विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 15 फ़रवरी - Live Aaryaavart

Breaking

गुरुवार, 15 फ़रवरी 2018

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 15 फ़रवरी

विधिक जागरूकता शिविरों में नवाचार के निर्देश 

राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यपालक अध्यक्ष न्यायाधिपति श्री रंजन गोगोई द्वारा विधिक सेवा शिविरों के आयोजन के संबंध में नया माॅडयूल अनुमोदित किया है। जिसके अनुसार जिलो में आयोजित होने वाले विधिक सेवा प्राधिकरण के जागरूकता शिविरों में स्पष्ट परलिक्षित होगा। जिला प्राधिकरण द्वारा नालसा के नवीन माॅडयूल पर आधारित शिविर का आयोजन 25 फरवरी को विदिशा विकासखण्ड के खामखेडा में आयोजित किया गया है। जिला न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री विपिन बिहारी शुक्ला के मार्गदर्शन में आयोजित होने वाले उक्त शिविर के संदर्भ में मुख्य न्यायिक मजिस्टेªट श्री पीएस कैमेथिया तथा जिला रजिस्ट्रार एवं सचिव श्री दिनेश कुमार प्रजापति के द्वारा आयोजन स्थल खामखेडा ग्राम का निरीक्षण किया गया है। इस दौरान शिविर के मूल उद्वेश्य विधिक सेवा प्राधिकरण के अधिनियमों के अंतर्गत केन्द्र एवं राज्य शासन के द्वारा संचालित सामाजिक कल्याणकारी योजनाओं के विषय में आमजन को जागरूक कर उनका लाभ पहुंचाना है से अवगत कराया गया। विधिक सेवा प्राधिकरण आयोजन के पूर्व प्री-केम्प तैयारी की जा रही है जिसमें जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के द्वारा नियुक्त पैरालीगल वालेंटियर्स डोर-टू-डोर प्रचार प्रसार कर रहे है। नालसा की कोर थीम से जुड़े व्यक्तियों की पहचान कर उनसे सम्पर्क किया जा रहा है तथा वंचित व्यक्तियों को प्राप्त होने वाले लाभ तथा योजनाओं के विषय में आवश्यक रूप से जागरूक किया जा रहा है तथा फोटो, आधार कार्ड सहित आवेदन प्राप्त कर संबंधित विभागों के लिए कार्यवाही हेतु प्रेषित किए जा रहे है। 

हितग्राहियों को स्वीकृति पत्र प्रदाय, मधुमक्खी पालन से प्रशिक्षित हुए 

vidisha news
उद्यानिकी विभाग के द्वारा मधुमक्खी पालन को बढावा देने के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे है। कृषकों का मधुमक्खी पालन के प्रति रूझान बढ़े इसके लिए बकायदा प्रशिक्षण का आयोजन खण्ड मुख्यालयांे के साथ-साथ ग्रामों मंे किया जा रहा है। विभाग के सहायक संचालक श्री केएल व्यास ने बताया कि विकासखण्ड कुरवाई के ग्राम सीहोरा में एक दिवसीय मधुमक्खी पालन कृषक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया था जिसमें डाॅ राजवीर सिंह ने मधुमक्खी पालन की महत्वता और उपयोगिता तथा होने वाले लाभो की विस्तृत जानकारी प्रशिक्षणार्थियों को दी। प्रशिक्षण अवधि में ही 26 कृषकों के प्रकरणों में स्वीकृति प्रदान की गई ताकि उनके द्वारा इसी वित्तीय वर्ष मंे मधुमक्खी पालन का व्यवसाय संचालित किया जा सकें। प्रत्येक यूनिट पर चालीस प्रतिशत का अनुदान केन्द्र सरकार की योजना के तहत हितग्राहियों को दिया जा रहा है। श्री व्यास ने बताया कि मधुमक्खी पालन की अधिक से अधिक यूनिट जिले में स्थापित हो इसके लिए विकासखण्डवार लक्ष्य निर्धारित किए गए है। उन्होंने आमजनों एवं कृषकों से आग्रह किया है कि मधुमक्खी पालन के संबंध में किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त करनी हो अथवा यूनिट स्थापित करना हो तो उद्यानिकी कार्यालय से सीधा सम्पर्क किया जा सकता है। 
एक टिप्पणी भेजें
Loading...