मुख्य सचिव के साथ बदसलूकी के आरोपियों पर कडी कार्रवाई हो: माकन - Live Aaryaavart

Breaking

मंगलवार, 20 फ़रवरी 2018

मुख्य सचिव के साथ बदसलूकी के आरोपियों पर कडी कार्रवाई हो: माकन

strict-action-should-be-taken-against-the-accused-of-mis-treatment-with-the-chief-secretary
नयी दिल्ली 20 फरवरी, दिल्ली के मुख्य सचिव अंशु प्रकाश के साथ मुख्यमंत्री निवास पर आम आदमी पार्टी (आप) के दो विधायकों की कथित बदसलूकी पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए दिल्ली कांग्रेस ने आरोपी लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन ने अरविंद केजरीवाल के सरकारी आवास पर कल देर रात हुई इस घटना पर कहा कि मुख्यमंत्री के सामने यह घटना हुई लिहाजा उन्हें पद पर रहने का कोई अधिकार नहीं है। श्री माकन ने श्री केजरीवाल के इस्तीफे की मांग की। प्रदेश अध्यक्ष ने आज संवाददाता सम्मेलन में कहा कि केजरीवाल सरकार जनता से किए वादों के अनुरुप काम करने में पूरी तरह नाकाम रही है और इसका दोष अधिकारियों के सिर मढ कर अपना पीछा छुड़ाना चाह रही है। उन्होंने कहा “चुने हुए प्रतिनिधि सरकार की नीतियां बनाते हैं और इनको क्रियान्वित करना अधिकारियों की जिम्मेदारी होती है, ऐसी घटना माफी योग्य नहीं है।” श्री माकन ने कहा कि दिल्ली में ऐसा पहले कभी नहीं हुआ है और श्री केजरीवाल को अपने नेताओं की तरफ से माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने दिल्ली सरकार के अधिकारियों के साथ आप के नेताओं के कई बार दुर्व्यवहार का उल्लेख करते हुए कहा कि कोई भी अधिकारी इनके साथ काम नहीं करना चाहता है क्योंकि आप के विधायकों का व्यवहार ठीक नहीं है। सरकार जनता की उम्मीदों और अपने वादों के अनुरुप काम कर पाने में असफल है और अधिकारियों के सिर पर इसका ठीकरा फोड़ रही है। मुख्यमंत्री के आवास पर देर रात बैठक के बारे में श्री माकन ने कहा “ बिना किसी आपात स्थिति के आधी रात को घर पर बैठक बुलाना केवल यह दिखाता है कि कांग्रेस के फिर से सक्रिय होने पर आप में किस तरह भय व्याप्त है।” गौरतलब है कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित की मान मनौव्वल के बाद श्री माकन पार्टी छोड़कर भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) में शामिल हुए पूर्व मंत्री अरविंदर सिंह लवली को फिर कांग्रेस में लाने में कामयाब रहे हैं। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की कल प्रदेश कार्यालय में हुई बैठक में दिल्ली की वर्तमान स्थिति पर बैठक हुई थी जिसमें चार मार्च को ज्वलंत समस्याओं पर राजधानी भर में प्रदर्शन करने का फैसला लिया गया।

एक टिप्पणी भेजें
Loading...