बिहार : विश्व थैलेसीमिया दिवस मनाया - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 9 मई 2022

बिहार : विश्व थैलेसीमिया दिवस मनाया

world-helesimia-day
पटना. रविवार को विश्व थैलेसीमिया दिवस मनाया गया.इस अवसर पर ओसवाल भवन,चतुर्थ तल्ला (विंडसर होटल के बगल में नारायण प्लाजा एग्जीबिशन रोड पटना में प्रथमा ब्लड सेंटर के बैनर तले आयोजित रक्तदान शिविर में रक्तदान करने वाले नायकों का सम्मानित किया गया. इसके पूर्व रविवार को प्रथमा ब्लड सेंटर,पटना द्वारा आयोजित कार्यक्रम उद्घाटन का उपमुख्यमंत्री तारकेशवर प्रसाद, भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी,पूर्व मंत्री नीतीश मिश्रा, एवं जदयू नेत्री श्रीमती डॉ सुहैली मेहता ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित   करके विश्व थैलेसीमिया दिवस का उद्घाटन किया गया.इस अवसर पर युवा जदयू के प्रदेशाध्यक्ष दिव्यांशु भारद्वाज जी सहित कई गणमान्य व्यक्ति सम्मिलित हुए.   मौके पर विश्व थैलेसीमिया दिवस के अवसर पर पटना में "प्रथमा ब्लड सेंटर" द्वारा आयोजित रक्तदान शिविर में रक्तदान करने वाले नायकों का सम्मानित भी किया गया.यह कहा गया कि रक्तदान महादान है. आपका किया एक छोटा दान किसी की जिंदगी बचा सकता है. रक्तदान अवश्य करें.इस विश्व थैलेसीमिया दिवस की थीम 2022 है "जागरूक रहें. साझा करें.देखभाल: थैलेसीमिया ज्ञान में सुधार के लिए वैश्विक समुदाय के साथ काम करना.''


बता दें कि प्रथमा ब्लड सेंटर के द्वारा थैलेसीमिया नामक रोगियों को ख्याल किया जाता है.यह थैलेसीमिया एक स्थायी रक्त विकार है, जो अनुवांशिक होता है. इस बीमारी में मरीज के खून में लाल रक्त कण नहीं बन पाता, जिस वजह से मरीज के शरीर में हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है और वो एनीमिया से ग्रसित हो जाता है. उन्‍हें जीवित रहने के लिए हर दो से तीन सप्‍ताह बाद खून चढ़ाने की आवश्‍यकता होती है. इस बीमारी के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए हर साल 8 मई को ‘विश्व थैलेसीमिया दिवस‘ मनाया जाता है. यह भी बताने लायक है कि कि साल 1994 में पहली बार ‘विश्व थैलेसीमिया दिवस’ मनाने पर विचार किया गया था. इसी साल थैलेसीमिया इंटरनेशनल फेडरेशन ने 8 मई के दिन को थैलेसीमिया के मरीजों के नाम डेडिकेट किया था और इस बीमारी से जूझ रहे रोगियों के संघर्ष के प्रति जन सामान्य में जागरूकता फैलाने के लिए इस दिन की स्थापना की गई थी. तब जॉर्ज एंगल जोश इस थैलेसीमिया अंतरराष्ट्रीय फेडरेशन के अध्यक्ष और संस्थापक के रूप में काम करते थे. इस तरह के परोपकारी कार्य को आगे बढ़ाने में पंकज सिंह बेघेल लगे हुए हैं.इस समय प्रथमा ब्लड सेंटर पटना के राज्य समन्वयक पंकज सिंह बेघेल हैं.उनका कार्यालय सगुना मोड़, दानापुर में अवस्थित है. प्रथमा ब्लड सेंटर के बैनर तले रविवार को 'विश्व थैलेसीमिया दिवस‘ मनाया गया. इस अवसर पर टीम ब्लड फोर ऑल के सदस्य नीरज आर्यन ने कहा कि सेंटर पटना के द्वारा विश्व थैलेसीमिया के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में थैलेसीमिया के ऊपर जागरूकता कार्यक्रम, नियमित  स्वैच्छिक रक्तदाताओं एवं शिविर आयोजकों का सम्मान, स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का आयोजित किया गया था.यह कार्यक्रम ओसवाल भवन,चतुर्थ तल्ला (विंडसर होटल के बगल में नारायण प्लाजा एग्जीबिशन रोड पटना में किया गया. इस अवसर पर संत माइकल हाई स्कूल के फिजिकल टीचर नीरज आर्यन ने कहा कि बिहार के उपमुख्यमंत्री श्री तारकिशोर प्रसाद ,भवन निर्माण विभाग के मंत्री श्री अशोक चौधरी, पूर्व मंत्री नीतीश मिश्रा के सामने रक्तदान करके आनंदित महसूस कर रहे थे.अब तक नीरज आर्यन ने 14 बार रक्तदान कर चुके हैं. और कहा कि इन महानुभावों को निकट से पहली बार देख पा रहा हूं.यह सुखद अनुभूति है.

कोई टिप्पणी नहीं: