भारत के साथ ‘सार्थक व रचनात्मक संवाद’ का माहौल नहीं है: पाकिस्तान - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 13 मई 2022

भारत के साथ ‘सार्थक व रचनात्मक संवाद’ का माहौल नहीं है: पाकिस्तान

no-all-environment-with-india-pakistan
इस्लामाबाद, 13 मई, पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने कहा है कि भारत के साथ लंबित मुद्दों पर कूटनीति के दरवाजे खुले हैं लेकिन ‘‘सार्थक और रचनात्मक संवाद’’ का माहौल नहीं है। विदेश कार्यालय के प्रवक्ता असीम इफ्तिखार के हवाले से मीडिया में छपी एक खबर में शुक्रवार को यह टिप्पणी सामने आई। खबर के मुताबिक उन्होंने बृहस्पतिवार को साप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन के दौरान भारत के साथ संबंधों पर पूछे गए सवालों के जवाब में यह टिप्पणी की। पाकिस्तानी अखबार ‘डॉन’ में छपी खबर के मुताबिक इफ्तिखार ने कहा, ‘‘कूटनीति में आप दरवाजे कभी भी बंद नहीं करते हैं।’’ मालूम हो कि भारत ने बार-बार पाकिस्तान से कहा है कि वह आंतक, शत्रुता और हिंसा से मुक्त माहौल में उसके साथ सामान्य पड़ोसी संबंध की आकांक्षा रखता है। भारत ने कहा है कि आतंकवाद और शत्रुता से मुक्त माहौल का निर्माण करने की जिम्मेदारी पाकिस्तान की है। इफ्तिखार ने कहा कि इस मुद्दे पर राष्ट्रीय आम सहमति है और पूर्ववर्ती सरकारों ने भारत के साथ विवादों के शांतिपूर्ण समाधान की नीति को ही अपनाया है। विदेश कार्यालय के प्रवक्ता ने कहा कि विवादों के कूटनीतिक समाधान की पाकिस्तान की इच्छा के बावजूद ‘‘सार्थक, रचनात्मक संवाद का माहौल नहीं है।’’ प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ की अगुवाई वाली पाकिस्तान की नयी सरकार के रुख और नयी दिल्ली में एक व्यापार मंत्री की नियुक्ति के संदर्भ में ये सवाल पूछे गए थे। शहबाज शरीफ के पाकिस्तान का प्रधानमंत्री निर्वाचित होने के बाद उनके और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच संदेशों का आदान-प्रदान हुआ था। पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनने के तुरंत बाद शरीफ ने अपने भाषण में कश्मीर में अनुच्छेद 370 निरस्त किए जाने का मुद्दा उठाया था। उन्होंने भारत के साथ बेहतर संबंधों की इच्छा व्यक्त की थी लेकिन इसे कश्मीर मुद्दे से जोड़ा था।

कोई टिप्पणी नहीं: