सिर्फ आर्थिक नहीं, भावनात्मक निवेश भी जरुरी: कोविंद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 22 फ़रवरी 2018

सिर्फ आर्थिक नहीं, भावनात्मक निवेश भी जरुरी: कोविंद

not-only-financial-emotional-investment-is-also-important-says-kovind
लखनऊ 22 फरवरी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ‘यूपी इन्वेस्टर्स समिट’ के सफल आयोजन पर योगी सरकार को बधाई देते हुये कहा है कि सिर्फ आर्थिक निवेश ही नहीं बल्कि भावनात्मक निवेश भी जरुरी है। श्री कोविंद आज यहां उत्तर प्रदेश इन्वेस्टर्स समिट- 2018 के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे। राष्ट्रपति ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयास से प्रदेश को एक मजबूत आधार मिला है। उत्तर प्रदेश के विकास से ही देश को आर्थिक मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि समिट की सफलता तय है लेकिन केवल आर्थिक निवेश से काम नहीं चलेगा। भावनात्मक निवेश भी होना चाहिए। भावनात्मक निवेश होगा तो आर्थिक निवेश को सफलता से कोई रोक नहीं सकता। भावनात्मक निवेश से लोगों का लगाव बढ़ेगा। श्री कोविंद ने कहा कि उत्तर प्रदेश काफी समृद्ध है। इस राज्य से नौ प्रधानमंत्री हुए हैं। इत्तेफाक है कि उनका जन्म भी इसी प्रदेश में हुआ है। यहां की जमीन उपजाऊ है। यहां प्राकृतिक साधनों की कमी नही है। निवेश के लिये यह सबसे मुफीद राज्य है। प्रदेश की सीमा नेपाल से लगी है। इसका एक भाग देश की राजधानी दिल्ली से सटा है। प्रदेश विशेष भौगोलिक स्थिति संपदा और नौजवानों के कारण संभावनाओं के द्वार खोलता है। राष्ट्रपति ने कहा कि यह राज्य देश में संस्कृति और राजनीति का महत्वपूर्ण केंद्र है। देश के नौ प्रधानमंत्री चुनकर यहीं से संसद में पहुचे हैं। उन्होने वर्षों तक देश का नेतृत्व किया है। देश की सबसे बड़ी श्रमशक्ति उत्तर प्रदेश में है। निवेश के बाद रोजगार के अवसर बढ़ेंगे और श्रम शक्ति का भरपूर उपयोग हो सकेगा। प्रदेश में निवेश के देश के उद्यमियों के साथ कई देशों के प्रतिनिधि आये हैं जिन्होने यहा रूचि दिखायी है। उन्होने कहा मारिशस के साथ उत्तर प्रदेश का रिश्ता है। अगले महीने मारिशस की वर्ष गांठ पर वहां जाना है। उन्होंने कहा कि औद्योगिक विकास के लिये शान्ति, सुरक्षा, बिजली तथा आधारभूत सुविधाओं की आवश्यकताअों की जरूरत होती है। प्रदेश की योगी सरकार इस ओर ध्यान दे रही है। उन्होंने कहा कि तीन शहरों में मेट्रो चल रही है। नोएडा तथा ग्रेटर नोएडा में कई इलेक्ट्रानिक उद्योग लगे हैं, जिससे प्रदेश आर्थिक रूप से मजबूत हो रहा है।

एक टिप्पणी भेजें