मधुबनी : बाढ़ पूर्व तैयारियो, प्रबंधन एवम त्वरित राहत को लेकर कार्यशाला - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 13 जून 2022

मधुबनी : बाढ़ पूर्व तैयारियो, प्रबंधन एवम त्वरित राहत को लेकर कार्यशाला

flood-preparation-madhubani
मधुबनी, जिला पदाधिकारी,अरविन्द कुमार वर्मा के निर्देश के आलोक में  बाढ़   पूर्व तैयारियो, बाढ़ के दौरान प्रबंधन एवम बाढ़ के उपरांत त्वरित राहत को लेकर  डीआरडीए सभागार,मधुबनी में जिला के सभी बाल विकास परियोजना पदाधिकारी,महिला सुपरवाइजर तथा जिला बाल संरक्षण इकाई के कर्मी को  यूनिसेफ पटना बिहार के द्वारा जिला प्रशासन के सहयोग से एक दिवसीय कार्यशाला सह उन्मुखीकरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। आपदा प्रभारी पदाधिकारी सह जिला जनसंपर्क पदाधिकारी श्री परिमल कुमार ने कहा की मधुबनी बाढ़ के दृष्टीकोण  से  प्रवण जिला हैं ,मानसून दस्तक दे चूका हैं  इसीलिए समय रहते हुए हर स्तर पर पुख्ता बाढ़ पूर्व तैयारी आवश्यक हैं , समेकित बाल विकास परियोजना से अपेक्षा हैं की अपने क्षेत्र में प्रखंड से लेकर परिवार स्तर तक की तैयारी में समुदाय को मदद करें , गर्भवती महिला,कुपोषित बच्चों ,दिव्यांग ,विस्थापित परिवार को पहचानकर पूर्व सूची तैयार कर लेना हैं ताकि बाढ़ के दौरान उनको त्वरित सहायता देने में  मदद मिल सकता हैं । डीपीओ आइसीडीएस शोभा सिन्हा ने बाढ़ के पूर्व,बाढ़ के दौरान एवम बाढ़ के बाद आइसीडीएस की भूमिका पर विस्तार से प्रकाश डाला।  जिला समन्वयक कमल कामत ने अपने सत्रों में प्रतिभागियों को  बाढ़ के  पूर्व तैयारी में बताया की बाढ़ से प्रभावित होने वाले आंगनवाड़ी केन्द्रों को पहचान कर वैकल्पिक केंद्र तैयार करना , केंद्र के सामग्री को ऊँचे स्थान पर सिफ्ट किया जाये ताकि बाढ़ आने के दौरान वह सामग्री को क्षति नहीं पहुँचे, पोषक क्षेत्र के कुपोषित एवं अति कुपोषित बच्चो को पहचान कर सूची तैयार कर अतिकुपोषित बच्चो को  विशेष निगरानी हेतु एन आर सी  भेजा  जाये I  बाढ़ के दौरान भी गर्भवती महिला को हर हाल में संस्थागत प्रसव हो सके इसके लिए पूर्व तैयारी करना हैं , परिवार स्तर की तैयारी में सुखा राशन, जरुरत के दस्तावेज, कोविड किट, दवाई एवं सुरक्षा सम्बंधित सामग्री  तैयार करना हैं , डूबने के घटना ,सर्पदंश एवं ठनका  की घटना से सुरक्षा विषय पर विस्तृत  समूह चर्चा तथा प्रस्तुतीकरण  दिया।. श्रीमती शोभा सिन्हा परियोजना कार्यक्रम पदाधिकारी आईसीडीएस ने पदाधिकारियों को बतायी की सभी को संवेदनशीलता पूर्वक प्राथमिकता के तौर पर बाढ़  पूर्व तैयारी कार्य मे सहयोग करना हैं, सभी लोग उक्त विषय पर अपने आंगनवाड़ी सेविका को प्रखंड स्तरीय  प्रशिक्षण करे .  यूनिसेफ बिहार द्वारा बाढ़ पूर्व तैयारी विषय पर जिला के सभी विभाग के पदाधिकारी एवं स्वंयसेवको का प्रशिक्षण करने जा रहा हैं  अगला प्रशिक्षण स्वास्थ्य विभाग का 15 जून 2022 को आयोजित हैं

कोई टिप्पणी नहीं: