अनुदामिनी की टीवी पर वापिसी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 7 फ़रवरी 2017

अनुदामिनी की टीवी पर वापिसी

anudmini-back-to-television
दूरदर्शन शो अनुदामिनी की वापिसी एक बार फिर से हुई। शो की कहानी विस्तार के इसमें कई ज्वलंत मुददों को भी उठाया गया । इन दिनों निर्माता राजेश कुमार जैन के मुताबिक अनुदामिनी ने दो सौ कडियों का आंकडा पिछले साल ही पूरा कर किया था। अब नई कहानी और उसका मजबूत कन्सेप्ट दर्शकों को लुभा रहा हैं। शो की कहानी एक ग्रामीण युवती मुमंई महानगर में रहते हुए अपने परिवार के प्रति दायित्व निभाती है,जबकि उसका पति, नफरत करता हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

Loading...