार परमार द्वारा किया गया एवं शिक्षक श्री संजय माथुर ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में शिक्षक श्री लालु पटेल, शिक्षिका श्रीमती रेखा भूरिया, रजिया देशमुख, स्कूली छात्र एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण झाबुआ के कर्मचारीगण उपस्थित रहें।

जिले को मिला सिंथेटिक लॉन टेनिस कोर्ट

  • माननीय प्रभारी मंत्री श्री इंदर सिंह परमार के द्वारा दिनांक 11 जनवरी 2022 को पुलिस लाईन झाबुआ में नवनिर्मित सिंथेटिक लॉन टेनिस कोर्ट का लोकार्पण किया गया

jhabua news
झाबुआ, । खेल और युवा कल्याण विभाग के पुलिस लाईन झाबुआ में नवनिर्मित सिंथेटिक लॉन टेनिस कोर्ट का लोकार्पण माननीय प्रभारी मंत्री श्री इंदर सिंह परमार के द्वारा दिनांक 11 जनवरी 2022 को रात्रि 08.30 बजे किया गया । मंत्री महोदय के आगमन पर तीरंदाजी सह प्रशिक्षण केन्द्र एवं कराते प्रशिक्षण केन्द्र के खिलाडियों के द्वारा जयहिन्द का घोष कर करताल ध्वनि के साथ गर्मजोशी से माननीय मंत्री महोदय का स्वागत किया । इस अवसर पर कलेक्टर श्री सोमेश मिश्रा, पुलिस अधीक्षक श्री आशुतोष गुप्ता, अति0पुलिस अधीक्षक श्री आनन्द सिंह वास्कले, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री सिद्धार्थ जैन, भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष श्री लक्ष्मण सिंह नायक, नगरमण्डल अध्यक्ष अंकुर पाठक आदि प्रशासनिक अधिकारी एवं भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारी उपस्थित थे । माननीय प्रभारी मंत्री महोदय के द्वारा लॉन टेनिस खेल स्वयं खेलकर लॉन टेनिस कोर्ट का शुभांरभ किया गया । खेल अधिकारी विजय कुमार सलाम ने बताया कि जिले में सिंथेटिक लॉन टेनिस कोर्ट का निर्माण रू0 25 लाख की लागत से किया गया हैं । जिले को लॉन टेनिस कोर्ट की सौगात पुलिस अधीक्षक महोदय के मार्गदर्शन में प्राप्त हुई हैं । इस अवसर पर पुलिस विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी, खेल विभाग के अधिकारी, कर्मचारी, एवं खिलाडी उपस्थित रहें ।

स्वरोजगार एवं रोजगार दिवस दिनांक 12 जनवरी 2022 का आयोजन

 

झाबुआ,। माननीय मुख्यमंत्री षिवराजसिंह चौहान व्दारा 12 जनवरी 2022 को प्रदेषव्यापी एवं रोजगार एवं स्वरोजगार दिवस का कार्यक्रम वर्चुअल कार्यक्रम मिनटो हॉल भोपाल से प्रारंभ किया। झाबुआ में जिला स्तरीय कार्यक्रम श्री इन्दरसिंह परमार, प्रभारी मंत्री जिला झाबुआ, के मुख्य आतिथ्य में, श्री गुमानसिंह डामोर सांसद झाबुआ रतलाम के अध्यक्षता में एवं अन्य जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में शगुन गार्डन झाबुआ में लगभग 100 हितग्राहियों की उपस्थिति में सम्पन्न हुआ । सर्वप्रथम मॉं सरस्वती के चित्र पर अतिथियों द्वारा माल्यार्पण एवं स्वामी विवेकान्द के चित्र पर भी माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया ।   उक्त कार्यक्रम में विभिन्न स्वरोजगार योजनाए प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना, मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेता योजना, राष्ट्रीय ग्रामीण आजिविका मिषन सीसीएल योजना एवं मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना आदि सभी योजनओं में लक्ष्य के विरूद्ध 560 प्रकरणों में राषि रूपये 919.47 एवं 133 प्रकरणों में राषि रूपये 290.20 लाख का ऋण स्वीकृति की गई एवं आयोजन में सांकेतिक रूप से कुल 17 प्रकरणों में 146.70 लाख के डेमोचेक तथा कुल 18 प्रकरणों में 44.96 लाख के स्वीकृत पत्रक हितग्राहयों को बॉटे गए । कार्यक्रम का उद्बोदन साथ ही उक्त आयोजन में रोजगार मेलें का भी आयोजन जिला रोजगार अधिकारी द्वारा किया गया । जिसमें (1) प्रतिभा सिनटेक्स पीथमपुर (2) डीडीयु जीकेवाय रतलाम (3) सुजलॉन एनर्जी लिमिटेड भूज (4) वेल्लसन फॉरमर फर्टीलाइजर इस प्रकार 4 कम्पनियों की उपस्थिति रही । जिसमें कुल 158 बेरोजगार युवाओं का पंजीयन किया गया तथा कुल 58 लोगों को रोजगार हेतु विभिन्न निजी कम्पनियों द्वारा चयनित किया गया । कार्यक्रम में प्रषासनिक अधिकारी कलेक्टर, मुख्यकार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत, डीपीएम एनआरएलएम, प्रबंधक, जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र, झाबुआ, अग्रणी बैंक प्रबंधक, अन्य बैकों शाखाओं के शाखा प्रबंधक तथा स्वरोजगार योजना संबंधी समस्त अधिकारी उपस्थित रहें । कार्यक्रम का संचालन श्री हरिष कुण्डल द्वारा किया गया ।

कोई टिप्पणी नहीं: