दरभंगा : ससुर को छोड़ पति के साथ रहने के लिए हुई तैयार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 12 अप्रैल 2018

दरभंगा : ससुर को छोड़ पति के साथ रहने के लिए हुई तैयार

women-ready-to-stay-with-husband
जाले/दरभंगा (आर्यावर्त डेस्क) 12 अप्रैल  : थाना क्षेत्र के एक गांव से बीते सात महीने पूर्व अपने पति को छोड़ अपने चचेरे ससुर के साथ भागी, महिला को स्थानीय सरपंच व स्थानीय पुलिस के सहयोग से उसे अपने घर वापस कर दिया गया. इस संबंध में गुरुवार को सामाजिक सहयोग से ग्राम कचहरी में दोनो पक्षो से बॉन्ड बनवाकर उस महिला को अपने पति के हवाले कर दिया गया. मालूम हो कि 26 वर्षीय एक विवाहिता ने अपने पति समेत दो मासूम बच्चे तीन वर्षीय पुत्र चप्पू कुमार व डेढ़ वर्षीय पुत्री बच्ची रानी को घर में छोड़ दाम्पत्य जीवन को कलंकित करती हुई अपने 66 वर्षीय चचेरे ससुर के साथ कोलकाता भाग कर अपने चचेरे ससुर से अबैध संबन्ध बनाकर परिवारिक रिश्ते को ध्वस्त करते हुए अपना दूसरा घर बसा ली थी. इस कलंकित रिश्ता को ग्रामीणों को नागवार लगा. स्थानीय लोगो ने बच्ची व बच्चे की रोने की आवाज सुन सामाजिक स्तर पर फोन से ही उक्त महिला को मनाने का पूरी कोशिस किया, लेकिन ग्रामीणों की कोशिस नाकाम रहा. उस महिला पर इसका कोई असर नही होता देख, उसके चचेरे स्वसुर को समझाया बुझाया गया, तब जाकर उसे उसके चचेरा ससुर ने उसे वापस उसके घर पति व बच्चों के पास भेजने का वचन दिया. कई दिनों के इंतजार के बाद, वह महिला अपने पति के पास वापस अपने गांव लौट आई. जहां ग्राम कचहरी के सरपंच के समक्ष, ग्रामीणों के न्यायालय में, दोनों पक्ष ने आपसी रजामंदी सामंजस्य के साथ रहने का, शपथपत्र बनाया है व दोनो अपने-अपने बच्चों को गले लगाकर उक्त महिला अपने पति के साथ घर वापस घर लौट गई है.
एक टिप्पणी भेजें
Loading...