दुमका : डीडीसी शशि रंजन को दी गई विदाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 12 जून 2018

दुमका : डीडीसी शशि रंजन को दी गई विदाई

dumka-ddc-transfer
दुमका (अमरेन्द्र सुमन) दुमका के निर्वतमान डीडीसी शशि रंजन को सिदो कान्हू मुर्मू विवि  के मिनी कॉन्फ्रेंस  हॉल में दिन सोमवार को भावभीनी विदाई दी गई। इस अवसर पर  छात्राओं ने  स्वागत गान गाया।  कार्यक्रम के संयोजक बनस्पति विज्ञानं विभाग  के अध्यक्ष डॉ संजय कुमार सिन्हा ने डीडीसी  शशि रंजन का स्वागत करते हुए  विभिन्न अवसरों पर विवि को प्रदान किये गये सहयोग को याद किया व आभार प्रगट किया। कुलानुशासक डॉ बी के ठाकुर ने दुमका में  उनके द्वारा किए गए  विकास कार्यों की  सराहना की एवं कुलपति को इस नई परम्परा की शुरुआत के लिए धन्यवाद दिया।   वि वि के इतर भी लोगों  को उनके कार्यों  के लिए विवि सम्मानित करता हो। एसपी कॉलेज के प्राचार्य ने इस बात पर हर्ष जताया की उनका मूल इसी विवि से है , उन्होंने यहाँ के छात्रों के लिए श्री रंजन को प्रेरणा श्रोत बतलाया. अंग्रेजी विभाग के अध्यक्ष डॉ विनोद कुमार झा और छात्र कल्याण अधिष्ठाता डॉ गौरव गांगुली ने भी श्री शशि रंजन द्वारा वि वि को सदेव दिए गये सहयोग के लिए आभार प्रगट किया। निर्वतमान उप विकास आयुक्त ने अपने संबोधन मे अपने व्यक्तित्व अनुभव को साझा किया एवं बतलाया की उनके छात्र जीवन की शुरुआत देवघर कॉलेज से हुई है.बाद मे उनका मर्चंट नेवी और शिपिंग कोरपोरेशन ऑफ इंडिया से जुड़े. उन्होंने बाद मे राजनीति विज्ञानं से स्नातक किया. उन्होंने बतलाया की बिना किसी कोचिंग के उन्होंने प्रशाशनिक सेवा के लिए परीक्षा दी और उसमे सफलता पाई. उन्होंने छात्रों को सन्देश दिया की उनको वही विषय अपनाना चाहिए जिसमे उनकी रूचि हो। कुलपति प्रो मनोरंजन प्रसाद सिन्हा ने श्री शशि रंजन को अंगवस्त्र एवं स्मारिका दे कर सम्मानित किया एवं उनको इस मिटटी की उपज बतलाया. संताल परगना के एक छोटे से गांव से निकलकर श्री रंजन आज इस उचाई तक पहुचे है यह यहाँ के छात्रों को प्रेरणा देगा. साधनहीनता इनके मजबूत इरादे को डिगा नहीं पाई. अपनी मिहनत और स्वाध्याय से वह इस उचाई पर पहुचे हैं. डॉ सिन्हा ने श्री रंजन से अपने हज़रिबाघ के दिनों से सम्बन्ध को बतलाया और जिला प्रशाशन के सदा सहयोगात्मक रुख के लिए आभार प्रगट किया. उन्होंने युवा महोत्सव और राज्यपाल के कार्यक्रमों मे इनके सक्रीय सहयोग को याद किया. प्रो सिन्हा ने कहा की गुमला डी सी के रूप मे वह काफी सफल होंगे ऐसी वह कामना करते है. प्रो अंजुला मुर्मू ने अंत मे धन्यवाद ज्ञापन किया।
एक टिप्पणी भेजें
Loading...