चीज खाने से मधुमेह का खतरा कम. - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 25 जुलाई 2012

चीज खाने से मधुमेह का खतरा कम.


एक नये अध्ययन में यह बात कही गयी है कि हर रोज चीज के दो टुकड़े खाने से मधुमेह से बचा जा सकता है। हालांकि वर्तमान में स्वास्थ्य संबंधी दिशा-निर्देशों में कहा जाता है कि दुग्ध उत्पादों का कम सेवन करना चाहिए लेकिन इस नये अध्ययन के अनुसार नियमित रूप से चीज खाने से मधुमेह की बीमारी को होने से रोका जा सकता है। से बचा जा सकता मधुमेह 

मधुमेह की बीमारी अक्सर अधिक मोटापे की वजह से होती है। डेली मेल की खबर के अनुसार ब्रिटेन और नीदरलैंड के शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में पाया कि हर रोज चीज के दो टुकड़े खाने से टाइप-2 मधुमेह का खतरा 12 प्रतिशत कम हो जाता है।

मधुमेह से ह्रदयाघात, दौरा, अंधापन, तंत्रिका समस्याएं जैसी कई बीमारियां हो सकती हैं। शोधकर्ताओं ने अपने अध्ययन में ब्रिटेन समेत आठ यूरोपीय देशों के 16,800 स्वस्थ वयस्कों और टाइप-2 मधुमेह से पीड़ित 12,400 मरीजों को शामिल किया था। अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों ने हर रोज कम से कम 55 ग्राम चीज खाया था (लगभग दो टुकड़े) उनमें टाइप-2 मधुमेह के होने की संभावना 12 प्रतिशत कम थी। इसी तरह हर रोज 55 ग्राम दही खाने वाले लोगों में भी टाइप-2 मधुमेह की संभावना इतनी ही कम पायी गयी। सालों तक कहा जाता रहा है कि दुग्ध उत्पादों के अधिक सेवन से मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है क्योंकि इनमें संतप्त वसा का उंचा स्तर होता है जिससे कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है। ज्यादा कोलेस्ट्रॉल से मधुमेह का खतरा बढ़ जाता है।

ब्रिटेन आधारित शोधकर्ता डॉक्टर इयेन फ्रेम ने कहा कि हम स्वस्थ खानपान पर जोर देते हैं, ऐसा खाना जिसमें नमक और वासा का स्तर कम हो, लेकिन इनसे बचने के लिए दुग्ध उत्पादों का कम सेवन करने की मान्यता को यह अध्ययन झुठलाता है। 

कोई टिप्पणी नहीं: