झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 23 जनवरी - Live Aaryaavart

Breaking

मंगलवार, 23 जनवरी 2018

झाबुआ (मध्यप्रदेश) की खबर 23 जनवरी

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का पिटोल में हुआ स्वागत
  • भोपाल शपथ लेने जा रही थी, पिटोल से गुजरा काफिला
  • बस से करेगी भोपाल तक सफर राज भवन की गाडीयों में बेठने से किया इन्कार

jhabua news
पिटोल - गुजरात से आकर राज्यपाल पद की शपथ लेने भोपाल पहुंच रही नव नियुक्त मध्य प्रदेश राज्य की राज्यपाल व गुजरात की पुर्व मुख्यमंत्री आनन्दीबेन पटेल का प्रदेश की सीमा में प्रवेश करने पर पिटोल में भव्य स्वागत किया गया। सोमवार को दोपहर 12 बजे यहां पहुंची आनंदीबेन की जिला कलेक्टर आशीष सक्सैना व पुलिस अधिक्षक महेशचंद्र जैन ने आगवानी की। सीमा पर पहले से बडी संख्या में एकत्रित भाजपा पदाधीकारीयों व कार्यकर्ताओं ने पुष्पमालाओं से स्वागत किया। कलेक्टर श्री सक्सेना ने आनंदीबेन को झाबुआ जिले में पहुंचने पर प्रतिक चिन्ह के रुप में तीर कमान भेंट किया वहीं विधायक शांतिलाल बिलवाल व जिला भाजपा अध्यक्ष दौलत भावसार नें भी उनका स्वागत किया।

पांच मिनट रुकी, वहीं बस में से ही किया स्वागत स्वीकार ......
अपने महिला मण्डल सदस्यों के साथ चार्टेड बस में सवार आनंदीबेन बाहर स्वागत के लिये एकत्रित भाजपा कार्यकर्ताओं की भीड देख बस दरवाजे के पायदान पर ही रुक गई दरअसल भाजपा अध्यक्ष व विधायक दोनों अपने समर्थकों के साथ अलग अलग यहां पहुंचे थे। स्वागत को लेकर मची होड में कुछ देर के लिये भगदड से हालात निर्मित हो गऐ थे।
               
प्रशासनिक लवाज्मा 1 घंटे पुर्व से डटा था सीमा पर ...
कलेक्टर, एसपी के मार्गदर्शन में जिला मुख्यालय से साथ आया प्रशासनिक लवाज्मा करीब 10ः30 बजे से पिटोल एकीकृत जांच चैकी के समिप आगवानी के लिये डटा हुआ था लगभग 11 बजे यहां पहुंचने वाला आनंदीबेन का काफिला 1 घंटे लेट यहां पहुंचा जो पांच मिनट रुकने के बाद यहां से उज्जैन के लिये रवाना हो गया। राज्यपाल उज्जैन में महांकाल मंदिर में बाबा भोलेनाथ के दर्शन करने के बाद भोपाल रवाना होंगी जहां वे मंगलवार को राज्यपाल पद की शपथ लेंगी।

बसंती पंचमी पर मां सरस्वतीजी की पूजन की गई, विकलांग केंद्र में हुआ आयोजन

jhabua news
झाबुआ। जिला विकलांग एवं पुर्नवास केंद्र ग्राम रंगपुरा में बसंती पंचमी का पावन पर्व मनाया गया। इस अवसर पर विकलांग केंद्र के हाॅल में मां सरस्वतीजी की महापूजन का आयोजन हुआ। कार्यक्रम का संचालन करते हुए विकलांग केंद्र के संचालक शैलेन्द्रसिंह राठौर ने बसंती पंचमी के महत्व के बारे में उपस्थित दिव्यांग बच्चों को जानकारी दी। बाद बच्चों ने लाईन मे ंखड़े रहकर बारी-बारी से मां सरस्वतीजी के चित्र पर दीप प्रज्जवलन कर, उनके चरणों म ंपुष्प अर्पण कर एवं तिलक लगाकर महा सरस्वती की पूजन की एवं मंत्रोच्चार किया। पश्चात् आरती की गई। अंत में प्रसादी का आयोजन हुआ। इस अवसर पर रोटरेक्ट क्लब अध्यक्ष रिंकू रूनवाल भी उपस्थित थे।

सडक निर्माण का हुआ भुमि पुजन

पारा--आज सोमवार को रामा ब्लाक के पारा क्षेत्र की समिपस्थ ग्राम पंचायत रातीमाली मे सुदुर सडक निर्माण योजना के अंर्तगत सडक निर्माण का भुमि पुजन भाजपा अजा मोर्चे के जिला उपाध्यक्ष शेलेन्द्र राठोर ने किया।
jhabua news
सुदुर सडक योजना के अन्तर्गत बनने वाली इस सडक से रातीमाल पंचायत के डुगर फलिए वासीयो को अये दिन होने वाली परेशानी से निजात मिलेगी। करिब 12 लाख की लागत से गीट्टी मिट्टी व मुर्रम से बनने वाली यह सडक रातीमाली के मुख्य मार्ग से झुमका सीमा तक करिब एक किलो मीटर के क्षेत्र मे बनेगी। उक्त सडक निर्माण की ऐजेंसी ग्राम पंचायत रहेगी। इस अवसर पर सरपंच श्रीमति रेशमा कालुसिह खराडी,केलाश खराडी, उपसरपंच राजेश सिसोदिया,पंच धर्मेन्द्र डामोर,सचिव शंकर बामनिया,सह सचिव दिनेश खराडी सहीत कई ग्रामवसी उपस्थित थे।

र्जन साॅफटवेयर का प्रशिक्षण 23 जनवरी को

झाबुआ । रबी उपार्जन वर्ष 2018-19 में समर्थन मूल्य अन्तर्गत गेहूॅ खरीदी कार्य किया जाना है। इस संबंध में शासन स्तर से जारी उपार्जन नीति के अनुसार समय सीमा में नवीन किसान पंजीयन, बैंक खाता, आधार, पावती अन्य आवश्यक दस्तावेजों की आॅनलाईन इन्ट्री तथा उपार्जन केन्द्रो पर प्राथमिकता सुविधाएॅ किसानो के लिये उपलब्ध कराई जाना है। इस हेतु प्रशिक्षण आपूर्ति विभाग द्वारा 23 जनवरी 2018 को दोपहर 1.30 बजे से कलेक्टर कार्यालय सभाकक्ष में दिया जाएगा।

अध्यापकों के अलग-अलग संवर्गों का शिक्षा विभाग में संविलियन होगा

झाबुआ । मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान ने कहा है कि अध्यापकों के अलग-अलग संवर्गों का शिक्षा विभाग में संविलियन होगा। शिक्षकों को जो सुविधाएं मिलती हैं वह इन अध्यापकों को भी मिलेगी। मुख्यमंत्री श्री चैहान ने मुख्यमंत्री निवास पर अध्यापक संघों के पदाधिकारियों और  अध्यापकों को संबोधित करते हुए उक्त बात कही। जिसमें अध्यापकों के लिये स्थानांतरण नीति, गुरुजियों का वरिष्ठता क्रम तथा शिक्षिकाओं के लिये मातृत्व अवकाश की सुविधा शामिल रहेगी। उन्होने कहां है कि इस प्रदेश ने वह दौर भी देखा है जिसमें शिक्षकों को कर्मी बना दिया गया था। हमने प्रदेश में कर्मी कल्चर समाप्त किया। शिक्षक मेहनत और निष्ठा से बच्चों को पढ़ायें और उनका भविष्य बनायें। शिक्षकों का भविष्य राज्य सरकार बनायेगी। राज्य सरकार ने तय किया है कि बारहवीं कक्षा में सत्तर प्रतिशत अंक लाने वाले बच्चों का प्रवेश मेडिकल-इंजीनियरिंग जैसे पाठ्यक्रमों में होने पर उनकी फीस राज्य सरकार द्वारा भरी जाएगी। आप बच्चो को अच्छे से पढाये ताकि शासकीय स्कूलों के विद्यार्थियों के बेहतर परीक्षा परिणाम आयें।

श्रमोदय विद्यालय में प्रवेश हेतु आवेदन की अंतिम तिथि अब 15 फरवरी

झाबुआ । पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के पुत्र-पुत्रियों को श्रमोदय विद्यालय में प्रवेश लेने हेतु आवेदन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि में अब पुनः वृद्धि कर 15 फरवरी 2018 निर्धारित की गई है। पूर्व में आवेदन पत्र जमा करने की अंतिम तिथि 30 दिसम्बर 2017 एवं 31 जनवरी 2018 नियत की गई थी। सहायक श्रम पदाधिकारी ने बताया कि पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के प्रतिभावान बच्चों को गुणवत्तायुक्त आधुनिक शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से विद्यालय की स्थापना की गई है। शैक्षणिक सत्र 2018-19 में कक्षा 6वीं से 9वीं एवं कक्षा 11वीं में प्रवेश परीक्षा के माध्यम से भोपाल स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय श्रमोदय आवासीय विद्यालय में प्रतिभावान बच्चों को प्रवेश दिया जाएगा। परीक्षा में शामिल होने के इच्छुक विद्यार्थी आवेदन पत्र श्रम पदाधिकारी कार्यालय अथवा संबंधित शाला के प्राचार्य से निःशुल्क प्राप्त कर सकते हैं। विभागीय वेबसाइट के माध्यम से भी आवेदन पत्र डाउनलोड किया जा सकता है। विद्यार्थियों को अध्ययनरत विद्यालय के प्राचार्य को नियत तिथि तक अपना आवेदन पत्र प्रस्तुत करना होगा। प्रवेश परीक्षा के संबंध में अधिक जानकारी के लिए श्रम पदाधिकारी कार्यालय से भी सम्पर्क किया जा सकता है।

आनंद उत्सव में ग्रामीणो ने रस्साकशी का आनंद लिया
  • समोई में हुआ आनंद उत्सव का आयोजन

jhabua news
झाबुआ । जिले में 14 जनवरी से 21 जनवरी तक ग्राम पंचायतो में आनंद उत्सव का आयोजन किया गया। राणापुर ब्लाक की ग्राम पंचायत समोई में बुजुर्गो, महिलाओं एवं युवाओ की रस्साकशी, कबड्डी, दौड इत्यादि प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। बुजुर्गो, युवाओं एवं महिलाओं ने आयोजित आनंद उत्सव के दौरान प्रतियोगिता में बढ-चढ कर हिस्सा लेकर आनंद की अनुभूति की। गांव के बुजुर्गो एवं अन्य लोग जो आनंद उत्सव देख रहे थे। उन्होंने बताया कि खेल से   बचपन की यादे ताजा हो गई है।

दलहन निदेशक ने जिले में फसलो का निरीक्षण किया

jhabua news
झाबुआ । भारत सरकार के दलहन विकास निदेशालय के निदेशक डा.ए.के.तिवारी ने 20 जनवरी तक जिले के भ्रमण पर रहे। को क्षैत्र भ्रमण में डा. तिवारी द्वारा जिले में संचालित भारत सरकार की राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन, बीज ग्राम, आर0के0व्ही0व्हाय0, परम्परागत कृषि विकास योजना, राष्ट्रीय तिलहन मिशन, मृदा स्वास्थ कार्ड, नेशनल मिशन आंन सस्टेनेबल एग्रीकल्चर मिशन इत्यादि योजनाओं अंतर्गत डाले गये प्रदर्शन, उन्नत कृषि यंत्र, सिचाई यंत्र, वर्मी कम्पोस्ट यूनिट, जैविक कृषि की तकनिकी इत्यादि का अवलोकन किया गया। भ्रमण के दौरान महत्तवपूर्ण केन्द्रीय योजनाओं के लाभार्थी हितग्राही कृषको से संपर्क कर योजनाओं के बारे में चर्चा की गई। विकास खण्ड रामा के ग्राम खरडूबडी के कृषक श्री श्यामलाल पन्नालाल को सब मिशन आंन एग्रीकल्चर मैकेनाईजेशन योजना अंतर्गत वर्ष 2015-16 में अनुदान सहायता पर प्रदाय ट्रेक्टर के द्वारा कृषि कार्य में सहायता एवं उससे होने वाले लाभ पर चर्चा की। कृषक से चर्चा करते हुए डा.तिवारी ने कहां की अपने खेत की जुताई एवं कृषि कार्य के साथ साथ गांव के अन्य पडोसी कृषको के खेत की निर्धारित शुल्क पर जुताई का कार्य भी करना चाहिये क्योंकि अनुदान सहायता पर प्रत्येक किसान को ट्रेक्टर उपलब्ध नही कराया जा सकता इसलिये शासन की योजनाओं का लाभ ज्यादा से ज्यादा कृषको को मिले उसके लिये प्रयास किये जाना चाहिये। चर्चा के समय उपस्थित वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी एवं सबंधित ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी को योजना के इम्पेक्ट एसेसमेंन्ट के लिये ट्रेक्टर द्वारा कुल कितने घन्टे कृषि कार्य किया गया कितना किराये पर चलाया गया ओर इससे कृषक को कुल कितना फायदा हुआ इसके सबंध में डाक्युमेंन्टेशन कर सफलता की कहानी तैयार करने के निर्देश दिये गये। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन अंतर्गत ग्राम खरडूबडी के कृषक श्री अमृतलाल के खेत पर चना प्रदर्शन का अवलोकन किया तिवारी द्वारा प्रदर्शन में लगाई गई चने की उन्नत किस्म जाकि-9218 के एडाप्शन पर संतोष व्यक्त किया। बीज ग्राम योजना अंतर्गत जिले में अपनाई जा रही अनुदान सहायता प्रक्रिया तथा प्रशिक्षण आयोजन के सबंध में उप संचालक कृषि से चर्चा की तथा जिले में अपनाई जा रही कृषक हितैेषी प्रक्रिया की प्रशंसा की। होलीस्टीक फार्मिग के हितग्राही कृषक से चर्चा करते हुए योजना अंतर्गत अपनाई जा रही गतिविधियों के सबंध में कृषक द्वारा अवगत कराया गया कि वह अपने खेत पर उन्नत कृषि उद्यानिकी पशुपालन फार्म पोण्ड इत्यादि गतिविधि भी करते है। तमिलनाडूं से अमरूद के लगभग 150 पौधें लाकर तीन वर्ष पूर्व अपने खेत पर लगाये जो वर्तमान में फल देने लगे है, कृषक श्री महेश नारायण को विभागीय योजना अंतर्गत अनुदान सहायता पर प्रदाय सीड कम फर्टी ड्रील प्रदाय वर्ष 16-17 पर चर्चा करते हुए सिंगल पेटी वाली सीड ड्रील की तुलना में अधिक लाभदायक बताते हुए अवगत कराया की इससे बीज एवं खाद अलग अलग पेटी में होने से फसल को पर्याप्त पोषण मिलता है तथा अंकुरण प्रभावित नही होता है, इसलिये डबल पेटी वाली सीड ड्रील का ही कृषको को उपयोग करना चाहिये। रामा विकास खण्ड के ग्राम नरवाली में कृषक श्री भूरसिंह गाडरिया के खेत पर अपनाई जा रही जैविक खेती का अवलोकन किया, साथ ही परम्परागत कृषि विकास योजना अंतर्गत बनाये गये पी0जी0एस0गुप्र के लीडर श्री जगन से चर्चा की तथा उससे पुछा की आपके द्वारा कौन सी शपथ ली गई है इस पर लीडर द्वारा अवगत कराया गया की हम हमारे खेत पर रासायनिक उर्वरक, कीटनाशक दवाईयां का उपयोग नही नही करूगां आगे चर्चा करते हुए डा.तिवारी द्वारा जैविक कृषि के साथ साथ जैविक उत्पादों की ब्राडिगं कर छोटी छोटी पेकिंग बनाकर गु्रप के नाम से बेचने का सुझाव दिया ताकि जैविक उत्पादों का अधिक कीमत प्राप्त हो सके। जैविक मेले हाट इत्यादि में भी सहभागिता कर अपने उत्पादों को बेचने के लिये सुझाव दिया। कृषक श्री भूरसिंह गाडरिया से चर्चा करते हुए डा. तिवारी द्वारा जैविक तिल की काश्त करने का भी सुझाव दिया तथा उप संचालक कृषि से ग्रीष्मा कालीन तिल लगाने की सम्भावना तलाशने का सुझाव दिया । भ्रमण में उप संचालक कृषि, परियोजना संचालक आत्मा, अनुविभागीय कृषि अधिकारी, सहायक मृदा सर्वेक्षण अधिकारी, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी एवं सबंधित भूमि संरक्षण सर्वे अधिकारी, ग्रामीण कृषि वि परियोजना संचालक आत्मा, अनुविभागीय कृषि अधिकारी, सहायक मृदा सर्वेक्षण अधिकारी, वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी एवं सबंधित भूमि संरक्षण सर्वे अधिकारी, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी भी मौजूद थे।

12 वी में 75 प्रतिशत अंक लाओं लैपटाप पाओ, कक्षा 12 वी के छात्रो को पढाई हेतु प्रेरित करने किया संवाद

झाबुआ । हायर सेकेडरी स्कूलों के कक्षा 12 वी के छात्र-छात्राओं को वार्षिक परीक्षा के पहले पढाई के लिए प्रेरित करने के लिए सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों के छात्र-छात्राओं के लिए प्रेरणा संवाद कार्यक्रम 15 से 30 जनवरी के बीच आयोजित किये जायेगे। आज शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय पिटोल, शा.उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रातीतलाई एवं शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर मा.विद्यालय मेघनगर शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय झकनावदा में जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों ने विद्यार्थियों से संवाद किया एवं उन्हें बताया कि आप अच्छे से पढाई करे एवं 12 वीं की परीक्षा में 75 प्रतिशत से अधिक अंक लाये। शासन द्वारा मेघावी छात्र प्रोत्साहन योजना एवं लेपटाप योजना का लाभ दिया जाएगा।

सफलता की कहानी : बालू ने सिलाई का धंधा छोड अपनाई खेती

jhabua news
झाबुआ । राणापुर में किराये की दुकान लेकर सिलाई का व्यावसाय करने वाले बालूसिंह को उद्यानिकी फसले ऐसी रास आई कि उन्होने सिलाई का धंधा छोडकर खेती को ही अपना व्यावसाय बना लिया है। ग्राम समोई ब्लाक राणापुर में रहने वाले बालुसिंह पिता नाथूसिंह ने अब उद्यानिकी फसलो के उत्पादन का प्रशिक्षण लेकर विकास की रफतार पकड ली है। वैज्ञानिक तकनीको और षासकीय अनुदान का उपयोग कर वे क्षैत्र के अच्छे किसानो की श्रैणी में आ गये है। तकीनीकी ज्ञान की कमी एवं संसाधन सीमित होने से वह कड़ी मेहनत के बाद भी अपनी आय में वृद्धि नहीं कर पा रहे थे। किन्तु जब बालूसिंह ने किसान भ्रमण कार्यक्रम के दौरान अन्य किसानो की फसले देखी एवं वैज्ञानिक तकनिकों और उद्यानिकी विभाग से प्राप्त 55 हजार रूपये षासकीय अनुदान का लाभ लिया तो वह विकास की अग्रिम पंक्ति में आ गये। खरीफ फसल से 4-5 हजार वार्षिक कमाने वाले बालूसिह पिता नाथुसिंह खेती में वैज्ञानिक तकनिकी एवं ड्रीप सिंचाई का उपयोग कर कम पानी होने के बाद भी एक एकड खेत से 75 हजार वार्षिक कमा रहे है। बालूसिह ने 2016 में अपने खेत में टमाटर की फसल लगाई एवं उद्यानिकी विभाग से ड्रींप सिंस्टम अनुदान योजना में ड्रीप लगाई। टमाटर से प्राप्त आमदनी के बाद बालूसिह ने खेती करने का ही प्लान बना लिया। अब वह अपने खेत में ही और अधिक उद्यानिकी फसले लगाकर आय अर्जित करना चाहते है जिससे परिवार का अच्छे से विकास हो सके। झाबुआ जिले के राणापुर ब्लाक के ग्राम समोई में रहने वाले कृशक श्री बालूसिह ने चर्चा के दौरान बताया कि उसके पास सिंचाई के लिये एक कुआ एवं  ट्यूबवेल है जिससे गेहूॅ चने की फसल की सिंचाई अच्छे से नहीं हो पाती थी। इस वजह से उसे परिवार के भरण पोषण के लिये राणापुर में सिलाई मशीन का काम करना पडता था। सिलाई कार्य से लाभ नहीं हुआ। फिर बालूसिंह को किसान भ्रमण कार्यक्रम के तहत पेटलावद एवं कुक्षी में उन्नत किसानो के खेत देखने का अवसर मिला और उन्होने खेती करने की तकनीको का भी ज्ञान प्राप्त किया और उद्यानिकी फसल उत्पादन की ठानी। उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों के सम्पर्क में आने के बाद षासन से ड्रीप सिंचाई सिस्टम एवं फल सब्जी उत्पादन का तकनीकी मार्गदर्शन प्राप्त किया। खेत में गोभी, बैंगन, टमाटर, मटर, प्याज, लहसुन इत्यादि फसल लगाई। इससे उनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ हुई। ड्रीप इरीगेषन सिस्टम लगाने से पहले वह सिर्फ खरीफ की ही फसल कर पाते थे। वह अपने खेत में गेहूॅ चना बोते थे, लेकिन सिंचाई के लिए पानी की कमी की वजह से उत्पादन नहीं हो पाता था। ड्रीप लगाने से टमाटर की खेती से 75 हजार की आमदनी हुई उससे बालूसिंह ने आवागमन के लिए मोटर साईकिल खरीद ली एवं अपने दो बच्चो की शिक्षा भी अच्छे निजी स्कूल में करवा रहे है।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...