‘‘जन जागरुकता पदयात्रा’’ रैली व ज्ञापन के साथ समाप्त - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 2 मई 2018

‘‘जन जागरुकता पदयात्रा’’ रैली व ज्ञापन के साथ समाप्त

ektaa-parishad-pad-yatra
ग्वालियर। इस जिले के भितरवार तहसील के हरसी गांव से प्रारंभ हुई ‘‘जन जागरुकता पदयात्रा’ 42 गांवों से होती हुई आज भितरवार पहुंच कर रैली के रुप में तब्दील हो गई। वंचित वर्ग के लगभग 400 लोगों ने इस रैली में हिस्सा लिया और महामहिम राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन तहसीलदार, भितरवार को सौंपा। इस ज्ञापन में सभी 42 गांवों से संकलित की गई वंचित वर्ग की भूमि तथा अन्य समस्याओं की सूची भी संलग्न की गई। इन समस्याओं में मुख्य रुप से बार-बार आवेदन देने के बावजूद भूमि का सीमांकन का न किया जाना, सहरिया समुदाय की भूमि पर दबंगों का कब्जा, वनभूमि का पट्टा न दिया जाना, सहरिया महिलाओं को 1000 रुपये देने की मुख्यमंत्री की घोषणा का अनुपालन न किया जाना, गांव में केवल बिजली के खम्भे गड़े होने पर लोगों को बिजली का बिल आना जैसी समस्यायें प्रमुख थी। तहसीलदार, भितरवार ने लोगों के समक्ष आ कर ज्ञापन स्वीकार किया और उस पर एकता परिषद के साथियों के साथ मिलकर काम करने का आश्वासन  भी दिया। 

ज्ञापन सौंपने से पूर्व एकता परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री रन सिंह परमार ने कहा कि लाख प्रयास के बावजूद आदिवासियों की समस्या हल नहीं हो पा रही है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की थी कि अप्रैल के महीने में गांव-गांव से समस्या का संकलन किया जायेगा और मई में उसका निराकरण किया जायेगा। एकता परिषद के साथी समूह बनाकर गांव में इन्तजार करते रहे पर कोई नहीं आया तब यह निर्णय लिया गया कि स्वयं पदयात्रा कर समस्याओं को संकलित किया जाये और ज्ञापन सौंपा जाये। संगठन के अध्यक्ष ने फिर से दुहराया कि आदिवासियों को भूमि अधिकार दिलाने के लिये एकता परिषद कृतसंकल्पित है और अगर अगले चार महीनों में सरकार ने कुछ नहीं किया तो आने वाले अक्टूबर में एक बड़ा आन्दोलन ‘‘जनान्दोलन 2018’’ किया जायेगा जिसकी तैयारी अपने अंतिम चरण में है। जिले के समन्वयक श्री डोंगर शर्मा ने कहा कि अगर लोगों की समस्याओं को हल करने की कार्यवाही अगले 20 दिनों में नहीं की जायेगी तो    अनिश्चितकालिन धरना दिया जायेगा। उन्होने कहा कि अब वंचित समुदाय के लोग चुप नहीं बैठेंगे। सरकार अपनी घोषणाओं और वादों को पूरा करने का काम एक समय सीमा के अन्दर करे वरना लोग सड़क पर उतरने की तैयारी में लगे हुए हैं।     
एक टिप्पणी भेजें
Loading...