भारत एशिया में आर्थिक संरचना के निर्माण में मदद करेगा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 10 अक्तूबर 2013

भारत एशिया में आर्थिक संरचना के निर्माण में मदद करेगा

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने गुरुवार को एशिया में आर्थिक व सुरक्षा सहयोग की एक क्षेत्रीय संरचना के निर्माण की भारत की प्रतिबद्धता दोहराई। उन्होंने कहा कि वैश्विक आर्थिक अस्थिरता व दुनिया के कुछ हिस्सों में राजनीतिक उथलपुथल के चलते अब इस तरह की सामूहिक कार्यवाही व सहयोग की तीव्र आवश्यकता है।

मनमोहन सिंह दक्षिणपूर्व एशिया की यात्रा के पहले चरण में 11वें भारत-आसियान शिखर सम्मेलन व आठवें पूर्व एशियाई शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए बुधवार को ब्रुनेई की राजधानी पहुंचे।

उन्होंने कहा कि भारत वित्त पोषण के बुनियादी ढांचे के नवीन साधनों पर समान विचारधारा वाले देशों के साथ बातचीत व सहयोग के लिए उत्सुक है। उन्होंने जोर देकर कहा कि भौतिक बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए साथ ही साथ अन्य तरह के बुनियादी ढांचे का निर्माण भी आवश्यक है। उन्होंने कहा कि भारत इस साल के अंत में आसियान कनेक्टिविटी कोऑर्डिनेटिंग कमेटी व पूर्व एशिया शिखर सम्मेलन के बीच होने वाली बैठक की ब्रुनेई की पहल का स्वागत करता है।

कोई टिप्पणी नहीं: