बिहार : कुलपति से मिला छात्रों का प्रतिनिधिमंडल, पीएच॰डी॰ का इंटरव्यू जून माह में - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 1 जून 2018

बिहार : कुलपति से मिला छात्रों का प्रतिनिधिमंडल, पीएच॰डी॰ का इंटरव्यू जून माह में

  • उपाध्यक्ष मामले में ग्रिवांश सेल की कार्रवाई पूरी, कल के बाद रिपोर्ट होगी सार्वजनिक अध्यक्ष मसले पर कार्रवाई में देरी से प्रतिनिधिमंडल आक्रोश व्यक्त किया, आंदोलन की चेतावनी।

aisf-meet-vc-in-patna-university
पटना आज दिनांक 01जून पटना वि॰वि॰ प्रो॰ रास बिहारी सिंह से आॅल इण्डिया स्टूडेन्ट्स फेडरेशन का पाँच सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल आज कुलपति कार्यालय में मिला। प्रतिनिधिमंडल ने पीएच॰डी॰ की प्रक्रिया में हो रहे विलंब पर कुलपति से जानकारी चाही। कुलपति ने कहा कि 9 जून तक पीएच॰डी॰ मंे आवेदन की तिथि विस्तारित कर दी गई है यह अंतिम बार बढ़ाया गया डेट है। जून माह में इन छात्रों का इंटरव्यू करा दिया जाएगा। कई छात्रों के जे॰आर॰एफ॰ लैप्स करने पर चिन्ता जताने पर कुलपति ने छात्रों को आश्वस्त किया कि कोई ऐसी बाधा नहीं आएगी। वोकेशनल छात्रों का अलाइड विषयों से जोड़कर पीएच॰डी॰ पूरा कराया जाएगा। पीयू छात्रसंघ उपाध्यक्ष योशिता पटवर्द्धन मसले पर हो रही देरी पर उन्होंने कहा कि ग्रिवांश सेल ने अपनी प्रक्रिया पूरी कर ली है। उपाध्यक्ष को भी कार्रवाई की सूचना भेजी जाएगी। छात्रसंघ परिनियम के हिसाब से पत्र प्राप्त होने के 24 घंटे के अंदर वह कुलपति के पास अपील कर सकती है। वहीं अध्यक्ष मसले पर कार्रवाई में अभी और समय लगने पर प्रतिनिधिमंडल ने आक्रोश व्यक्त किया और कहा कि पूरा मसला ही मैच फिक्सिंग की तरह है। आनेवाले दिनों में इस मसले पर आंदोलन की चेतावनी दिया। जबकि सेन्ट्रल लाइब्रेरी को जीरो सेशन में नहीं बन्द करने का आश्वासन कुलपति ने छात्रों को दिलाया।  प्रतिनिधिमंडल में ए॰आई॰एस॰एफ॰ के राज्य सचिव सुशील कुमार, पीयू अध्यक्ष राकेश प्रसाद, मनीष कुमार, शेखर सुमन एवं रामरतन शामिल थे।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...