सिनेमा का लोगों के जीवन पर प्रभाव : सोनम कपूर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 30 मार्च 2018

सिनेमा का लोगों के जीवन पर प्रभाव : सोनम कपूर

cinema-effewcts-mass-sonam-kapoor
मुंबई 30 मार्च, बॉलीवुड अभिनेत्री सोनम कपूर का कहना है कि सिनेमा का लोगों के जीवन पर दूरगामी प्रभाव पड़ता है इसलिये कलाकारों को अच्छी तरह से और बड़ी जिम्मेदारी से समझ लेना चाहिए। सोनम ने कहा कि सिनेमा के दूरगामी परिणाम होते है, ऐसे में बॉलीवुड के कलाकारों को उनकी जिम्मेदारी समझनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सिनेमा का लोगों की मानसिकता पर बड़ा प्रभाव पड़ता है, जिसके चलते हमें उनके प्रति उत्तरदायी होना चाहिए। सबसे मुश्किल काम किसी बड़ी फिल्म को ना कहना होता है। कभी कभी मुझे लगता है कि यदि मैंने वह फिल्म कर ली होती तो आज वह हिट होती और मुझे और भूमिकाएं करने को मिलती। मेरी कई फिल्में व्यवसाय की दृष्टि से सफल रही है। हम सभी को एक बात सीखनी चाहिए कि हम में साहस और अच्छी नीयत होना चाहिए। सोनम ने अपने करियर के दौरान ‘पैडमैन’, ‘नीरजा’, ‘दिल्ली 6’, ‘भाग मिल्खा भाग’, ‘खूबसूरत’ और ‘पैड मैन’ जैसी फिल्मों में कई सकारात्मक भूमिकाएं निभाई है और वह इस प्रकार की भूमिकाओं की खोज में ही रहती हैं।

सोनम ने कहा, “मुझे नहीं लगता कि किसी भी भूमिका की लंबाई मायने रखती है। उसमें यह मायने रखता है कि क्या वह सशक्त है। उस भूमिका का फिल्म की कहानी पर क्या प्रभाव पड़ेगा। इसके अलावा किसी की कलाकार के लिए चुनौतीपूर्ण यह होता है कि वह उसकी दी गई भूमिका को पर्दे पर जीवंत कर सकें। मुझे भूमिकाओं में यह अच्छा लगता है कि जिसके माध्यम से मैं उनमें क्या नया कर सकती हूँ। आपके सामने कौन सा अभिनेता है, आपकी भूमिका की लंबाई कितनी है। यह सभी किसी भी काम का शुभारंभ करने के लिए गलत प्रक्रिया है।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...