जम्मू एवं कश्मीर पर ओआईसी के बयान को भारत ने नकारा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 17 मई 2018

जम्मू एवं कश्मीर पर ओआईसी के बयान को भारत ने नकारा

india-refuse-oic-statement-on-kashmir
नई दिल्ली, 17 मई, भारत ने ढाका में इसी महीने आर्गनाइजेशन आफ इस्लॉमिक कांफ्रेंस (ओआईसी) के विदेश मंत्रियों (सीएफएम) की बैठक में जम्मू एवं कश्मीर पर पारित हुए प्रस्ताव को गुरुवार को नकार दिया है। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, "बांग्लादेश के ढाका में 5-6 मई को हुए ओआईसी के विदेश मंत्रियों के 45वें सत्र में जम्मू एवं कश्मीर पर अपनाए गए प्रस्ताव को हमने पूरे खेद के साथ देखा है और हम इसे स्पष्ट रूप से अस्वीकार करते हैं।" विदेश मंत्रालय ने कहा, "हम एक बार फिर स्पष्ट कर रहे हैं कि जम्मू एवं कश्मीर भारत का अभिन्न भाग है और ओआईसी को भारत के आंतरिक मामलों में बोलने का कोई अधिकार नहीं है। हम ओआईसी को ऐसे प्रसंगों से दूर रहने का सुझाव देते हैं।" ओआईसी सीएफएम ने अपनी घोषणा में कहा कि वह अजरबैजान, सूडान, कोमोरस, यमन, लीबिया, सीरिया, माली, सोमालिया, कोट डी आइवरी, केंद्रीय अफ्रीकन गणराज्य, कोसोवो, जम्मू एवं कश्मीर और उत्तरी साइप्रस के साथ-साथ मुस्लिम समुदायों तथा गैर ओआईसी देशों में अल्पसंख्यक मुस्लिमों के साथ इन देशों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के दायरे में अंतर्राष्ट्रीय कानूनों और समझौतों के तहत अपना समर्थन जताते हैं।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...